HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. मुकुल राय के बेटे ने भाजपा को दी बड़ी नसीहत, ममता बनर्जी का किया खुला समर्थन

मुकुल राय के बेटे ने भाजपा को दी बड़ी नसीहत, ममता बनर्जी का किया खुला समर्थन

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भाजपा की हार के बाद ममता बनर्जी पर चारों तरफ से हमला करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। इसके बावजूद पार्टी में असंतोष के स्वर दबने का नाम नहीं ले रहे हैं।अब भाजपा के कद्दावर नेता मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय ने अपनी ही पार्टी पर एक फेसबुक पोस्ट के जरिए निशाना साधा है। इसको लेकर तरह-तरह के कयास लगने शुरू हो गए हैं। शुभ्रांशु ने कहा कि पार्टी ममता सरकार की आलोचना बंद करे और स्वयं का आत्मनिरीक्षण करे।

By संतोष सिंह 
Updated Date

कोलकाता। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भाजपा की हार के बाद ममता बनर्जी पर चारों तरफ से हमला करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। इसके बावजूद पार्टी में असंतोष के स्वर दबने का नाम नहीं ले रहे हैं।

पढ़ें :- UPSC में एक IAS की भर्ती का घपला सरेआम सामने आने के बाद त्यागपत्र देना कोई समाधान नहीं है: अखिलेश यादव

अब भाजपा के कद्दावर नेता मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय ने अपनी ही पार्टी पर एक फेसबुक पोस्ट के जरिए निशाना साधा है। इसको लेकर तरह-तरह के कयास लगने शुरू हो गए हैं। शुभ्रांशु ने कहा कि पार्टी ममता सरकार की आलोचना बंद करे और स्वयं का आत्मनिरीक्षण करे।

भाजपा नेता मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय ने शनिवार रात एक फेसबुक पोस्ट लिखी है। इसमें कहा कि जनता का समर्थन प्राप्त करके आई सरकार की आलोचना करने से पहले खुद का आत्मनिरीक्षण करने की जरूरत है। चुनी गई सरकार की आलोचना बंद करें और आत्मनिरीक्षण करें।

बता दें कि शुभ्रांशु रॉय ने वर्ष 2019 में तृणमूल कांग्रेस को छोड़कर भाजपा का दामन थामा था। हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में उन्होंने भाजपा की टिकट पर बिजपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा था, लेकिन हार का सामना करना पड़ा है।

हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चक्रवाती तूफान यास की तबाही का जायजा लेने बंगाल पहुंचे थे, जहां राज्य में उन्होंने समीक्षा बैठक भी की। इस बैठक में राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी 30 मिनट की देरी से पहुंचीं थीं और 20 हजार करोड़ रुपये की सहायता राशि की मांग वाली लिस्ट पीएम को थमाकर निकल गईं। इसको लेकर भाजपा नेताओं ने ममता को जमकर घेरा। इसके बाद ममता बनर्जी ने भी अपनी सफाई दी।

पढ़ें :- मुंबई में चार मंजिला इमारत की बालकनी गिरने से हादसा, एक महिला की मौत, तीन लोग घायल

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि ऐसा कहीं जरूरी नहीं है कि एक मुख्यमंत्री हर बार प्रधानमंत्री को रिसीव करने पहुंचे। प्रधानमंत्री को इंतजार कराने वाले मामले पर ममता ने कहा है कि उन्हें खुद वहां (पीएम की मीटिंग में) इंतजार करना पड़ा। ममता बनर्जी ने बताया कि हम सागर पहुंचे तो हमें सूचना मिली कि हमें 20 मिनट और इंतजार करना होगा क्योंकि पीएम मोदी का हेलिकॉप्टर उतरना बाकी था। वे हमारे शेड्यूल से वाकिफ थे, फिर भी हमें इंतजार करवाया। हमने हेलीपैड पर उनका इंतजार किया।

इस घटना के बाद से ही भाजपा ने बंगाल की मुख्यमंत्री को घेरना शुरू कर दिया है। भाजपा ने कहा है कि ममता ने प्रधानमंत्री पद की गरिमा का अपमान किया है। कहा कि संघीय मॉडल को दरकिनार कर संविधान के खिलाफ काम किया है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...