1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. मानसून आंखों की देखभाल: यहां बताया गया है कि संक्रमण और जलन से कैसे दूर रहें

मानसून आंखों की देखभाल: यहां बताया गया है कि संक्रमण और जलन से कैसे दूर रहें

यह महत्वपूर्ण है कि आप अपनी स्वच्छता बनाए रखें और समय-समय पर ठंडे पानी से धोने सहित अपनी आंखों का बहुत ध्यान रखें।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

जहां कई लोग मानसून का आनंद लेते हैं, वहीं मौसम में बदलाव और आर्द्रता में वृद्धि के कारण मौसम अपने साथ बैक्टीरिया और वायरल संक्रमण भी लाता है। ऐसे में अपनी सेहत का ध्यान रखना जरूरी हो जाता है।

पढ़ें :- Health Tips: जानिए 5 कारण जो बताते है की देर रात व्यायाम क्यों नहीं करना चाहिए

इंडस हेल्थ प्लस की प्रबंध निदेशक और निवारक स्वास्थ्य विशेषज्ञ कंचन नायकवाड़ी का कहना है कि मानसून के मौसम में आंखें प्रभावित होती हैं। जबकि कोविड -19 महामारी में मुंह, नाक और हाथ की सुरक्षा के बारे में पर्याप्त जागरूकता है, कई लोग अपनी आंखों की सुरक्षा के बारे में अनजान हो सकते हैं।नाइकवाड़ी कुछ आसान सावधानियां साझा करता है जो अच्छी आंखों की देखभाल के लिए मानसून के दौरान की जा सकती हैं।

हाइजीनिक रहें: चेहरे के तौलिये, रुमाल, रूमाल, कोई भी कपड़ा जिसे आप अपनी आंखों के पास लाते हैं और अपने हाथ हमेशा साफ रखें। अपने व्यक्तिगत सामान जैसे तौलिये, चश्मा, कॉन्टैक्ट लेंस आदि किसी के साथ साझा न करें।

* घर से बाहर निकलते समय एक जोड़ी धूप का चश्मा या चश्मा पहनें: वे आंखों को किसी भी विदेशी पदार्थ और वायरस और बैक्टीरिया जैसे संक्रामक एजेंटों के संपर्क में आने से रोकते हैं।

* आंखों का रखें खास ख्याल: आंखों को रोजाना ठंडे पानी से धोएं। जागने के बाद या कॉन्टैक्ट लेंस को हटाने के बाद अपनी आंखों को जोर से न रगड़ें क्योंकि इससे कॉर्निया को स्थायी रूप से नुकसान हो सकता है।

पढ़ें :- Saridon: सिर्फ 1 सेरिडोन दूर कर सकता है सिरदर्द, चिंता, अनिद्रा, अवसाद और माइग्रेन जैसे अनेक स्वास्थ्य जोखिमों को

* मानसून के दौरान कॉन्टैक्ट लेंस न पहनने का प्रयास करें: वे आंखों में अत्यधिक सूखापन पैदा कर सकते हैं और इसके परिणामस्वरूप लालिमा और जलन हो सकती है। अपने चश्मे को साफ और सूखा रखें।

* जलभराव वाले क्षेत्रों से बचें: उनमें बहुत सारे वायरस, बैक्टीरिया और फंगस होते हैं जो स्थानांतरित हो सकते हैं और नुकसान पहुंचा सकते हैं।

* संतुलित और स्वस्थ आहार लें: किसी भी संक्रमण से लड़ने के लिए अपने शरीर को स्वस्थ और प्रतिरक्षा प्रणाली को बरकरार रखें।

नाइकवाड़ी कहते हैं, आमतौर पर बारिश के मौसम में होने वाले संक्रमण न केवल डरावने होते हैं बल्कि काफी हानिकारक भी होते हैं।

सबसे आम हैं:

पढ़ें :- नवरात्रि 2021 उपवास युक्तियाँ: उपवास करते समय वजन कम करने के लिए इन 5 सरल युक्तियों का करें पालन

1. नेत्रश्लेष्मलाशोथ या नेत्र फ्लू: यह हमारी आंखों के सफेद भाग में जलन या सूजन है। यह बेहद संक्रामक है और संपर्क में आने से भी फैलता है। हालांकि एक दो दिनों में संक्रमण दूर हो जाता है, लेकिन अपनी आंखों को ढक कर रखना जरूरी है।

2. स्टाई: एक संक्रमण जब पलक के किनारे के पास एक लाल दर्दनाक गांठ बन जाती है जो फोड़े या फुंसी की तरह लग सकती है। स्टाय मवाद से भरे होते हैं और कभी-कभी पलक के अंदरूनी हिस्से पर भी बन सकते हैं। एक दो दिनों में एक स्टाई अपने आप गायब हो जाएगी लेकिन नियमित रूप से गर्म कपड़े धोने से दर्द और परेशानी में मदद मिलेगी। उबाल को फोड़ने की कोशिश न करें।

3. कॉर्नियल अल्सर: यह कॉर्निया पर एक खुला घाव है और इसके परिणामस्वरूप मवाद का निर्वहन, गंभीर दर्द और दृष्टि का धुंधलापन होता है। यह एक गंभीर संक्रमण है जिसका उचित इलाज न होने पर दृष्टि की हानि और स्थायी अंधापन हो सकता है।

सालाना आधार पर व्यापक आंखों की जांच के लिए जाना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह आपके नेत्र चिकित्सक को आपके रेटिना में रक्त वाहिकाओं के स्वास्थ्य और स्थिति का निरीक्षण और मूल्यांकन करने में सक्षम बनाता है, जो पूरे रक्त वाहिकाओं के स्वास्थ्य का एक अच्छा भविष्यवक्ता हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह content केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से qualified medical opinion का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से सलाह लें। Parda Phash इस जानकारी की जिम्मेदारी नहीं लेता है।

पढ़ें :- विश्व अंडा दिवस 2021: 5 आश्चर्यजनक स्वास्थ्य लाभ जो अंडे को सुपर फ़ूड बनाते हैं
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...