मुरादाबाद:भारतीय किसान यूनियन का धरना प्रदर्शन,पेट्रोल व डीजल की कीमतों पर लगाम लगाये सरकार

Polish_20200701_180556041

भारत मे लगातार बढ़ रही पेट्रोल और डीजल की कीमतों को लेकर आज भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारियों द्वारा उपजिलाधिकारी कांठ द्वारा अपनी मांगों का ज्ञापन भारत के प्रधानमंत्री को भेजा गया,भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारियों का कहना है कि आज देश का किसान नकदी के संकट से जूझ रहा है जिसका प्रभाव खरीफ की बुवाई पर पड़ रहा है साथ ही देश में लगातार बढ़ रही डीजल पेट्रोल की कीमतों पर भारतीय किसान यूनियन ने धरना प्रदर्शन किया देश में डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं जिसका सीधा असर किसानों पर पड़ रहा है

Moradabad Demonstration By Indian Farmers Union Government To Curb Petrol And Diesel Prices :

साथ ही भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारियों का कहना था कि पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी में शामिल किया जाए साथ ही लॉक डाउन के अंतर्गत फल, सब्जी, दूध, मधुमक्खी व फूल उत्पादक किसानों के नुकसान की भरपाई हेतु सरकार द्वारा अधिकतम राहत पैकेज दिया जाना चाहिए,किसान सम्मान निधि का लाभ पहली किस्त की तरह सभी किसानों को दिया जाए किसान सम्मान निधि की राशि ₹6000 से बढ़ाकर ₹24000 की जाए न्यूनतम समर्थन मूल्य को कानून के दायरे में लाकर खरीद करने वालों पर कार्रवाई करते हुए किसानों में हो रही लूट से रोका जाए।

भारतीय किसान यूनियन के मण्डल अध्यक्ष ऋषिपाल सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि आज हम एक राष्ट्रीय आह्वान के तहत इकट्ठा हुए हैं जिसमे किसानों पर हो रहे अत्याचार व पेट्रोल व डीजल की कीमतों में हो रही लगातार बढ़ोतरी को लेकर धरना प्रदर्शन किया गया हमने एक ज्ञापन उपजिलाधिकारी कांठ के द्वारा भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी को भेजा है जिसमे किसानों की समस्या को बताया गया है,साथ ही उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस कर चलते पूरे देश मे हाहाकार मचा हुआ है, हम देश के प्रधानमंत्री से कहना चाहते हैं कि इस समय किसान मजबूर है किसानों को बिजली के बिल में छूट दी जानी चाहिए।

रिपोर्ट:-रूपक त्यागी

भारत मे लगातार बढ़ रही पेट्रोल और डीजल की कीमतों को लेकर आज भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारियों द्वारा उपजिलाधिकारी कांठ द्वारा अपनी मांगों का ज्ञापन भारत के प्रधानमंत्री को भेजा गया,भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारियों का कहना है कि आज देश का किसान नकदी के संकट से जूझ रहा है जिसका प्रभाव खरीफ की बुवाई पर पड़ रहा है साथ ही देश में लगातार बढ़ रही डीजल पेट्रोल की कीमतों पर भारतीय किसान यूनियन ने धरना प्रदर्शन किया देश में डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं जिसका सीधा असर किसानों पर पड़ रहा है साथ ही भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारियों का कहना था कि पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी में शामिल किया जाए साथ ही लॉक डाउन के अंतर्गत फल, सब्जी, दूध, मधुमक्खी व फूल उत्पादक किसानों के नुकसान की भरपाई हेतु सरकार द्वारा अधिकतम राहत पैकेज दिया जाना चाहिए,किसान सम्मान निधि का लाभ पहली किस्त की तरह सभी किसानों को दिया जाए किसान सम्मान निधि की राशि ₹6000 से बढ़ाकर ₹24000 की जाए न्यूनतम समर्थन मूल्य को कानून के दायरे में लाकर खरीद करने वालों पर कार्रवाई करते हुए किसानों में हो रही लूट से रोका जाए। भारतीय किसान यूनियन के मण्डल अध्यक्ष ऋषिपाल सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि आज हम एक राष्ट्रीय आह्वान के तहत इकट्ठा हुए हैं जिसमे किसानों पर हो रहे अत्याचार व पेट्रोल व डीजल की कीमतों में हो रही लगातार बढ़ोतरी को लेकर धरना प्रदर्शन किया गया हमने एक ज्ञापन उपजिलाधिकारी कांठ के द्वारा भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी को भेजा है जिसमे किसानों की समस्या को बताया गया है,साथ ही उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस कर चलते पूरे देश मे हाहाकार मचा हुआ है, हम देश के प्रधानमंत्री से कहना चाहते हैं कि इस समय किसान मजबूर है किसानों को बिजली के बिल में छूट दी जानी चाहिए। रिपोर्ट:-रूपक त्यागी