गर्लफ्रेंड से मिलने पाकिस्तान पहुंचे बेटे की रिहाई चाहते हैं भारतीय दंपति

अमृतसर| एक बुजुर्ग दंपति अपने पुत्र की पाकिस्तानी जेल से रिहाई के लिए भारत दौरे पर आ रहे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के विदेश मामले के सलाहकार सरताज अजीज से न्याय चाह रहे हैं। सजा पूरी होने के बावजूद उनका बेटा वहां जेल में बंद है। मुंबई के रहने वाले दंपति एक उम्मीद और अपील के साथ पाकिस्तान की सीमा से सटे अमृतसर में डेरा डाले हुए हैं। सरताज अजीज रविवार को हार्ट ऑफ एशिया-इस्तानबुल प्रक्रिया के मंत्रिस्तरीय विचार-विमर्श में भाग लेने के लिए भारत आ रहे हैं। सम्मेलन में आठ विदेश मंत्री और प्रतिभागी 14 देशों के प्रतिनिधि शिरकत कर रहे हैं। सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी भी उपस्थित रहेंगे।




भारतीय नागरिक हमिद अंसारी की मां फौजिया ने कहा, “हम यहां केवल हमारे पुत्र को न्याय दिलाने के लिए हैं, जो पेशावर की केंद्रीय जेल में सड़ रहा है।” उन्होंने कहा कि अंसारी की तीन साल जेल की सजा एक साल पहले पूरी हो चुकी थी। उन्होंने कहा कि वह अपने पति नेहाल अंसारी के साथ अपने पुत्र के लिए दया की मांग वाली तख्तियां हाथ में लेकर हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन में पहुंचने पर अजीज को दिखाएंगे। भावुक फौजिया ने कहा कि उन्होंने अपने पुत्र की जल्द रिहाई के संदर्भ में मुलाकात के लिए समय की मांग को लेकर कई आवेदन पत्र अजीज को भेजा, लेकिन समय नहीं मिला। इंजीनियर और व्यापारिक पेशेवर उनका बेटा नौकरी की तलाश में चार नवम्बर, 2012 को पर्यटक वीजा पर काबुल गया था और 12 नवम्बर, 2012 को पाकिस्तान में दाखिल हो गया था।

उसके ई-मेल अकाउंट से पता चला था कि वह फेसबुक पर एक पाकिस्तानी लड़की के संपर्क में था और पाकिस्तान चला गया था, जहां उसे गिरफ्तार कर लिया गया था और तीन साल जेल की सजा सुनाई गई थी। नेहाल ने कहा, “मैं एक बार फिर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और सरताज अजीज से अनुकंपा के आधार पर हमारे पुत्र की रिहाई के लिए अपील करूंगा, क्योंकि उसने बहुत कुछ झेला है।” नेहाल ने कहा कि उसके पुत्र को न तो दूतावास से संपर्क करने दिया गया और न ही परिजनों से मुंबई में बात करने दी गई। नम आंखों से भावुक नेहाल ने कहा, “उससे मिलने और उसे कानूनी सहायता पहुंचाने के लिए हमें पाकिस्तान जाने हेतु वीजा भी नहीं दिया गया है।” पीड़ित की मां ने कहा, “उसकी गिरफ्तारी से लेकर आज तक वह चार साल जेल में पूरा कर चुका है। उस पर कई बार हमले हुए थे।” बेटे की रिहाई के लिए बुजुर्ग दंपति को सिर्फ अजीज से ही उम्मीद है।



Loading...