1. हिन्दी समाचार
  2. मनी लॉन्ड्रिंग: केस दर्ज होने पर बोले पवार, कहा- किसी ने जेल भेजने की योजना बनाई है तो स्वागत करता हूं

मनी लॉन्ड्रिंग: केस दर्ज होने पर बोले पवार, कहा- किसी ने जेल भेजने की योजना बनाई है तो स्वागत करता हूं

Money Laundering Pawar Said On The Registration Of The Case Said If Someone Has Planned To Send Me To Jail I Welcome

By रवि तिवारी 
Updated Date

मुंबई। महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के लिए जारी प्रचार के बीच प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने महाराष्ट्र सहकारी बैंक घोटाला मामले में एनसीपी प्रमुख शरद पवार और उनके भतीजे अजीत पवार के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है। यह घोटाला करीब 25 हजार करोड़ का बताया जा रहा है। वहीं, शरद पवार ने अपने ऊपर लगे आरोप पर कहा है कि उन्हें जेल जाने से कोई पेरशानी नहीं है।  

पढ़ें :- रामपुर:मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी की चौदह सौ बीघा जमीन सरकार के नाम करने के आदेश,जाने पूरा मामला

कोऑपरेटिव बैंक घोटाले में दर्ज हुए मामले का जिक्र करते हुए एनसीपी चीफ पवार ने कहा, ‘मुझे कोई समस्या नहीं होगी अगर मुझे जेल जाना पड़ता है। इससे मुझे खुशी होगी क्योंकि मेरा पहले कभी जेल जाने का अनुभव नहीं रहा है। अगर कोई मुझे जेल भिजवाने की तैयारी कर रहा है तो मैं इसका स्वागत करता हूं।’  

चुनाव से पहले दर्ज हुआ मामला

यह मामला ऐसे समय पर दर्ज किया गया है जब महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होने हैं। माना जा रहा है कि आरोपियों को एजेंसी द्वारा जल्द ही उनके बयान दर्ज करने के लिये समन किया जाएगा। ईडी मामले में आरोपियों में दिलीपराव देशमुख, इशरलाल जैन, जयंत पाटिल, शिवाजी राव, आनंद राव अदसुल, राजेंद्र शिंगाने और मदन पाटिल शामिल हैं। राज्य की आर्थिक अपराध शाखा (EOW) द्वारा दर्ज शिकायत के आधार पर इस साल अगस्त में मुंबई पुलिस ने एक प्राथमिकी दर्ज की थी। मुंबई पुलिस द्वारा दर्ज प्राथमिकी के आधार पर ईडी ने धनशोधन के आरोप में आपराधिक आरोप लगाए हैं।

25 हजार करोड़ रुपए का नुकसान

पढ़ें :- महराजगंज:सिसवा को हरा बड़हरा की टीम बनी विजेता

ईओडब्ल्यू से बॉम्बे हाईकोर्ट ने मामला दर्ज करने को कहा था। इससे पहले जज एस सी धर्माधिकारी और जज एस के शिंदे ने कहा था कि इस मामले में आरोपियों के खिलाफ विश्वसनीय साक्ष्य हैं। पुलिस द्वारा दर्ज एफआईआर के मुताबिक, एक जनवरी 2007 से 31 मार्च 2017 के बीच हुए महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक घोटाले के कारण सरकारी खजाने को कथित तौर पर 25 हजार करोड़ रुपए का नुकसान हुआ।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...