मुकेश अंबानी की दौलत प्रति सेकंड करीब 8.74 लाख रुपये की रफ्तार से बढ़ी, जियो में निवेश की झड़ी

आइये जानते हैं मुकेश अंबानी की सफलता के राज़

नई दिल्ली: भारत और एशिया के सबसे अमीर शख्स मुकेश अंबानी दुनिया के टॉप 5 अमीरों में शामिल होने की दहलीज पर हैं। देश की सबसे मूल्यवान कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) के चेयरमैन मुकेश अंबानी ब्लूमबर्ग के बिलिनेयर इंडेक्स में अभी छठे नंबर पर है। अंबानी की नेटवर्थ हाल के दिनों में बहुत तेजी से बढ़ी है। 9 जुलाई को उनकी नेटवर्थ 67.4 अरब डॉलर थी और वह जाने माने अमेरिकी निवेशक वारेन बफे से एक स्थान नीचे नौवें स्थान पर थे।

Mukesh Ambanis Wealth Increased At A Speed Of Around Rs 8 74 Lakh Per Second Investment Flow In Jio :

लेकिन मंगलवार को उनकी नेटवर्थ 72.4 अरब डॉलर पहुंच गई। यानी इस दौरान अंबानी की दौलत प्रति सेकंड 8.74 लाख रुपये की रफ्तार से बढ़ी। इसकी वजह आरआईएल के शेयरों में उछाल रही। पिछले 5 दिनों में कंपनी के शेयर में 5 फीसदी तेजी आई है। इससे कंपनी का बाजार पूंजीकरण 12 लाख करोड़ रुपये से ऊपर पहुंच गया। आरआईएल यह उपलब्धि हासिल करने वाली देश की पहली कंपनी है।

रिलायंस के शेयरों में बढ़त का फायदा
मुकेश अंबानी को रिलायंस के शेयरों में बढ़त का फायदा तो मिला ही, अमेरिकी शेयर बाजार में गिरावट का भी फायदा उन्हें मिला। इस गिरावट के चलते गूगल के को-फाउंडर लैरी पैज की दौलत 71.6 अरब डॉलर पर आ गई। वहीं गूगल की स्थापना करने वाले सर्गेई ब्रिन की दौलत 69.4 अरब डॉलर पर पहुंच गई। टेस्ला के एलन मस्क भी मुकेश अंबानी के मुकाबले पीछे रह गए हैं। इतना ही नहीं, पिछले ही सप्ताह मुकेश अंबानी ने बर्कशायर हैथवे के सीईओ और दुनिया के दिग्गज निवेशक वॉरेन बफे को भी पछाड़कर लिस्ट में सातवां स्थान हासिल किया था।

जियो में निवेश की झड़ी
इस साल के शुरुआती महीनों में कारोबार में कमजोरी के बाद मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज ने लगातार ग्रोथ की है। रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंपनी जियो प्लेटफॉर्म्स में एक के बाद एक 13 निवेशक पैसे लगा चुके हैं, जिसमें फेसबुक भी शामिल है। इन निवेशों से अंबानी को 1,18,000 करोड़ रुपये की रकम हासिल हो चुकी है। सोमवार की तेजी की वजह भी यह निवेश ही था, क्योंकि रविवार को ही 13वें निवेशक Qualcomm Ventures ने जियो प्लेटफॉर्म्स की 0.15 फीसदी हिस्सेदारी खरीदते हुए 730 करोड़ रुपये के निवेश का ऐलान किया था।

नई दिल्ली: भारत और एशिया के सबसे अमीर शख्स मुकेश अंबानी दुनिया के टॉप 5 अमीरों में शामिल होने की दहलीज पर हैं। देश की सबसे मूल्यवान कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) के चेयरमैन मुकेश अंबानी ब्लूमबर्ग के बिलिनेयर इंडेक्स में अभी छठे नंबर पर है। अंबानी की नेटवर्थ हाल के दिनों में बहुत तेजी से बढ़ी है। 9 जुलाई को उनकी नेटवर्थ 67.4 अरब डॉलर थी और वह जाने माने अमेरिकी निवेशक वारेन बफे से एक स्थान नीचे नौवें स्थान पर थे। लेकिन मंगलवार को उनकी नेटवर्थ 72.4 अरब डॉलर पहुंच गई। यानी इस दौरान अंबानी की दौलत प्रति सेकंड 8.74 लाख रुपये की रफ्तार से बढ़ी। इसकी वजह आरआईएल के शेयरों में उछाल रही। पिछले 5 दिनों में कंपनी के शेयर में 5 फीसदी तेजी आई है। इससे कंपनी का बाजार पूंजीकरण 12 लाख करोड़ रुपये से ऊपर पहुंच गया। आरआईएल यह उपलब्धि हासिल करने वाली देश की पहली कंपनी है। रिलायंस के शेयरों में बढ़त का फायदा मुकेश अंबानी को रिलायंस के शेयरों में बढ़त का फायदा तो मिला ही, अमेरिकी शेयर बाजार में गिरावट का भी फायदा उन्हें मिला। इस गिरावट के चलते गूगल के को-फाउंडर लैरी पैज की दौलत 71.6 अरब डॉलर पर आ गई। वहीं गूगल की स्थापना करने वाले सर्गेई ब्रिन की दौलत 69.4 अरब डॉलर पर पहुंच गई। टेस्ला के एलन मस्क भी मुकेश अंबानी के मुकाबले पीछे रह गए हैं। इतना ही नहीं, पिछले ही सप्ताह मुकेश अंबानी ने बर्कशायर हैथवे के सीईओ और दुनिया के दिग्गज निवेशक वॉरेन बफे को भी पछाड़कर लिस्ट में सातवां स्थान हासिल किया था। जियो में निवेश की झड़ी इस साल के शुरुआती महीनों में कारोबार में कमजोरी के बाद मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज ने लगातार ग्रोथ की है। रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंपनी जियो प्लेटफॉर्म्स में एक के बाद एक 13 निवेशक पैसे लगा चुके हैं, जिसमें फेसबुक भी शामिल है। इन निवेशों से अंबानी को 1,18,000 करोड़ रुपये की रकम हासिल हो चुकी है। सोमवार की तेजी की वजह भी यह निवेश ही था, क्योंकि रविवार को ही 13वें निवेशक Qualcomm Ventures ने जियो प्लेटफॉर्म्स की 0.15 फीसदी हिस्सेदारी खरीदते हुए 730 करोड़ रुपये के निवेश का ऐलान किया था।