मुलायम धमकी मामले में 11 नवंबर तक रिपोर्ट तलब

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख मुलायम सिंह यादव द्वारा आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर को मोबाइल फोन पर दी गई कथित धमकी के संबंध में दर्ज मामले में गुरुवार को सीजेएम लखनऊ संध्या श्रीवास्तव के सामने सुनवाई हुई। उन्होंने विवेचक को एक और मौका देते हुए 11 नवंबर तक रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया। विवेचक (कृष्णानगर के सीओ) भारत सिंह की ओर से एक बार फिर लॉ एंड आर्डर में व्यस्त होने के कारण न्यायालय से इस के लिए अतिरिक्त समय की मांग की गई। सीजेएम ने अमिताभ से पूछा कि विवेचक ने अब तक उनसे उनकी आवाज के नमूने के लिए संपर्क किया।



यह बताए जाने पर कि विवेचक ने अब तक संपर्क नहीं किया है, सीजेएम ने नाराजगी व्यक्त करते हुए विवेचक को एक और अवसर देते हुए 11 नवंबर तक विवेचना समाप्त कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के आदेश दिए। सीजेएम ने 20 अगस्त, 2016 के आदेश द्वारा पुलिस की अंतिम रिपोर्ट खारिज कर यह विवेचना क्षेत्राधिकारी द्वारा कराए जाने का आदेश देते हुए अमिताभ और मुलायम सिंह के आवाज का नमूना प्राप्त कर उसका कॉम्पैक्ट डिस्क की आवाज से विधि विज्ञान प्रयोगशाला में परीक्षण कराने के आदेश दिए थे। इस पर एसएसपी लखनऊ ने विवेचना कृष्णानगर के सीओ को सौंपी थी।

आईजी अमिताभ ठाकुर का कहना था कि उनके मोबाइल पर 10 जुलाई 2016 की शाम 4:43 बजे 0522-2235477 नंबर से फोन आया। फोन करने वाले ने कहा कि मुलायम सिंह यादव बात करना चाहते हैं। इसके बाद उनसे दो मिनट 10 सेकंड तक बातचीत में मुलायम सिंह ने धमकाने के अंदाज में कहा कि सुधर जाओ। उन्होंने फिरोजाबाद के जसराना की घटना का हवाला दिया था।

बता दें कि फिरोजाबाद में एसपी रहते वक्त अमिताभ ठाकुर को मुलायम सिंह के समधी रामवीर सिंह ने पिटवाया था। इसकी एफआईआर उस वक्त अमिताभ ने दर्ज कराई थी। मुलायम से उनकी कथित बातचीत का ऑडियो आईपीएस की पत्नी और सोशल एक्टिविस्ट नूतन ठाकुर ने जारी किया था।