कार्रवाई : डीजीपी आफिस में तैनात एसपी समेत आठ पर अमेठी में एफआईआर

sp kk gahlot
कार्रवाई : डीजीपी आफिस में तैनात एसपी समेत आठ पर अमेठी में एफआईआर

लखनऊ। अमेठी के पूर्व एसपी केके गहलोत के साथ ही मुसाफिरखाना थाने के तत्कालीन एसओ व पांच अन्य पुलिस कर्मियों के विरुद्ध हत्या के प्रयास सहित गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है। उक्त घटना में एक बोलेरो चालक भी शामिल था, जिसका नाम भी एफआईआर में शामिल है। ये मुकदमा कोर्ट के आदेश पर दर्ज हुए, जिसकी विवेचना एसपी सुलतानपुर करेंगे।बताया जा रहा है कि जानलेवा हमले की ये घटना 26 फरवरी 2018 की है, उस वक्त केके गहलोत वहां से एसपी थे।

Musafirkhana Police Loged Fir In Attempted Murder Against Ex Sp Amethi With 7 Other :

बता दें कि मुसाफिरखाना कोतवाली क्षेत्र के गांव अजियाउर देई निवासी अधिवक्ता राघवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी ने हाईकोर्ट लखनऊ में याचिका दाखिल की थी। उन्होने तत्कालीन एसपी के साथ ही मुसाफिरखाना थाने के तत्कालीन एसओ पारसनाथ सिंह, अलीगंज चौकी प्रभारी दिनेश सिंह, मुसाफिरखाना कोतवाली के सिपाही सूर्यप्रकाश, पुष्पराज, देवेश कुमार व ऋषिराज तथा एक बोलेरो के मालिक पर आरोप लगाया था। अधिवक्ता के मुताबिक इन सभी आरोपियों ने मिलकर उसकी हत्या करने का षड़यंत्र रचा।

अधिवक्ता ने उक्त मामले में याचिका दाखिल कर इन सभी के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की मांग की। कोर्ट ने मामले में सभी आरोपियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने का आदेश पारित तो राघवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी ने एसपी अमेठी को कोर्ट के आदेश के आधार पर आरोपियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने के लिए तहरीर दी। पुलिस ने गुरुवार की देर रात मुसाफिरखाना थाने में पूर्व एसपी सहित सभी आरोपियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया।

बता दें कि इ सभी लोगों पर आईपीसी की धारा 148, 149, 167, 182, 195, 211, 218, 323, 307, 326, 364, 367, 368, 504 व 511 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। एसपी अनुराग आर्य ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर मुकदमा मुसाफिरखाना थाने में दर्ज किया गया है। कोर्ट के दिशा निर्देश के अनुसार मामले की विवेचना की जाएगी।

 

 

लखनऊ। अमेठी के पूर्व एसपी केके गहलोत के साथ ही मुसाफिरखाना थाने के तत्कालीन एसओ व पांच अन्य पुलिस कर्मियों के विरुद्ध हत्या के प्रयास सहित गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है। उक्त घटना में एक बोलेरो चालक भी शामिल था, जिसका नाम भी एफआईआर में शामिल है। ये मुकदमा कोर्ट के आदेश पर दर्ज हुए, जिसकी विवेचना एसपी सुलतानपुर करेंगे।बताया जा रहा है कि जानलेवा हमले की ये घटना 26 फरवरी 2018 की है, उस वक्त केके गहलोत वहां से एसपी थे।बता दें कि मुसाफिरखाना कोतवाली क्षेत्र के गांव अजियाउर देई निवासी अधिवक्ता राघवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी ने हाईकोर्ट लखनऊ में याचिका दाखिल की थी। उन्होने तत्कालीन एसपी के साथ ही मुसाफिरखाना थाने के तत्कालीन एसओ पारसनाथ सिंह, अलीगंज चौकी प्रभारी दिनेश सिंह, मुसाफिरखाना कोतवाली के सिपाही सूर्यप्रकाश, पुष्पराज, देवेश कुमार व ऋषिराज तथा एक बोलेरो के मालिक पर आरोप लगाया था। अधिवक्ता के मुताबिक इन सभी आरोपियों ने मिलकर उसकी हत्या करने का षड़यंत्र रचा।अधिवक्ता ने उक्त मामले में याचिका दाखिल कर इन सभी के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की मांग की। कोर्ट ने मामले में सभी आरोपियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने का आदेश पारित तो राघवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी ने एसपी अमेठी को कोर्ट के आदेश के आधार पर आरोपियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने के लिए तहरीर दी। पुलिस ने गुरुवार की देर रात मुसाफिरखाना थाने में पूर्व एसपी सहित सभी आरोपियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया।बता दें कि इ सभी लोगों पर आईपीसी की धारा 148, 149, 167, 182, 195, 211, 218, 323, 307, 326, 364, 367, 368, 504 व 511 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। एसपी अनुराग आर्य ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर मुकदमा मुसाफिरखाना थाने में दर्ज किया गया है। कोर्ट के दिशा निर्देश के अनुसार मामले की विवेचना की जाएगी।