1. हिन्दी समाचार
  2. जानिए किसी तरह की गयी थी विधायक कृष्णानंद राय की हत्या

जानिए किसी तरह की गयी थी विधायक कृष्णानंद राय की हत्या

Murder Case Of Bjp Mla Krishnanand Rai

By पर्दाफाश समूह 
Updated Date

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के बहुचर्चित कृष्णानंद राय हत्याकांड में माफिया डॉन मुख्तार अंसारी समेत 5 आरोपियों को दिल्ली की एक अदालत ने बरी कर दिया है। चलिए हम आपको 2005 को हुई यूपी की अब तक सबसे सनसनीखेज हत्या के बारे में पूरा घटनाक्रम बताते हैं।

पढ़ें :- योग गुरु बाबा रामदेव ने की गृहमंत्री से मुलाकात, कहा- मोदी की मनसा और नीति एकदम सही

यूपी के गाजीपुर की मुहम्मदाबाद विधानसभा सीट से तत्कालीन बीजेपी विधायक राय को 29 नवंबर 2005 को उस वक्त गोलियों से भून दिया गया था जब वह सियारी नाम के गांव में एक क्रिकेट टूर्नमेंट का उद्घाटन करके लौट रहे थे। राय समेत 7 लोगों की मौत हुई थी।

हमेशा बुलेट प्रूफ गाड़ी से चलने वाले राय उस दिन बुलेट प्रूफ गाड़ी में नहीं थी। हत्या का आरोप मुख्तार अंसारी और मुन्ना बजरंगी पर लगा था। कृष्णानंद राय अपने गनर निर्भय उपाध्याय, ड्राइवर मुन्ना यादव, रमेश राय, श्याम शंकर राय, अखिलेश राय और शेषनाथ सिंह के साथ कनुवान गांव की ओर जा रहे थे।

बासनिया छत्ती गांव से डेढ़ किलोमीटर आगे जाने पर सिल्वर ग्रे कलर कर टाटा सूमो सामने से आती हुई नजर आई। सूमो से निकले सात-आठ लोगों ने कृष्णानंद राय की गाड़ी पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी। उस गाड़ी में सवार सातों लोग मारे गए।

इस फायरिंग में पहली बार यूपी में एके 47 राइफल का प्रयोग किया गया था। हमलावरों ने विधायक की गाड़ी पर करीब 400 राउंड फायरिंग की थी। इस सनसनीखेज हत्या के बाद यूपी पुलिस के होश उड़ गये थे। पुलिस के पास मौजूद एके 47 जैसा आधुनिक असलहा अपराधियों के पास पहुंच गया था।

पढ़ें :- प्रदेश में 3 आईएएस अधिकारियों के तबादले, डीपीआर हरियाणा को अतिरिक्त कार्यभार

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...