मुरादाबाद में भूमाफियाओं के अच्छे दिन, नई वीसी कनक त्रिपाठी का मिला संरक्षण

मुरादाबाद। यूपी की पीतल नगरी यानी मुरादाबाद में इन दिनों अवैध शॉपिंग काम्पलेक्स के निर्माण, सीलिंग की जमीनों पर रिहाइशी अपार्टमेंटस का निर्माण और रामगंगा नदी के किनारे खाली एकड़ों जमीन पर धड़ल्ले से अवैध रिहाइशी कालोनियों का डेवलपमेंट हो रहा है। वहीं दूसरी ओर प्राधिकरण से एनओसी और नक्शा पास करवाकर अपने प्रोजेक्ट चला रहे प्राइवेट डेवलपर्स का शोषण किया जा रहा है। शहर के ही व्यापारी नेताओं का कहना है कि मुरादाबाद विकास प्राधिकरण की नई वीसी कनक त्रिपाठी बसपा के एक नेता के इशारे पर काम कर रहीं हैं।

कनक त्रिपाठी और बसपा नेता के बीच के कनेक्शन को मायावती सरकार में ताकतवर रहे उनके भाई आईएएस विजय शंकर पाण्डेय के संबन्धों से जोड़कर देखा जा रहा है। आरोप है कि चलते कनक त्रिपाठी ने संप्रदाय विशेष से आने वाले बसपा नेता के इशारे पर भूमाफियाओं को अपना संरक्षण दे रखा है। इसी नेता के इशारे पर ही प्राधिकरण के अधिकारियों ने उन निर्माणाधीन प्राइवेट प्रोजक्ट्स पर ताले लगवा दिए हैं जिनकी फाइलें प्राधिकरण पहले ही पास कर चुका है।

आरोप है कि इसी बसपा नेता के सरपरस्ती में शहर के पुराने काली मंदिर से लेकर कटघर तक रामगंगा के किनारे खाली पड़ी कई सौ एकड़ जमीन पर अवैध कालोनियां डेवलप हो रहीं हैं। प्राधिकरण ने इन अवैध कालोनियों पर अपनी आंखें मूंद रखीं हैं।

आपको बता दें कि कनक त्रिपाठी को बतौर वीसी मुरादाबाद प्राधिकरण चार्ज लिए करीब 15 दिन ही बीते हैं। तीन दिन आॅफिस आने के बाद से वह छुट्टी पर हैं। प्राधिकरण वीसी के आदेश को अपनी ड्यूटी बताकर कार्रवाईयों को अंजाम दे रहे हैं। प्राधिकरण के एक अधिकारी ने भी नाम सामने न लाए जाने की शर्त पर बसपा नेता की भूमिका के बारे में जानकारी दी है।