दक्षिण मुंबई में गिरी 3 मंजिला इमारत, मलबे से निकाले गए 17 लोग

दक्षिण मुंबई में गिरी 3 मंजिला इमारत, मलबे से निकाले गए 17 लोग
दक्षिण मुंबई में गिरी 3 मंजिला इमारत, मलबे से निकाले गए 17 लोग

मुंबई। दक्षिण मुंबई में फोर्ट इलाके में मंगलवार रात एक तीन मंजिला इमारत गिर गई जिसमें कई लोगों को गंभीर चोटें आई हैं। इस मामले में पुलिस का कहना है कि बिल्डिंग काफी कमजोर थी और भारी बारिश के चलते इसका एक हिस्सा भरभरा कर गिर गया। मंगलदास रोड की लोहार चॉल में यूसुफ नाम की इमारत करीब 9 बजकर 15 मिनट पर अचानक गिर गई। हादसे में राहत और बचाव दल ने अबतक 17 लोगों को बाहर निकाला है हालांकि अभी भी इमारत के मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका है।

Mumbai Building Collapse Crawford Market 17 People Rescued :

मिली जानकारी के मुताबिक ये बिल्डिंग राज्य आवास एजेंसी म्हाडा के अधिकार क्षेत्र में है। ऐसे में बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमएसी) के आपदा प्रकोष्ठ के अधिकारियों का कहना है कि फायर ब्रिगेड के जवान और बीएमसी के कर्मचारी मौके पर मौजूद हैं और बचाव व राहत कार्य जारी है। फायर ब्रिगेड के अधिकारियों का कहना है कि पहले तो उन्हें जानकारी मिली कि मलबे में तीन से चार ही लोग हो सकते हैं, लेकिन धीरे-धीरे आसपास के लोगों ने कहा कि ये संख्या ज्यादा हो सकती है। इसके बाद रेस्क्यू ऑपरेशन बेहद सावधानी से चलाया जा रहा है।

बता दें कि बीते कुछ दिनों से मुंबई फिर से बारिश की चपेट में है, जिसका बुरा प्रभाव शहर की पुरानी इमारतों पर देखने को मिल रहा है। मुंबई के अग्निशमन दल के प्रमुख पी. एस. रहांगडाले से पता चला है कि अनहोनी की आशंका से पास की द्वारकादास इमारत और यूसुफ इमारत के बचे हुए हिस्से को खाली करा लिया गया है।

गौरतलब है कि इसी साल जुलाई के महीने में मुंबई के डोंगरी इलाके में करीब 100 साल पुरानी चार मंजिला इमारत गिरी थी। इस हादसे में एक दर्जन से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी।

मुंबई। दक्षिण मुंबई में फोर्ट इलाके में मंगलवार रात एक तीन मंजिला इमारत गिर गई जिसमें कई लोगों को गंभीर चोटें आई हैं। इस मामले में पुलिस का कहना है कि बिल्डिंग काफी कमजोर थी और भारी बारिश के चलते इसका एक हिस्सा भरभरा कर गिर गया। मंगलदास रोड की लोहार चॉल में यूसुफ नाम की इमारत करीब 9 बजकर 15 मिनट पर अचानक गिर गई। हादसे में राहत और बचाव दल ने अबतक 17 लोगों को बाहर निकाला है हालांकि अभी भी इमारत के मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका है। मिली जानकारी के मुताबिक ये बिल्डिंग राज्य आवास एजेंसी म्हाडा के अधिकार क्षेत्र में है। ऐसे में बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमएसी) के आपदा प्रकोष्ठ के अधिकारियों का कहना है कि फायर ब्रिगेड के जवान और बीएमसी के कर्मचारी मौके पर मौजूद हैं और बचाव व राहत कार्य जारी है। फायर ब्रिगेड के अधिकारियों का कहना है कि पहले तो उन्हें जानकारी मिली कि मलबे में तीन से चार ही लोग हो सकते हैं, लेकिन धीरे-धीरे आसपास के लोगों ने कहा कि ये संख्या ज्यादा हो सकती है। इसके बाद रेस्क्यू ऑपरेशन बेहद सावधानी से चलाया जा रहा है। बता दें कि बीते कुछ दिनों से मुंबई फिर से बारिश की चपेट में है, जिसका बुरा प्रभाव शहर की पुरानी इमारतों पर देखने को मिल रहा है। मुंबई के अग्निशमन दल के प्रमुख पी. एस. रहांगडाले से पता चला है कि अनहोनी की आशंका से पास की द्वारकादास इमारत और यूसुफ इमारत के बचे हुए हिस्से को खाली करा लिया गया है। गौरतलब है कि इसी साल जुलाई के महीने में मुंबई के डोंगरी इलाके में करीब 100 साल पुरानी चार मंजिला इमारत गिरी थी। इस हादसे में एक दर्जन से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी।