JNU में रावण की जगह जलाया गया पीएम मोदी का पुतला

नई दिल्ली| देश का प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थान जेएनयू एक बार फिर विवादों में है| यहां छात्रों ने दशहरे के दिन रावण का पुतला दहन करने के बजाय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई बड़े भाजपा नेताओं के पुतले का दहन किया| रावण के पुतले में मोदी के सिर के अलावा अमित शाह, नाथूराम गोडसे, स्वामी रामदेव, योगी आदित्यनाथ, आसाराम, साक्षी महाराज और साध्वी प्राची की तस्वीरें लगाई गईं थीं| इतना ही नहीं छात्रों ने स्लोगन भी लिखे हुए थे, बुराई पर सत्य की जीत होकर रहेगी|




इस मौके पर मोदी और अन्य चेहरों के खिलाफ नारेबाजी की भी की गई। ये पुतला कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई ने जेएनयू परिसर में सरस्वती ढाबा के पास जलाया| इस दौरान सैकड़ों छात्र वहां मौजूद थे| एनएसयूआई ने इस मौके पर कहा है कि वीसी के जरिए जेएनयू में मुस्लिम छात्रों को निशाना बनाया जा रहा है| हमने विरोध के लिए विजयादशमी का दिन चुना क्योंकि इसी दिन बाबा साहब अम्बेडकर ने नागपुर में बौद्ध धर्म अपनाया था| एनएसयूआई की तरफ से कहा गया कि हमने जुमलों, झूठ और फरेब के रावण का पुतला फूंका है|

वहीँ, इस मामले को पीएमओ सहित गृह मंत्रालय ने गंभीरता से लिया है| आईबी के एक इनपुट पर गृह मंत्रालय ने दिल्ली पुलिस से संबंधित मामले की रिपोर्ट मांगी है| आईबी के मुताबिक ऐसी विचारधारा के युवकों को आईएस सहित कई प्रतिबंधित संगठन वरगला सकते हैं जिसके चलते काफी बड़ा नुकसान हो सकता है| मामले में गृह मंत्रालय ने दिल्ली पुलिस आयुक्त सहित एचआरडी से मामले की पूर्ण रिपोर्ट मांगी है| मामले में वसंत कुंज थाने में अज्ञात छात्रों के खिलाफ शिकायत दी गई है, जिस पर पुलिस ने मुकद्दमा दर्ज कर लिया है|