1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Mulayam Singh Yadav birthday : जब मुलायम सिंह यादव के एनकाउंटर का हो गया था ऑर्डर, ऐसी पलटी बाजी

Mulayam Singh Yadav birthday : जब मुलायम सिंह यादव के एनकाउंटर का हो गया था ऑर्डर, ऐसी पलटी बाजी

Mulayam Singh Yadav's 83rd Birthday: समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के संस्थापक और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) का सोमवार को 83वां जन्मदिन मनाया जा रहा है। आज मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन (Birthday) पर उनके जीवन जुड़ा है। हम एक इंटरेस्टिंग किस्सा आप लोगों से शेयर करने जा रहे हैं।बता दें कि मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) का यूपी की राजनीति में चाहे जितना दबदबा रहा हो, लेकिन एक समय ऐसा भी आया था, जब यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह (Vishwanath Pratap Singh) ने उनके एनकाउंटर (Encounter) के आदेश जारी कर दिए गए थे।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Mulayam Singh Yadav’s 83rd Birthday: समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के संस्थापक और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) का सोमवार को 83वां जन्मदिन मनाया जा रहा है। आज मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन (Birthday) पर उनके जीवन जुड़ा है। हम एक इंटरेस्टिंग किस्सा आप लोगों से शेयर करने जा रहे हैं।

पढ़ें :- जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 2 आतंकी ढेर, Search operation के दौरान हुआ एनकाउंटर

बता दें कि मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) का यूपी की राजनीति में चाहे जितना दबदबा रहा हो, लेकिन एक समय ऐसा भी आया था, जब यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह (Vishwanath Pratap Singh) ने उनके एनकाउंटर (Encounter) के आदेश जारी कर दिए गए थे।

मुलायम सिंह के एनकाउंटर के दिए गए थे आदेश

1981-1982 के दरमियान देश के प्रतिष्ठित अखबार इंडियन एक्सप्रेस (Indian Express) में एक खबर छपी थी, जिसके आधार पर पता चला था कि यूपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह (Vishwanath Pratap Singh) ने मुलायम सिंह के एनकाउंटर के आदेश दे दिए थे। ऐसा इसलिए किया क्योंकि विश्वनाथ प्रताप सिंह (Vishwanath Pratap Singh) का मानना था कि मुलायम सिंह के डकैतों से संबंध थे। इतना ही नहीं इन पर हत्या का भी आरोप था, जिसके चलते यूपी पुलिस (UP Police) को एनकाउंटर के आदेश दिए गए।

जानें कैसे बचे थे मुलायम सिंह यादव?

पढ़ें :- समाजवादी पार्टी सभी रंगों को जोड़ बनाना चाह रही गुलदस्ता तो एक रंग वाले दिख रहे परेशान : अखिलेश यादव

इसकी भनक यूपी पुलिस (UP Police) के माध्यम से ये सूचना मुलायम सिंह तक पहुंच गई, जिसके बाद मुलायम ने अपनी जान बचाने के लिए बस साइकिल से ही इटावा से फरार हो गए। गांव-गांव, खेत-खेत होते हुए किसी न किसी तरह दिल्ली पहुंचे। यहां पहुंचकर वे सबसे पहले चौधरी चरण सिंह के घर गए और उनके पैर पकड़ लिए। उनसे कहा कि वीपी सिंह (VP Singh) ने मेरे एनकाउंटर का आदेश यूपी पुलिस (UP Police) को दे दिया है। चौधरी साहब किसी तरह मेरी रक्षा कीजिए। यूपी पुलिस (UP Police) मुलायम सिंह को हर तरफ ढूंढ रही थी।

ऐसी पलटी बाजी जो पुलिस मुलायम का एनकाउंटर के लिए ढूढ रही थी, वही पुलिस सुरक्षा में लग गई

जबकि पुलिस को मुलायम सिंह के दिल्ली भागने की भनक तक नहीं लगी। इसके बाद चौधरी चरण सिंह (Chaudhary Charan Singh) ने मुलायम सिंह को अपनी पार्टी में उत्तर प्रदेश विधान मंडल दल का नेता बना दिया। चौधरी चरण सिंह की इस घोषणा के बाद ही जो यूपी पुलिस (UP Police) मुलायम का एनकाउंटर (Encounter)के लिए ढूढ रही थी, वही पुलिस उनकी सुरक्षा में लग गई।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...