1. हिन्दी समाचार
  2. मुरादाबाद:बाल संप्रेक्षण ग्रह का औचक निरीक्षण,परिजनों से मिलने पर लगाई पाबंदी

मुरादाबाद:बाल संप्रेक्षण ग्रह का औचक निरीक्षण,परिजनों से मिलने पर लगाई पाबंदी

Moradabad Surprise Observation Of Child Communication Planet Ban On Visiting Family

By a tyagi 
Updated Date

उत्तर प्रदेश बाल आयोग की ओर से आज मुरादाबाद की बाल संरक्षण संस्थाओं में खासतौर पर संप्रेक्षण ग्रह ,नारी निकेतन और ओपन शेल्टर होम में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए किए गए उपायों का निरीक्षणआत्मक समीक्षा की गई। लॉक डाउन से पूर्व तक संप्रेक्षण ग्रह के बच्चों द्वारा किए गए रचनात्मक कार्यों मसलन ऑफिस फाइल और टोकरी बनाने की प्रक्रिया को भी आयोग के अध्यक्ष द्वारा देखा गया।जिला प्रोबेशन अधिकारी एवं उनके स्टाफ को स्वच्छता,सोशल डिस्टेंस का संरक्षण करने और बाहर से बिल्कुल आवागमन बंद रखने के दिशा निर्देश भी आयोग के अध्यक्ष द्वारा दिए गए।

पढ़ें :- दिल्ली घटना के पीछे काम कर रही है कोई अदृश्य शक्ति, शिवसेना सांसद ने केन्द्र सरकार को ठहराया जिम्मेदार

सोमवार को संप्रेक्षण ग्रह ,नारी निकेतन और ओपन शेल्टर होम में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए किए गए उपायों में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए किए गए उपायों का औचक निरीक्षण कर हक़ीक़त परखी गई,इस दौरान आयोग के अध्यक्ष के द्वारा सोशल डिस्टेंसिङ्ग,सेनेटाईज़र,साफ़ सफ़ाई आदि गंभीर विषयो पर यहां रह रहे लोगो से बात की गई व जिला प्रोबेशन अधिकारी को भी दिशा निर्देशित किया गया।
किशोर संप्रेक्षण ग्रह में 50 लोगो के रहने की व्यवस्था है किंतु 97 बच्चों को रखा गया है,अधिक संख्या में बच्चे जरूर मीले पर सोशल डिस्टेंसिङ्ग का पालन करते हुए पाए गए,सभी बच्चे मास्क लगाए पाए गए, ऐसे ही महिला शरणालय में भी हाल देखा गया,25 के स्थान पर 36 लोग वहां भी रह रहे है, वहां भी अधिक संख्या में लोगो को रखा गया है,जिसपर आयोग के अध्यक्ष ने सोशल डिस्टेंसिङ्ग मेन्टेन करने के सख्त निर्देश जिला प्रोबेशन अधिकारी को दिए,बाहर से मिलने जुलने वाले लोगो पर पाबंदी लगाई गई है,संप्रेक्षण ग्रह में भी पेरेंट्स को मिलने जुलने पर पाबंदी लगाई गई है साथ ही स्टाफ को भी बाहर से आने जाने पर प्रतिबंधित किया गया है।बच्चों में भी कोरोना के प्रति जागरूकता देखी गई,निरीक्षण में आयोग के अध्यक्ष को छुटपुट कमियां मिली जिसे जल्द से जल्द दूर करने के आदेश संबंधित अधिकारियों को दिए गए।

मुरादाबाद की बाल संरक्षण संस्थाओं संप्रेक्षण ग्रह ,नारी निकेतन और ओपन शेल्टर होम में रह रहे बच्चों के द्वारा रचनात्मक कार्य भी हो रहे है,बच्चों के द्वारा डलियो का निर्माण बहुत ही ख़ूबसूरती व बारीकी से किया जा रहा है साथ ही बच्चों के द्वारा सरकारी फाइलों का निर्माण भी हो रहा है।निरीक्षण के दौरान बाल सरंक्षण आयोग के अध्यक्ष ने बालको का उत्साहवर्धन किया और लॉक डाउन के बाद इस रचनात्मक कार्य के लिए बाजार विकसित करने का भरोसा दिलाया।

रिपोर्ट:-रूपक त्यागी

पढ़ें :- ट्रैक्टर रैली में बवाल के बाद गृह मंत्रालय सख्त, दिल्‍ली में तैनात होंगी 15 पैरामिलिट्री जवानों की कंपनियां

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...