दिल्ली पहुंचा AMU विवाद, जामिया मिलिया में लगे ‘जिन्ना प्रेमी भारत छोड़ो’ के नारे

दिल्ली पहुंचा AMU विवाद, जामिया मिलिया में लगे 'जिन्ना प्रेमी भारत छोड़ो' के नारे
दिल्ली पहुंचा AMU विवाद, जामिया मिलिया में लगे 'जिन्ना प्रेमी भारत छोड़ो' के नारे

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश की अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर का मामला अब राजधानी दिल्ली तक पहुंच गया है। नई दिल्ली में जामिया मिलिया इस्लामिया के मेन गेट पर मंगलवार शाम को करीब दो दर्जन प्रदर्शनकारियों ने नारेबाजी की। प्रदर्शनकारियों ने यहां ‘जिन्ना प्रेमी भारत छोड़ो’ और ‘वंदे मातरम’ के नारे लगाए।हालांकि, कुछ देर नारेबाजी करने के बाद प्रदर्शनकारी वापस चले गए।

Mohammad Jinnah Slogans In Delhi Jamia Millia Islamia Amu Uttar Pradesh :

यूं शुरू हुआ विवाद

बता दें कि भाजपा सांसद सतीश गौतम के एएमयू कुलपति प्रो. तारिक मंसूर को 30 अप्रैल को पत्र लिखने के अगले रोज से हंगामा हुआ था। हिंदू जागरण मंच के पुतला फूंकने व तस्वीर उतारने के लिए यूनिवर्सिटी के मुख्य गेट (बॉबे सैयद) तक पहुंच गए। इन युवकों के खिलाफ रिपोर्ट लिखाने के लिए थाने जा रहे छात्रों ने अभद्रता की तो पुलिस ने लाठी चार्ज किया। दर्जनों छात्र पिटे। इसके बाद ही छात्र धरने पर हैं।

दरअसल, बीजेपी सांसद सतीश गौतम ने यूनिवर्सिटी के वीसी से छात्रसंघ हॉल में लगी जिन्ना की तस्वीर हटाने की मांग की थी। जिसके बाद इस मामले पर सियासत शुरू हुई थी। इसके बाद बुधवार को हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं ने जिन्ना की तस्वीर हटाने की मांग करते हुए AMU के बाहर जमकर विरोध प्रदर्शन किया. उन पर पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के कार्यक्रम में दखल डालने की कोशिश का भी आरोप लगा। जिसके बाद 6 कार्यकर्ताओं को पुलिस के हवाले कर दिया गया था।

छात्रसंघ ने आरोप लगाया था कि हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की और बिना मामला दर्ज किए छोड़ दिया। इससे नाराज छात्रसंघ पदाधिकारी थाने पहुंचे और विरोध किया। आरोप था कि इस दौरान छात्र एसपी सिटी से धक्का-मुक्की करने लगे थे। जिसके बाद पुलिस ने छात्रों पर लाठीचार्ज कर दिया और इसमें करीब 15 छात्र घायल हुए थे।

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश की अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर का मामला अब राजधानी दिल्ली तक पहुंच गया है। नई दिल्ली में जामिया मिलिया इस्लामिया के मेन गेट पर मंगलवार शाम को करीब दो दर्जन प्रदर्शनकारियों ने नारेबाजी की। प्रदर्शनकारियों ने यहां 'जिन्ना प्रेमी भारत छोड़ो' और 'वंदे मातरम' के नारे लगाए।हालांकि, कुछ देर नारेबाजी करने के बाद प्रदर्शनकारी वापस चले गए।

यूं शुरू हुआ विवाद

बता दें कि भाजपा सांसद सतीश गौतम के एएमयू कुलपति प्रो. तारिक मंसूर को 30 अप्रैल को पत्र लिखने के अगले रोज से हंगामा हुआ था। हिंदू जागरण मंच के पुतला फूंकने व तस्वीर उतारने के लिए यूनिवर्सिटी के मुख्य गेट (बॉबे सैयद) तक पहुंच गए। इन युवकों के खिलाफ रिपोर्ट लिखाने के लिए थाने जा रहे छात्रों ने अभद्रता की तो पुलिस ने लाठी चार्ज किया। दर्जनों छात्र पिटे। इसके बाद ही छात्र धरने पर हैं।दरअसल, बीजेपी सांसद सतीश गौतम ने यूनिवर्सिटी के वीसी से छात्रसंघ हॉल में लगी जिन्ना की तस्वीर हटाने की मांग की थी। जिसके बाद इस मामले पर सियासत शुरू हुई थी। इसके बाद बुधवार को हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं ने जिन्ना की तस्वीर हटाने की मांग करते हुए AMU के बाहर जमकर विरोध प्रदर्शन किया. उन पर पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के कार्यक्रम में दखल डालने की कोशिश का भी आरोप लगा। जिसके बाद 6 कार्यकर्ताओं को पुलिस के हवाले कर दिया गया था।छात्रसंघ ने आरोप लगाया था कि हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की और बिना मामला दर्ज किए छोड़ दिया। इससे नाराज छात्रसंघ पदाधिकारी थाने पहुंचे और विरोध किया। आरोप था कि इस दौरान छात्र एसपी सिटी से धक्का-मुक्की करने लगे थे। जिसके बाद पुलिस ने छात्रों पर लाठीचार्ज कर दिया और इसमें करीब 15 छात्र घायल हुए थे।