रेलवे नौकरी के लिए मुंबई छात्रों ने किया प्रदर्शन, 30 ट्रेनें रद्द लाखों यात्री परेशान

रेलवे नौकरी, मुंबई छात्रों का प्रदर्शन
रेलवे नौकरी के लिए मुंबई छात्रों ने किया प्रदर्शन, 30 ट्रेनें रद्द लाखों यात्री परेशान

मुंबई। रेलवे में नौकरी की मांग को लेकर छात्रों ने मुंबई में प्रदर्शन शुरू कर दिया है। प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने माटुंगा और छत्रपति शिवाजी टर्मिनिल रेलवे स्टेशन को अपना निशाना बनाते हुए रेलवे ट्रैक पर कब्जा कर लिया है। लोकल ट्रेन की पटरी पर जाम लग जाने के बाद ट्रेनों का आवागमन बाधित हो गया है और आम-जनजीवन काफी प्रभावित हो रहा है। मुंबई के हजारों, लाखों लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

Mumbai Train Affected Due To Students Protest On Mumbai Railway Track :

जानकारी के मुताबिक सैकड़ों की संख्या में ये छात्र रेलवे की सरकारी नौकरी के लिए आंदोलन कर रहे हैं। छात्रों को रेल पटरियों से हटाने के लिए पुलिस मौके पर पहुंच रही है। बता दें कि ऑफिस टाइम होने और सीएसटी-माटुंगा की लाइन पर ज्यादा ट्रैफिक होने से लोगों को भी परेशानी हो रही है। लोकल ट्रेनों के अलावा लंबी दूरी के ट्रेनें भी प्रदर्शन के चलते लेट हो रहे हैं।

माटुंगा स्टेशन पर ट्रेनें रोके जाने की वजह से यात्री पैदल ही ट्रैक पर चलकर आगे बढ़ रहे हैं। रेलवे के मुताबिक, माटुंगा में रेल ट्रैक पर 3000 से ज्यादा लोगे मौजूद। उत्तर-पूर्वी मुंबई से सांसद किरीट सोमैया ने ट्वीट कर बताया, ‘मुंबई रेलवे अप्रेंटिस आंदोलन के बारे में पीयूष गोयल जी से बात हुई है। उन्होंने आंदोलन कर्ताओं से बातचीत का भरोसा दिलाया है। सभी को न्याय मिलेगा, मैं आंदोलनकर्ताओं से अनुरोध करता हूं कि रेल रोको को वापस लें और चर्चा के लिए सामने आएं।’

छात्रों की मांग

प्रदर्शन कर रहे छात्र में रेलवे में अप्रेंटिस की परीक्षा देने वाले हैं। परीक्षा के लिए फॉर्म भरे जाने की आखिरी तारीख 31 मार्च है। ये छात्र परीक्षा में 20 पर्सेंट अपर लिमिट को हटाने की मांग कर रहे हैं। इनकी मांग है कि इसमें सिर्फ उन्हीं छात्रों की भर्ती हो जो टेस्ट पास करें। बताया जा रहा है कि ये अप्रेंटिस स्टूडेंट सालों तक काम कर चुके हैं लेकिन इन्हें नौकरी नहीं मिल पा रही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, छात्रों को कंट्रोल में लाने के मुंबई पुलिस ने लाठीचार्ज किया तो छात्रों ने इसके जवाब में ट्रेनों पर पर पत्थर फेंके।

मुंबई। रेलवे में नौकरी की मांग को लेकर छात्रों ने मुंबई में प्रदर्शन शुरू कर दिया है। प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने माटुंगा और छत्रपति शिवाजी टर्मिनिल रेलवे स्टेशन को अपना निशाना बनाते हुए रेलवे ट्रैक पर कब्जा कर लिया है। लोकल ट्रेन की पटरी पर जाम लग जाने के बाद ट्रेनों का आवागमन बाधित हो गया है और आम-जनजीवन काफी प्रभावित हो रहा है। मुंबई के हजारों, लाखों लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।जानकारी के मुताबिक सैकड़ों की संख्या में ये छात्र रेलवे की सरकारी नौकरी के लिए आंदोलन कर रहे हैं। छात्रों को रेल पटरियों से हटाने के लिए पुलिस मौके पर पहुंच रही है। बता दें कि ऑफिस टाइम होने और सीएसटी-माटुंगा की लाइन पर ज्यादा ट्रैफिक होने से लोगों को भी परेशानी हो रही है। लोकल ट्रेनों के अलावा लंबी दूरी के ट्रेनें भी प्रदर्शन के चलते लेट हो रहे हैं।माटुंगा स्टेशन पर ट्रेनें रोके जाने की वजह से यात्री पैदल ही ट्रैक पर चलकर आगे बढ़ रहे हैं। रेलवे के मुताबिक, माटुंगा में रेल ट्रैक पर 3000 से ज्यादा लोगे मौजूद। उत्तर-पूर्वी मुंबई से सांसद किरीट सोमैया ने ट्वीट कर बताया, 'मुंबई रेलवे अप्रेंटिस आंदोलन के बारे में पीयूष गोयल जी से बात हुई है। उन्होंने आंदोलन कर्ताओं से बातचीत का भरोसा दिलाया है। सभी को न्याय मिलेगा, मैं आंदोलनकर्ताओं से अनुरोध करता हूं कि रेल रोको को वापस लें और चर्चा के लिए सामने आएं।'छात्रों की मांगप्रदर्शन कर रहे छात्र में रेलवे में अप्रेंटिस की परीक्षा देने वाले हैं। परीक्षा के लिए फॉर्म भरे जाने की आखिरी तारीख 31 मार्च है। ये छात्र परीक्षा में 20 पर्सेंट अपर लिमिट को हटाने की मांग कर रहे हैं। इनकी मांग है कि इसमें सिर्फ उन्हीं छात्रों की भर्ती हो जो टेस्ट पास करें। बताया जा रहा है कि ये अप्रेंटिस स्टूडेंट सालों तक काम कर चुके हैं लेकिन इन्हें नौकरी नहीं मिल पा रही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, छात्रों को कंट्रोल में लाने के मुंबई पुलिस ने लाठीचार्ज किया तो छात्रों ने इसके जवाब में ट्रेनों पर पर पत्थर फेंके।