मुंलायम सिह यादव बोले, सपा—बसपा गठबंधन के नतीजे होंगे सुखद

mulayam singh yadav
मुंलायम सिह यादव बोले, सपा—बसपा गठबंधन के नतीजे होंगे सुखद
मैनपुरी। देश के पूर्व रक्षामंत्री मुलायम सिंह यादव ने मैनपुरी में एक सभा को संबोधित करते हुए 2019 के लोकसभा चुनाव में सपा—बसपा गठबंधन को हरी झण्डी दे दी। उन्होने कहा कि इस गठबंधन के नतीजे सुखद होंगे। जिसके चलते दोनो पार्टियों के साथ में आने से मुलायम सिंह यादव काफी खुश है। बता दें कि पिछले चुनाव में दोनों पार्टियों ने अलग—अलग चुनाव लड़ा था, जिसमें सपा को पांच सीटे मिली थी,जबकि बसपा का तो खाता भी नहीं खुल…

मैनपुरी। देश के पूर्व रक्षामंत्री मुलायम सिंह यादव ने मैनपुरी में एक सभा को संबोधित करते हुए 2019 के लोकसभा चुनाव में सपा—बसपा गठबंधन को हरी झण्डी दे दी। उन्होने कहा कि इस गठबंधन के नतीजे सुखद होंगे। जिसके चलते दोनो पार्टियों के साथ में आने से मुलायम सिंह यादव काफी खुश है। बता दें कि पिछले चुनाव में दोनों पार्टियों ने अलग—अलग चुनाव लड़ा था, जिसमें सपा को पांच सीटे मिली थी,जबकि बसपा का तो खाता भी नहीं खुल सका था।

बता दें कि मुलायम सिंह ने सभा में बोलते हुए कहा कि दोनो पार्टियों ने मिलकर जो प्रयास किया है, इसके नतीते निश्चित तौर पर सुखद होंगे। उन्होने सपा और बसपा के गठबंधन की ताकत का एहसास दिलाते हुए कहा कि अब इन दोनों ही पार्टियों को सफल होने से कोई रोंक नही सकता। इसके लिए उन्होने कहा कि जो पहले शुरु की गई हैं, उसे जारी रखना बहुत जरूरी हैं।

{ यह भी पढ़ें:- अखिलेश यादव ने कन्नौज से लोकसभा चुनाव लड़ने का किया ऐलान }

कार्यक्रम के दौरान पूर्व रक्षामंत्री ने कहा कि समाजवादी पार्टी जैसी नीतियां देश की किसी भी राजनैतिक पार्टी के पास नही है। उन्होने हाल में सम्पन्न हुए गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव मे मदद करने के लिए बसपा सुप्रीमों का शुक्रिया भी अदा किया। मुलायम सिंह ने केन्द्र सरकार निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा शासन में देश के अंदर मंहगाई और भ्रष्टाचार साथ—साथ पनप रहा है। अब ऐसी स्थित में जनता खुद ही निर्णय कर ले कि आगामी लोकसभा चुनाव में उसे किस पार्टी को वोट देना है।

आपको बतो दें कि इसी के साथ यादव परिवार में आई तल्खियां भी दूर होती दिखाई दे रही है। जबसे अखिलेश यादव ने नरेश अग्रवाल को राज्यसभा न भेजने का फैसला लिया और तबसे उनके और चाचा शिवपाल के सम्बंधों में भी सुधार आया है। बताया जा रहा है कि अखिलेश ने ऐसा चाचा शिवपाल के कहने पर ही किया था।

{ यह भी पढ़ें:- गेस्ट हाउस कांड सिर्फ विपक्षी पार्टियों की देन : शिवपाल सिंह यादव }

Loading...