बेटे के दोस्त से थे अवैध संबंध, रोका तो मां ने ही कर दिया लड़के का मर्डर

delhi

नई दिल्ली। पूर्वी दिल्ली के न्यू अशोक नगर इलाके में कलयुगी मां ने आशिक के साथ मिलकर अपने बेटे की हत्या कर दी।तफ्तीश में पुलिस को पता चला कि युवक के एक दोस्त और युवक की मां के बीच संबंध थे, जिसका विरोध करने पर मां और उसके दोस्त ने मिलकर इस वारदात को अंजाम दिया। पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। मौके से मर्डर में इस्तेमाल हुए ईंट, डंडा और गमछा भी बरामद कर लिए हैं। लाश को पोस्टमॉर्टम के लिए मॉर्चरी में भिजवा दिया गया है।

Mother Kills Sons After Caught Red Handed Making Love With Boyfriend :

पुलिस के मुताबिक, रविवार सुबह सूचना मिली कि न्यू अशोक नगर में झंडे वाला चौक के पास एक युवक का मर्डर हो गया है। मृतक की पहचान रवींद्र पाठक (30) के रूप में हुई। वह पेशे से ड्राइवर था और अपनी मां सुभद्रा देवी (51) और दोस्त अजीत (30) के साथ यहां रहता था। पिता यूपी के बस्ती जिले में स्थित अपने गांव में रहते हैं। रवींद्र शादीशुदा था, लेकिन पत्नी उसे छोड़कर जा चुकी थी। बिहार का रहने वाला अजीत काफी समय से इनलोगों के साथ ही रह रहा था। वह रवींद्र का दोस्त है और रिक्शा चलाता है। रवींद्र, सुभद्रा देवी के 8 बच्चों में अकेला बेटा था। बाकी 7 बेटियों की शादी हो चुकी है।

पुलिस को पता चला कि सुभद्रा का तीन महीने का बेटा भी है, जिसे उसने आजादपुर में रहने वाली अपनी बेटी को दे रखा है। पूछताछ में पता चला कि वह बच्चा सुभद्रा और अजीत का था। रवींद्र को मां और अजीत के संबंधों के बारे में पता था और वह इसका विरोध भी करता था। आए दिन इसे लेकर झगड़ा भी होता था। मगर रात को ये तीनों मिल बैठकर नशा करते थे और अगले दिन मामला शांत हो जाता था।

मां और प्रेमी थे आपत्तिजनक हालत में…

शनिवार रात जब बेटा रविंद्र काम से घर लौटा तो उसने मां सुभद्रा और उसके प्रेमी को आपत्तिजनक हालत में देख लिया। इसका विरोध करने पर दोनों ने मिलकर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद रातभर शव को कमरे में रखा। फिर अगली सुबह सुभद्रा अपने छोटे बेटे को गोद में लिए अजीत के साथ नोएडा सेक्टर-15 पहुंची। वहां से उसने एंबुलेंस के लिए फोन किया. उसने एम्बुलेंस को बताया कि उसका बेटा घर पर घायल पड़ा हुआ है।

एंबुलेंस के साथ आरोपी कमरे पर आए. यहां शव को देखकर एंबुलेंस कर्मी को शक हुआ तो उसने इस घटना की सूचना पुलिस को दी। इस बीच सुभद्रा और प्रेमी वहां से फरार हो गया। पुलिस मौके पर पहुंची तो कमरे में एक गमछा और खून से सनी ईंट बरामद हुई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी।

प्रेमी से था तीन माह का बच्चा…

पूछताछ में महिला ने बताया कि प्रेमी से ही उसे तीन माह का बच्चा हुआ। जब इस बात की खबर रविंद्र को लगी तो वह इसका विरोध करने लगा। आए दिन उनके बीच विवाद होता था।

नई दिल्ली। पूर्वी दिल्ली के न्यू अशोक नगर इलाके में कलयुगी मां ने आशिक के साथ मिलकर अपने बेटे की हत्या कर दी।तफ्तीश में पुलिस को पता चला कि युवक के एक दोस्त और युवक की मां के बीच संबंध थे, जिसका विरोध करने पर मां और उसके दोस्त ने मिलकर इस वारदात को अंजाम दिया। पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। मौके से मर्डर में इस्तेमाल हुए ईंट, डंडा और गमछा भी बरामद कर लिए हैं। लाश को पोस्टमॉर्टम के लिए मॉर्चरी में भिजवा दिया गया है। पुलिस के मुताबिक, रविवार सुबह सूचना मिली कि न्यू अशोक नगर में झंडे वाला चौक के पास एक युवक का मर्डर हो गया है। मृतक की पहचान रवींद्र पाठक (30) के रूप में हुई। वह पेशे से ड्राइवर था और अपनी मां सुभद्रा देवी (51) और दोस्त अजीत (30) के साथ यहां रहता था। पिता यूपी के बस्ती जिले में स्थित अपने गांव में रहते हैं। रवींद्र शादीशुदा था, लेकिन पत्नी उसे छोड़कर जा चुकी थी। बिहार का रहने वाला अजीत काफी समय से इनलोगों के साथ ही रह रहा था। वह रवींद्र का दोस्त है और रिक्शा चलाता है। रवींद्र, सुभद्रा देवी के 8 बच्चों में अकेला बेटा था। बाकी 7 बेटियों की शादी हो चुकी है। पुलिस को पता चला कि सुभद्रा का तीन महीने का बेटा भी है, जिसे उसने आजादपुर में रहने वाली अपनी बेटी को दे रखा है। पूछताछ में पता चला कि वह बच्चा सुभद्रा और अजीत का था। रवींद्र को मां और अजीत के संबंधों के बारे में पता था और वह इसका विरोध भी करता था। आए दिन इसे लेकर झगड़ा भी होता था। मगर रात को ये तीनों मिल बैठकर नशा करते थे और अगले दिन मामला शांत हो जाता था। मां और प्रेमी थे आपत्तिजनक हालत में... शनिवार रात जब बेटा रविंद्र काम से घर लौटा तो उसने मां सुभद्रा और उसके प्रेमी को आपत्तिजनक हालत में देख लिया। इसका विरोध करने पर दोनों ने मिलकर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद रातभर शव को कमरे में रखा। फिर अगली सुबह सुभद्रा अपने छोटे बेटे को गोद में लिए अजीत के साथ नोएडा सेक्टर-15 पहुंची। वहां से उसने एंबुलेंस के लिए फोन किया. उसने एम्बुलेंस को बताया कि उसका बेटा घर पर घायल पड़ा हुआ है। एंबुलेंस के साथ आरोपी कमरे पर आए. यहां शव को देखकर एंबुलेंस कर्मी को शक हुआ तो उसने इस घटना की सूचना पुलिस को दी। इस बीच सुभद्रा और प्रेमी वहां से फरार हो गया। पुलिस मौके पर पहुंची तो कमरे में एक गमछा और खून से सनी ईंट बरामद हुई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी। प्रेमी से था तीन माह का बच्चा... पूछताछ में महिला ने बताया कि प्रेमी से ही उसे तीन माह का बच्चा हुआ। जब इस बात की खबर रविंद्र को लगी तो वह इसका विरोध करने लगा। आए दिन उनके बीच विवाद होता था।