दुधमुंहे मासूम को मां के हाथ से छीन ले गया बंदर और फिर….

agra-monkey
दुधमुंहे मासूम को मां के हाथ से छीन ले गया बंदर और फिर....

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के आगरा जिले से बेहद दर्दनाक मामला सामने आया है। यहां एक दुधमुंहे बच्चे को बंदर ने मां के हाथ से छीनकर फेंक दिया। जिससे मासूम की मौत हो गयी। बताया जा रहा है, 12 दिन पहले ही मासूम का जन्म हुआ था। स्थानीय लोगों के मुताबिक, इलाके में बंदरों का बहुत आतंक है। बंदर लोगों के हाथों से सामान छीनकर भाग जाते हैं और कई बार लोगों पर हमला कर उन्हे घायल भी कर देते हैं।

Monkey Snatched New Born From Mother And Killed Him In Agra :

दरअसल, रुनकता इलाके के कछारा ठोक कॉलोनी में योगेश का घर है। योगेश ऑटो रिक्शा ड्राइवर हैं। उनकी नेहा से दो साल पहले शादी हुई थी। दोनों के घर में 12 दिन पहले बच्चे आरुष का जन्म हुआ था। नेहा का कहना है कि वो रात में बच्चे आरुष को दूध पिला रही थीं, घर का दरवाजा खुला था। तभी एक बंदर अचानक घर के अंदर घुस आया। नेहा कुछ समझ पातीं इससे पहले बंदर ने आरुष को गर्दन से उठा लिया और बाहर की ओर भागा।

नेहा भी चिल्लाती हुई बंदर के पीछे भागीं। बंदर भागकर पड़ोसी की छत पर चढ़ गया। नेहा की आवाज सुनकर लोग घरों से बाहर निकले। सबने बंदर को भगाया तो वह आरुष को वहीं फेंककर भाग गया। आरुष की गर्दन से काफी खून बह रहा था। वे लोग उसे पास के प्राइवेट अस्पताल ले गए जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

सब इंस्पेक्टर अतबीर सिंह ने बताया कि बच्चे का शव पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया था। पोस्टमॉर्टम में बच्चे के सिर और गले में घाव और चोटें मिली हैं।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के आगरा जिले से बेहद दर्दनाक मामला सामने आया है। यहां एक दुधमुंहे बच्चे को बंदर ने मां के हाथ से छीनकर फेंक दिया। जिससे मासूम की मौत हो गयी। बताया जा रहा है, 12 दिन पहले ही मासूम का जन्म हुआ था। स्थानीय लोगों के मुताबिक, इलाके में बंदरों का बहुत आतंक है। बंदर लोगों के हाथों से सामान छीनकर भाग जाते हैं और कई बार लोगों पर हमला कर उन्हे घायल भी कर देते हैं। दरअसल, रुनकता इलाके के कछारा ठोक कॉलोनी में योगेश का घर है। योगेश ऑटो रिक्शा ड्राइवर हैं। उनकी नेहा से दो साल पहले शादी हुई थी। दोनों के घर में 12 दिन पहले बच्चे आरुष का जन्म हुआ था। नेहा का कहना है कि वो रात में बच्चे आरुष को दूध पिला रही थीं, घर का दरवाजा खुला था। तभी एक बंदर अचानक घर के अंदर घुस आया। नेहा कुछ समझ पातीं इससे पहले बंदर ने आरुष को गर्दन से उठा लिया और बाहर की ओर भागा। नेहा भी चिल्लाती हुई बंदर के पीछे भागीं। बंदर भागकर पड़ोसी की छत पर चढ़ गया। नेहा की आवाज सुनकर लोग घरों से बाहर निकले। सबने बंदर को भगाया तो वह आरुष को वहीं फेंककर भाग गया। आरुष की गर्दन से काफी खून बह रहा था। वे लोग उसे पास के प्राइवेट अस्पताल ले गए जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। सब इंस्पेक्टर अतबीर सिंह ने बताया कि बच्चे का शव पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया था। पोस्टमॉर्टम में बच्चे के सिर और गले में घाव और चोटें मिली हैं।