MP: शिवराज सिंह ने कमलनाथ से कहा- भैया, इधर-उधर की बात नहीं, जल्दी फ्लोर टेस्ट करवाओ

Kamalnath-shivraj
मध्यप्रदेश: पूर्व सीएम कमलनाथ का तंज, कहा- शिवराज सरकार तो सिर्फ 'इंटरवल' है, पूरी'पिक्चर' बाकी है

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार पर संकट के बादल गहराते चले जा रहे हैं। सिंधिया के बीजेपी में जाते ही सिंधिया समर्थक 22 विधायकों ने भी कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। उसके बाद कमलनाथ सरकार अल्पमत में आती दिख रही है। बीजेपी की फ्लोर टेस्ट की मांग को लेकर अब सियासी घमासान मचा हुआ है। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीएम से कहा है कि इधर-उधर की बात मत कीजिए, फ्लोर टेस्ट करवाई. दूध का दूध, पानी का पानी हो जाएगा।

Mp Shivraj Singh Told Kamal Nath Brother There Is Nothing To Do Here And There Get The Floor Test Done Quickly :

चौहान ने कहा, स्थिति बिल्कुल साफ है। बड़ा शोर मचा रहे थे। अब यह सरकार बच नहीं सकती। बेंगलुरु में मौजूद सभी विधायक साथियों ने स्पष्ट कर दिया है वह अपनी मर्जी से इस सरकार के खिलाफ हैं। साथ ही उन्होंने कहा, सब ने खुलकर देश के सामने अपनी बात रखी है। लेकिन कमलनाथ सरकार टाइम खींचने की कोशिश कर रही हैं। दबाव प्रलोभन देकर यह प्रयास कर रहे हैं कि सरकार बच जाए, लेकिन अब यह सरकार बच नहीं सकती।

कल कमलनाथ सरकार ने विधानसभा का सत्र 26 मार्च तक स्थगित कर दिया। इसको लेकर शिवराज सिंह ने कहा कि ‘आपने अपने पत्र में यह तो लिखा है कि, सदन की कार्यवाही दिनांक 26/03/2020 तक स्थगित हो गई परन्तु स्थगन के कारणों का संभवतः आपने उल्लेख करना उचित नहीं समझा। बता दें कि कमलनाथ सरकार ने कोरोना वायरस का हवाला देते हुए विधानसभा 26 मार्च तक स्थगित किया हैै।

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार पर संकट के बादल गहराते चले जा रहे हैं। सिंधिया के बीजेपी में जाते ही सिंधिया समर्थक 22 विधायकों ने भी कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। उसके बाद कमलनाथ सरकार अल्पमत में आती दिख रही है। बीजेपी की फ्लोर टेस्ट की मांग को लेकर अब सियासी घमासान मचा हुआ है। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीएम से कहा है कि इधर-उधर की बात मत कीजिए, फ्लोर टेस्ट करवाई. दूध का दूध, पानी का पानी हो जाएगा। चौहान ने कहा, स्थिति बिल्कुल साफ है। बड़ा शोर मचा रहे थे। अब यह सरकार बच नहीं सकती। बेंगलुरु में मौजूद सभी विधायक साथियों ने स्पष्ट कर दिया है वह अपनी मर्जी से इस सरकार के खिलाफ हैं। साथ ही उन्होंने कहा, सब ने खुलकर देश के सामने अपनी बात रखी है। लेकिन कमलनाथ सरकार टाइम खींचने की कोशिश कर रही हैं। दबाव प्रलोभन देकर यह प्रयास कर रहे हैं कि सरकार बच जाए, लेकिन अब यह सरकार बच नहीं सकती। कल कमलनाथ सरकार ने विधानसभा का सत्र 26 मार्च तक स्थगित कर दिया। इसको लेकर शिवराज सिंह ने कहा कि 'आपने अपने पत्र में यह तो लिखा है कि, सदन की कार्यवाही दिनांक 26/03/2020 तक स्थगित हो गई परन्तु स्थगन के कारणों का संभवतः आपने उल्लेख करना उचित नहीं समझा। बता दें कि कमलनाथ सरकार ने कोरोना वायरस का हवाला देते हुए विधानसभा 26 मार्च तक स्थगित किया हैै।