1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Mukesh Agnihotri Jeevan Parichay: जानिए पत्रकार से डिप्टी सीएम तक का सफर, इनकी सलाह पर राजनीति में आए मुकेश अग्निहोत्री

Mukesh Agnihotri Jeevan Parichay: जानिए पत्रकार से डिप्टी सीएम तक का सफर, इनकी सलाह पर राजनीति में आए मुकेश अग्निहोत्री

कांग्रेस नेता सुखविंदर सिंह सुक्खू हिमाचल के ​15वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ले लिए हैं। उनके साथ डिप्टी सीएम के रूप में मुकेश अग्निहोत्री ने शपथ ली है। मुकेश अग्निहोत्री की गिनती कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में होती है। इससे पहले उन्होंने पत्रकारिता में अपना परचम लहराया था। आइए जानते हैं इनके सियासी सफर के बारे में....

By शिव मौर्या 
Updated Date

Mukesh Agnihotri Jeevan Parichay: कांग्रेस नेता सुखविंदर सिंह सुक्खू हिमाचल के ​15वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ले लिए हैं। उनके साथ डिप्टी सीएम के रूप में मुकेश अग्निहोत्री ने शपथ ली है। मुकेश अग्निहोत्री की गिनती कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में होती है। इससे पहले उन्होंने पत्रकारिता में अपना परचम लहराया था। आइए जानते हैं इनके सियासी सफर के बारे में….

पढ़ें :- बेसिक शिक्षा विभाग ने निपुण भारत मिशन प्रचार-प्रसार के लिये जारी किये  आवश्यक निर्देश 

पत्रकार के रूप में की थी करियर की शुरूआत
हिमाचल के हरोली विधानसभा से विधायक चुने गए मुकेश अग्निहोत्री ने अपने करियर की शुरूआत पत्रकार से की थी। पंजाब के संगरूर जिले में 9 अक्टूबर 1962 को मुकेश अग्निहोत्री का जन्म हुआ था। इन्होंने ऊना जिले से पढ़ाई की थी। प्रारंभिक शिक्षा के बाद उन्होंने गणित से MSC किया है। MSC करने के बाद मुकेश अग्निहोत्री ने जनसंपर्क से डिप्लोमा किया और फिर जर्नलिस्ट बन गए। राजनीति में सक्रिय होने से पहले उन्होंने पत्रकारिता के क्षेत्र में 10 साल तक काम किया।

पूर्व सीएम ने दी थी राजनीति में आने की सलाह
डिप्टी सीएम मुकेश अग्निहोत्री को राजनीति में आने की सलाह पूर्व सीएम दिवंगत वीरभद्र सिंह ने दी थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वीरभद्र सिंह ने 2003 में मुकेश अग्निहोत्री को संतोखगढ़ से चुनाव लड़ने के लिए कहा था। इसके बाद मुकेश अग्निहोत्री ने चुनाव लड़ा और जीत हासिल की थी।

वीरभद्र सरकार में रहे हैं मंत्री
बता दें कि, डिप्टी सीएम मुकेश अग्निहोत्री वीरभद्र सरकार में मंत्री भी रहे थे। इसके साथ ही साल 2018 में विपक्ष के नेता भी थे। 2007 के विधानसभा चुनाव में भी अग्निहोत्री को जीत मिली थी। 2008 में परिसीमन के बाद संतोखगढ़ को हरोली विधानसभा सीट में बदल दिया गया। 2012 में वे यहां से तीसरी बार विधायक चुने गए। इसके बाद वे वीरभद्र सिंह की सरकार में मंत्री बनाए गए थे।

 

पढ़ें :- उप्र माध्यमिक संस्कृत शिक्षा परिषद की पूर्व मध्यमा से उत्तर मध्यमा स्तर तक की परीक्षाओं का कैलेण्डर जारी

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...