मुलायम सिंह की छोटी बहू अपर्णा यादव को मिली वाई श्रेणी की सुरक्षा

aprna yadav
मुलायम सिंह की छोटी बहू अपर्णा यादव को मिली वाई श्रेणी की सुरक्षा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव को वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की है। इसे लेकर एडीजी सुरक्षा गृह (पुलिस) विभाग अनुभाग-16 के संयुक्त सचिव की तरफ से आदेश जारी कर दिया गया है।

Mulayam Singhs Younger Daughter In Law Aparna Yadav Gets Y Class Security :

वहीं, अर्पणा यादव को वाई श्रेणी ​सुरक्षा मिलने के बाद कई तरह की चर्चाएं हो रहीं हैं। बता दें कि अपर्णा यादव खुले तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्रशंसा करती रही हैं। उनकी पहचान एक सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में है।

अपर्णा यादव 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में सपा के टिकट पर लखनऊ कैंट से चुनाव भी लड़ चुकी हैं। वह मुलायम सिंह यादव के बेटे प्रतीक यादव की पत्नी हैं। उन्होंने ब्रिटेन की मैनचेस्टर यूनिवर्सिटी से इंटरनेशनल पॉलिटिक्स में मास्टर डिग्री हासिल की है।

गौरतलब है कि, अर्पणा यादव पीएम माोदी और प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के कदम की अक्सर सराहना करती रहती हैं। कई मामले पर उन्होंने समाजवादी पार्टी से अलग अपना विचार रखा और सीएम योगी आदित्यनाथ के फैसले की तारिफ की है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव को वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की है। इसे लेकर एडीजी सुरक्षा गृह (पुलिस) विभाग अनुभाग-16 के संयुक्त सचिव की तरफ से आदेश जारी कर दिया गया है। वहीं, अर्पणा यादव को वाई श्रेणी ​सुरक्षा मिलने के बाद कई तरह की चर्चाएं हो रहीं हैं। बता दें कि अपर्णा यादव खुले तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्रशंसा करती रही हैं। उनकी पहचान एक सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में है। अपर्णा यादव 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में सपा के टिकट पर लखनऊ कैंट से चुनाव भी लड़ चुकी हैं। वह मुलायम सिंह यादव के बेटे प्रतीक यादव की पत्नी हैं। उन्होंने ब्रिटेन की मैनचेस्टर यूनिवर्सिटी से इंटरनेशनल पॉलिटिक्स में मास्टर डिग्री हासिल की है। गौरतलब है कि, अर्पणा यादव पीएम माोदी और प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के कदम की अक्सर सराहना करती रहती हैं। कई मामले पर उन्होंने समाजवादी पार्टी से अलग अपना विचार रखा और सीएम योगी आदित्यनाथ के फैसले की तारिफ की है।