16 करोड़ से ज्‍यादा होगी Infosys के नए CEO सलिल पारेख की सैलरी!

salil-parekh

बेंगलुरू। अपने शीर्ष अधिकारी को उच्च वेतन देने पर होने वाली संभावित आलोचना को रोकने के लिए वैश्विक सॉफ्टवेयर दिग्गज इंफोसिस ने कहा कि वह नए मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक सलिल एस. पारेख को 16.25 करोड़ रुपये का सालाना वेतन देगी।

More Than 16 Crores Salil Parekhs New Ceo Of Infosys :

बंबई शेयर बाजार को दी गई नियामकीय सूचना में कंपनी ने कहा कि 6.5 करोड़ रुपये के नियत वेतन और 9.75 करोड़ रुपये के परिवर्तनीय वेतन के अतिरिक्त पारेख को 3.5 करोड़ रुपये के बराबर सीमित स्टॉक यूनिट या शेयर मिलेगा और 13 करोड़ रुपये का वार्षिक प्रदर्शन इक्विटी अनुदान मिलेगा। इस तरह कुल मिलाकर उन्हें पांच सालों के लिए 32.5 करोड़ (50 लाख डॉलर) का पैकेज दिया जा रहा है।

पारेख का समग्र सालाना वेतन कंपनी द्वारा पूर्व सीईओ विशाल सिक्का को दिए गए 1.16 करोड़ डॉलर से 45 फीसदी कम है। सिक्का इस पद पर 1 अगस्त 2014 से 24 अगस्त 2017तक रहे।इंफोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति ने सिक्का को इतना अधिक वेतन देने के लिए कई बार आलोचना की थी और कहा था कि शीर्ष अधिकारियों का वेतन सीमित होना चाहिए।

पारेख को वेतन और शेयरों के अलावा उनके कार्यकारी पद पर लागू होनेवाले स्वास्थ्य और जीवन बीमा के लाभ भी मिलेंगे। नियामकीय फाइलिंग में कंपनी ने कहा, पैकेज में पेड छुट्टियां, यात्रा और मनोरंजन खर्च भी शामिल है, जो कंपनी के कार्यकारी को दिए जाते हैं। नियुक्ति के प्रस्ताव के अन्य नियमों के अनुसार पारेख का पांच साल का कार्यकाल खत्म होने के बाद उन्हें तीन साल और नवीनीकृत करने का विकल्प होगा, जो शेयरधारकों की मंजूरी पर निर्भर होगा।

फाइलिंग में कहा गया, 53 वर्षीय पारेख 60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त हो जाएंगे।अपने कार्यकाल के दौरान कंपनी को छोड़ने के लिए पारेख या कंपनी को तीन महीनों का नोटिस देना होगा।

बेंगलुरू। अपने शीर्ष अधिकारी को उच्च वेतन देने पर होने वाली संभावित आलोचना को रोकने के लिए वैश्विक सॉफ्टवेयर दिग्गज इंफोसिस ने कहा कि वह नए मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक सलिल एस. पारेख को 16.25 करोड़ रुपये का सालाना वेतन देगी।बंबई शेयर बाजार को दी गई नियामकीय सूचना में कंपनी ने कहा कि 6.5 करोड़ रुपये के नियत वेतन और 9.75 करोड़ रुपये के परिवर्तनीय वेतन के अतिरिक्त पारेख को 3.5 करोड़ रुपये के बराबर सीमित स्टॉक यूनिट या शेयर मिलेगा और 13 करोड़ रुपये का वार्षिक प्रदर्शन इक्विटी अनुदान मिलेगा। इस तरह कुल मिलाकर उन्हें पांच सालों के लिए 32.5 करोड़ (50 लाख डॉलर) का पैकेज दिया जा रहा है।पारेख का समग्र सालाना वेतन कंपनी द्वारा पूर्व सीईओ विशाल सिक्का को दिए गए 1.16 करोड़ डॉलर से 45 फीसदी कम है। सिक्का इस पद पर 1 अगस्त 2014 से 24 अगस्त 2017तक रहे।इंफोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति ने सिक्का को इतना अधिक वेतन देने के लिए कई बार आलोचना की थी और कहा था कि शीर्ष अधिकारियों का वेतन सीमित होना चाहिए।पारेख को वेतन और शेयरों के अलावा उनके कार्यकारी पद पर लागू होनेवाले स्वास्थ्य और जीवन बीमा के लाभ भी मिलेंगे। नियामकीय फाइलिंग में कंपनी ने कहा, पैकेज में पेड छुट्टियां, यात्रा और मनोरंजन खर्च भी शामिल है, जो कंपनी के कार्यकारी को दिए जाते हैं। नियुक्ति के प्रस्ताव के अन्य नियमों के अनुसार पारेख का पांच साल का कार्यकाल खत्म होने के बाद उन्हें तीन साल और नवीनीकृत करने का विकल्प होगा, जो शेयरधारकों की मंजूरी पर निर्भर होगा।फाइलिंग में कहा गया, 53 वर्षीय पारेख 60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त हो जाएंगे।अपने कार्यकाल के दौरान कंपनी को छोड़ने के लिए पारेख या कंपनी को तीन महीनों का नोटिस देना होगा।