एमपी सरकार एक ही दुकान पर बेच रही कड़कनाथ चिकन और गाय का दूध

milk parlor
एमपी सरकार एक ही दुकान पर बेच रही कड़कनाथ चिकन और गाय का दूध

भोपाल। मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने एक ही आउटलेट पर गाय का दूध और कड़कनाथ मुर्गे का मांस बेचने की योजना शुरू की है। कुक्कुट विकास निगम ने भोपाल में गाय के शुद्ध दूध का पार्लर खोलकर खुद दूध बेचना शुरू किया है। साथ में कड़कनाथ चिकन का पार्लर भी खोला है, जहां मशहूर कड़कनाथ चिकन का मांस बेचा जा रहा है। सरकार का दावा है कि उसके पार्लर से मिलने वाले कड़कनाथ मुर्गे के मांस और गाय के दूध में शुद्धता की पूरी गारंटी है। वहीं भारतीय जनता पार्टी ने सरकार की इस योजना पर कड़ी आपत्ति जताई है।

Mp Government Selling Kadaknath Chicken And Cow Milk At The Same Shop :

भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष रामेश्वर शर्मा ने कहा कि हिंदू धर्म में गाय और उसके दूध दोनों पूजनीय हैं। ऐसे में जो व्यक्ति कड़कनाथ का मांस बेच रहा है, वही व्यक्ति गाय का दूध कैसे बेच सकता है। रामेश्वर शर्मा ने मांग की है कि सरकार ने कड़कनाथ मुर्गे के मांस और दूध के पार्लर को एक साथ खोलकर हिंदुओं की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया है, इसलिए दोनों पार्लरों को अलग-अलग जगह पर खोला जाए और दोनों का व्यवसाय करने वाले भी व्यक्ति भी अलग हों।

बीजेपी के आरोपों के जवाब में पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव ने कहा कि आरोप निराधार हैं, क्योंकि कड़कनाथ चिकन पार्लर और मिल्क पार्लर के बीच में पार्टीशन रखा गया है। इसमें एक तरफ कड़कनाथ का मांस तो दूसरे हिस्से से गाय का दूध बेचा जा रहा है। मंत्री लाखन सिंह यादव ने कहा कि दोनों पार्लर को साथ में इसलिए बनाया गया है ताकि एक ही जगह पर लोगों को दोनों चीजें मिल सके।

पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव ने कहा कि आदिवासी युवाओं को रोजगार देने और जनता को शुद्ध दूध उपलब्ध कराने के मकसद से एक ही जगह दूध और चिकन बेचने की योजना शुरू की है। इसमें पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) मॉडल के तहत आउटलेट खोल सरकार गाय का शुद्ध दूध, कड़कनाथ चिकन और देसी अंडे खुद मुहैया कराएगी।

भोपाल। मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने एक ही आउटलेट पर गाय का दूध और कड़कनाथ मुर्गे का मांस बेचने की योजना शुरू की है। कुक्कुट विकास निगम ने भोपाल में गाय के शुद्ध दूध का पार्लर खोलकर खुद दूध बेचना शुरू किया है। साथ में कड़कनाथ चिकन का पार्लर भी खोला है, जहां मशहूर कड़कनाथ चिकन का मांस बेचा जा रहा है। सरकार का दावा है कि उसके पार्लर से मिलने वाले कड़कनाथ मुर्गे के मांस और गाय के दूध में शुद्धता की पूरी गारंटी है। वहीं भारतीय जनता पार्टी ने सरकार की इस योजना पर कड़ी आपत्ति जताई है। भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष रामेश्वर शर्मा ने कहा कि हिंदू धर्म में गाय और उसके दूध दोनों पूजनीय हैं। ऐसे में जो व्यक्ति कड़कनाथ का मांस बेच रहा है, वही व्यक्ति गाय का दूध कैसे बेच सकता है। रामेश्वर शर्मा ने मांग की है कि सरकार ने कड़कनाथ मुर्गे के मांस और दूध के पार्लर को एक साथ खोलकर हिंदुओं की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया है, इसलिए दोनों पार्लरों को अलग-अलग जगह पर खोला जाए और दोनों का व्यवसाय करने वाले भी व्यक्ति भी अलग हों। बीजेपी के आरोपों के जवाब में पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव ने कहा कि आरोप निराधार हैं, क्योंकि कड़कनाथ चिकन पार्लर और मिल्क पार्लर के बीच में पार्टीशन रखा गया है। इसमें एक तरफ कड़कनाथ का मांस तो दूसरे हिस्से से गाय का दूध बेचा जा रहा है। मंत्री लाखन सिंह यादव ने कहा कि दोनों पार्लर को साथ में इसलिए बनाया गया है ताकि एक ही जगह पर लोगों को दोनों चीजें मिल सके। पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव ने कहा कि आदिवासी युवाओं को रोजगार देने और जनता को शुद्ध दूध उपलब्ध कराने के मकसद से एक ही जगह दूध और चिकन बेचने की योजना शुरू की है। इसमें पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) मॉडल के तहत आउटलेट खोल सरकार गाय का शुद्ध दूध, कड़कनाथ चिकन और देसी अंडे खुद मुहैया कराएगी।