नई पार्टी का ऐलान न करने से खफा है शिवपाल, पहले ही तय था नई पार्टी का ऐलान

लखनऊ। सोमवार को राजधानी स्थित लोहिया ट्रस्ट पर मुलायम सिंह यादव ने एक प्रेस कांग्रेस बुलाई थी जिसमें कयास लगाया जा रहा था कि आज मुलायम कोई नयी पार्टी का ऐलान कर सकते है। लेकिन मुलायम सिंह ने ऐसा नहीं किया। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो प्रेस नोट में नई पार्टी ऐलान करने की बात लिखी गयी थी, यानि नई पार्टी को लेकर स्क्रिप्ट पहले ही लिखी जा चुकी थी लेकिन मुलायम सिंह यादव ने इसे नहीं पढ़ा। खबर यह भी है कि शिवपाल इसी बात से नाराज़ है कि जब यह पहले ही तय हो चुका था तो ऐसा क्यों नहीं हुआ।

सोमवार को लोहिया ट्रस्ट में आयोजित प्रेस कांफ्रेस के दौरान मुलायम का अखिलेश के रवैये से दुख जरूर छ्लका लेकिन फिर भी उन्होने एक पिता होने का दायित्व निभाया। इस दौरान मुलायम ने कहा कि भले ही मेरे बेटे ने मेरे सम्मना को ठेस पहुंचाई हो लेकिन मेरा आशीर्वाद हमेशा उनके साथ है। बता दें कि समाजवादी पार्टी में फूट के बाद दो गुट बन गए थे। एक गुट मुलायम और उनके छोटे भाई शिवपाल यादव का है, तो दूसरा गुट अखिलेश और मुलायम के चचेरे भाई रामगोपाल यादव का है।

{ यह भी पढ़ें:- अखिलेश की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में मुलायम के करीबियों को जगह, शिवपाल नदारद }

सूत्रों की माने तो “लोहिया ट्रस्ट में जो पीसी हुई, उसे शिवपाल ने अरेंज किया था। मुलायम को जो बोलना था, उसकी स्क्रिप्ट भी शिवपाल ने पहले से ही तैयार करवा ली थी। नई पार्टी बनाने की पूरी भूमिका भी बन चुकी थी। मुलायम और शिवपाल दोनों को एक साथ मीडिया के सामने बैठना था। लेकिन पीसी में आने से थोड़ी ही देर पहले शिवपाल ने मुलायम से फोन पर पूछा- आप वो नोट पढ़ेंगे? इस पर मुलायम ने कहा- अभी नहीं। इस पर शिवपाल ने कहा- आप नोट नहीं पढ़ेंगे तो मैं पीसी में नहीं आऊंगा।” शिवपाल यादव लखनऊ में ही हैं, इसके बावजूद मुलायम को प्रेस कॉन्फ्रेंस में ये कहना पड़ा कि वे लखनऊ में नहीं हैं।

{ यह भी पढ़ें:- संगीत सोम ने ताजमहल को बताया भारतीय संस्कृति पर धब्बा, ओवैसी ने किया पलटवार }