मिसाल: इस मुस्लिम कपल ने लिया शहीद की बेटी को गोद

शिमला। देश भर में राजनेता धर्म के नाम पर राजनीति कर रहे है। घाटी में भी धर्म के नाम पर नफरत की बीज बोई जा रही है लेकिन इन सब से हट कर हिमाचल के इस मुस्लिम आईएएस और आईपीएस दंपत्ति ने ऐसा सराहनीय कार्य किया है जिसकी चौतरफा प्रशंसा हो रही है। दरअसल इन दोनों ने सीमा पर शहीद हुए सेना के जवान की 12 वर्षीय बेटी को गोद लेकर बेहतरीन मिसाल पेश की है। इस नौकरशाह दंपत्ति ने शहीद परमजीत सिंह की बेटी को गोद लिया है। जो जम्मू कश्मीर के पूंछ जिले में पाकिस्तान की कायराना हरकत का शिकार हो गए थे।




कुल्लू जिले के उपायुक्त पद पर तैनात IAS अधिकारी युनूस खान और उनकी IPS पत्नी अंजुम आरा ने नायब सूबेदार परमजीत सिंह की शहादत को श्रद्धांजलि देते हुए 12 वर्षीय बच्ची खुशदीप कौर की स्कूली शिक्षा से लेकर उसकी शादी तक का खर्च उठाने का निर्णय लिया है, जिससे उसका भविष्य बेहतर हो सके।



सोलन जिले की एसपी अंजुम आरा ने कहा, ‘खुशदीप की इच्छा है कि वो अपने परिजनों के साथ ही रहना चाहती है। हम बेटी की इच्छा का मान करेंगे और उसकी पढ़ाई का पूरा खर्च उठाएंगे। अगर उसे आईएएस या आईपीएस बनने का शौक होगा तो इस इच्छा को पूरा करने के लिए सारे साधन जुटाएंगे।’




आईएएस युनूस ने कहा,’हम शहीद के परिवार के दर्द को साझा करने की कोशिश कर रहे हैं। हम बेटी का सारा खर्च उठाएंगे और समय-समय पर उससे मिलने भी जाते रहेंगे। हम देश के जिम्मेदार नागरिक को तौर पर अपना कर्तव्य पूरा कर रहे हैं। हम पूरी जिंदगी उसके हर एक फैसले में उसके साथ रहेंगे।’