भारत नेपाल सीमा सील होने के बाद भी आवाजाही बढ़ी,ट्रांसपोर्टरो को मिली छूट का लाभ उठा रहे तस्कर

IMG-20200623-WA0007

सोनौली महराजगंज । भारत नेपाल सीमा सोनौली कोरोना वायरस को लेकर पिछले तीन महीने से सील है। दोनों देशों में लॉक डाउन चल रहा है। ट्रांसपोर्ट एवं किलीयरिंग एजेंट एसोसिएशन के आईकार्ड पर स्थानीय प्रशासन द्वारा मिली छूट का अन्य लोग भी अब तस्करी के लिए लाभ लेना शुरू कर दिया है। जिसको लेकर दिन भर सोनौली कस्बे में कपड़ा किराना और मेडिकल स्टोर की दुकानों पर नेपाली नागरिको का जमावड़ा लगा रहता है।

Movement Increased Even After The Indo Nepal Border Was Sealed Smugglers Enjoying The Concessions Given To Transporters :

कोरोना महामारी के बाद भारत नेपाल सीमा पूरी तरह सील है। सिर्फ भारत एवं नेपाली माल वाहक ट्रक को छूट मिली है। वाहनों को पास कराने के लिए दोनों देशों के स्थानीय प्रशासन की पहल पर किलीयरिंग एजेंट और ट्रांसपोर्ट द्वारा जारी परिचय पत्र पर नेपाल पुलिस उन्हें नेपाल में प्रवेश दे रही है। तो भारतीय पुलिस नेपाली एजेंट को प्रवेश दे रही है। लेकिन अन्य संस्थानों के परिचय पत्र पर लोग भारत मे प्रवेश कर रहे है। जिसको लेकर भाजपा मंडल उपाध्यक्ष प्रेम जायसवाल ने नाराजगी जताते हुए बताया कि नेपाल में अब स्थित ठीक नही है। नेपाल से कोरोना सोनौली में आ सकता है। जिसको देखते हुए उन्होंने स्थानीय पुलिस और प्रशासन से मांग किया है कि एजेंट और ट्रांसपोर्ट के परिचय पत्र को देख कर ही उन्हें भारत मे प्रवेश दिया जाए। उन्होंने बताया कि अन्य लोग मिली इस छूट का गलत प्रयोग कर रहे है। जो तस्करी सहित अन्य गलत कार्यो में लिप्त है। उन्हें सीमा आसानी से प्रवेश मिल जा रहा है।

इस सम्बंध में क्षेत्राधिकारी नौतनवा राजू कुमार साव ने बताया कि एसोसिएशन की मांग के अनुसार वाहनों को पास कराने के लिए एजेंट और ट्रांसपोर्ट के कर्मचारी को परिचय पत्र दिखाने पर प्रवेश में छूट मिली है। इसके विपरीत अगर कोई पाया गया तो कड़ी कार्यवाही किया जाएगा।

सोनौली महराजगंज । भारत नेपाल सीमा सोनौली कोरोना वायरस को लेकर पिछले तीन महीने से सील है। दोनों देशों में लॉक डाउन चल रहा है। ट्रांसपोर्ट एवं किलीयरिंग एजेंट एसोसिएशन के आईकार्ड पर स्थानीय प्रशासन द्वारा मिली छूट का अन्य लोग भी अब तस्करी के लिए लाभ लेना शुरू कर दिया है। जिसको लेकर दिन भर सोनौली कस्बे में कपड़ा किराना और मेडिकल स्टोर की दुकानों पर नेपाली नागरिको का जमावड़ा लगा रहता है। कोरोना महामारी के बाद भारत नेपाल सीमा पूरी तरह सील है। सिर्फ भारत एवं नेपाली माल वाहक ट्रक को छूट मिली है। वाहनों को पास कराने के लिए दोनों देशों के स्थानीय प्रशासन की पहल पर किलीयरिंग एजेंट और ट्रांसपोर्ट द्वारा जारी परिचय पत्र पर नेपाल पुलिस उन्हें नेपाल में प्रवेश दे रही है। तो भारतीय पुलिस नेपाली एजेंट को प्रवेश दे रही है। लेकिन अन्य संस्थानों के परिचय पत्र पर लोग भारत मे प्रवेश कर रहे है। जिसको लेकर भाजपा मंडल उपाध्यक्ष प्रेम जायसवाल ने नाराजगी जताते हुए बताया कि नेपाल में अब स्थित ठीक नही है। नेपाल से कोरोना सोनौली में आ सकता है। जिसको देखते हुए उन्होंने स्थानीय पुलिस और प्रशासन से मांग किया है कि एजेंट और ट्रांसपोर्ट के परिचय पत्र को देख कर ही उन्हें भारत मे प्रवेश दिया जाए। उन्होंने बताया कि अन्य लोग मिली इस छूट का गलत प्रयोग कर रहे है। जो तस्करी सहित अन्य गलत कार्यो में लिप्त है। उन्हें सीमा आसानी से प्रवेश मिल जा रहा है। इस सम्बंध में क्षेत्राधिकारी नौतनवा राजू कुमार साव ने बताया कि एसोसिएशन की मांग के अनुसार वाहनों को पास कराने के लिए एजेंट और ट्रांसपोर्ट के कर्मचारी को परिचय पत्र दिखाने पर प्रवेश में छूट मिली है। इसके विपरीत अगर कोई पाया गया तो कड़ी कार्यवाही किया जाएगा।