जीडीपी में ऐतिहासिक गिरावट का मुख्य कारण मोदी सरकार का जीएसटी : राहुल गांधी

    rahul gandhi
    व्हाट्सएप चाहता है भारत में पेमेंट प्लेटफॉर्म, बीजेपी के साथ सांठगांठ : राहुल गांधी

    नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष एवं वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में गिरावट के मुद्दे पर केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला है। अर्थव्यवस्था को लेकर तीसरा वीडियो जारी करते हुए राहुल ने कहा कि जीडीपी में इस ऐतिहासिक गिरावट के पीछे का मुख्य कारण ‘गब्बर सिंह टैक्स’ (जीएसटी) है।

    Modi Governments Gst Is The Main Reason For The Historical Decline In Gdp Rahul Gandhi :

    उन्होंने कहा कि मोदी सरकार का ये जीएसटी गरीबों पर आक्रमण है। ये टैक्स छोटे दुकानदार, स्मॉल एंड मीडियम बिजनेस वालों पर, किसान और मजदूरों के हितों पर हमला है। ‘जीएसटी की बात’ शीर्षक से जारी तीसरे वीडियो में राहुल गांधी ने कहा कि “जीडीपी में ऐतिहासिक गिरावट का सबसे बड़ा कारण है गब्बर सिंह टैक्स (जीएसटी)।

    इससे बहुत कुछ बर्बाद हुआ है। जैसे- लाखों छोटे व्यापार, करोड़ों नौकरियां, युवाओं का भविष्य और राज्यों की आर्थिक स्थिति। जीएसटी का मतलब है आर्थिक सर्वनाश।” कांग्रेस सांसद ने कहा कि जीएसटी यूपीए (संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन) सरकार का आइडिया था। जिसमें एक टैक्स, कम से कम टैक्स,साधारण और सरल टैक्स की बात निहित थी। लेकिन एनडीए (राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन) का जीएसटी बिल्कुल अलग है।

    क्यों है जीएसटी में चार अलग-अलग दरें

    चार अलग-अलग टैक्स 28% तक टैक्स और बड़ा कॉम्प्लिकेटेड, समझने को बहुत मुश्किल टैक्स। जो स्मॉल एंड मीडियम बिजनेसेस हैं वह इस टैक्स को भर ही नहीं सकते,  पर जो बड़ी कंपनियां हैं वो इसको 5-10 अकाउंटेंट्स लगाकर आसानी से भर सकती हैं।

    उन्होंने केंद्र से सवाल किया कि आखिर जीएसटी में चार अलग-अलग दरें क्यों हैं? क्या सरकार चाहती है कि जिसकी जितनी पहुंच हो वह उसे अपने हिसाब से बदल पाए। ऐसे में तो छोटे कारोबारी बुरी तरह प्रभावित होंगे। क्योंकि यह सबको पता है कि हिन्दुस्तान में सिर्फ कुछ 15-20 उद्योगपतियों की ही इतनी ऊंची पहुंच है।

    जीएसटी के कारण राज्यों पर पड़ने वाले प्रभाव को भी राहुल गांधी ने रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि आज आज हिंदुस्तान की सरकार राज्य को जीएसटी का पैसा ही नहीं दे पा रही। इसका सीधा असर यह पड़ रहा है कि राज्य सरकार अपने इम्प्लाई और टीचर्स को पैसा नहीं दे पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जीएसटी बिल्कुल फेल.. ना सिर्फ फेल है बल्कि यह एक आक्रमण भी है गरीबों पर, स्मॉल एंड मीडियम बिजनेस पर। जीएसटी टैक्स की व्यवस्था नहीं है, जीएसटी हिंदुस्तान के गरीबों पर आक्रमण है।

    नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष एवं वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में गिरावट के मुद्दे पर केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला है। अर्थव्यवस्था को लेकर तीसरा वीडियो जारी करते हुए राहुल ने कहा कि जीडीपी में इस ऐतिहासिक गिरावट के पीछे का मुख्य कारण ‘गब्बर सिंह टैक्स’ (जीएसटी) है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार का ये जीएसटी गरीबों पर आक्रमण है। ये टैक्स छोटे दुकानदार, स्मॉल एंड मीडियम बिजनेस वालों पर, किसान और मजदूरों के हितों पर हमला है। ‘जीएसटी की बात’ शीर्षक से जारी तीसरे वीडियो में राहुल गांधी ने कहा कि "जीडीपी में ऐतिहासिक गिरावट का सबसे बड़ा कारण है गब्बर सिंह टैक्स (जीएसटी)। इससे बहुत कुछ बर्बाद हुआ है। जैसे- लाखों छोटे व्यापार, करोड़ों नौकरियां, युवाओं का भविष्य और राज्यों की आर्थिक स्थिति। जीएसटी का मतलब है आर्थिक सर्वनाश।" कांग्रेस सांसद ने कहा कि जीएसटी यूपीए (संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन) सरकार का आइडिया था। जिसमें एक टैक्स, कम से कम टैक्स,साधारण और सरल टैक्स की बात निहित थी। लेकिन एनडीए (राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन) का जीएसटी बिल्कुल अलग है।

    क्यों है जीएसटी में चार अलग-अलग दरें

    चार अलग-अलग टैक्स 28% तक टैक्स और बड़ा कॉम्प्लिकेटेड, समझने को बहुत मुश्किल टैक्स। जो स्मॉल एंड मीडियम बिजनेसेस हैं वह इस टैक्स को भर ही नहीं सकते,  पर जो बड़ी कंपनियां हैं वो इसको 5-10 अकाउंटेंट्स लगाकर आसानी से भर सकती हैं। उन्होंने केंद्र से सवाल किया कि आखिर जीएसटी में चार अलग-अलग दरें क्यों हैं? क्या सरकार चाहती है कि जिसकी जितनी पहुंच हो वह उसे अपने हिसाब से बदल पाए। ऐसे में तो छोटे कारोबारी बुरी तरह प्रभावित होंगे। क्योंकि यह सबको पता है कि हिन्दुस्तान में सिर्फ कुछ 15-20 उद्योगपतियों की ही इतनी ऊंची पहुंच है। जीएसटी के कारण राज्यों पर पड़ने वाले प्रभाव को भी राहुल गांधी ने रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि आज आज हिंदुस्तान की सरकार राज्य को जीएसटी का पैसा ही नहीं दे पा रही। इसका सीधा असर यह पड़ रहा है कि राज्य सरकार अपने इम्प्लाई और टीचर्स को पैसा नहीं दे पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जीएसटी बिल्कुल फेल.. ना सिर्फ फेल है बल्कि यह एक आक्रमण भी है गरीबों पर, स्मॉल एंड मीडियम बिजनेस पर। जीएसटी टैक्स की व्यवस्था नहीं है, जीएसटी हिंदुस्तान के गरीबों पर आक्रमण है।