1. हिन्दी समाचार
  2. मुजफ्फरपुर केस: CBI ने SC से कहा- किसी लड़की की हत्या शेल्टर होम में नहीं हुई

मुजफ्फरपुर केस: CBI ने SC से कहा- किसी लड़की की हत्या शेल्टर होम में नहीं हुई

Muzaffarpur Case Cbi Told Supreme Court No Girl Was Killed In The Shelter Home

By बलराम सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। बिहार के मुजफ्फरपुर में शेल्टर होम यौन उत्पीड़न केस में बुधवार को सीबीआई की तरफ सुप्रीम कोर्ट में पेश हुए अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि शेल्टर होम में किसी नाबालिग लड़की की हत्या नहीं हुई है। वहां जो नर कंकाल मिले है उसमें कोई भी नाबालिग लड़की का कंकाल नहीं है। सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि मुजफ्फरपुर शेल्टर होम यौन उत्पीड़न के 17 मामलों में जांच पूरी हो गई है।

पढ़ें :- कोरोना वायरस: पंजाब में सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह को दी जाएगी कोरोना वैक्सीन की पहली खुराक

सुप्रीम कोर्ट में दखिल की गई अपनी स्टेटस रिपोर्ट में सीबीआई ने कहा कि चार प्रारंभिक जांच में किसी आपराधिक कृत्य को साबित करने वाला साक्ष्य नहीं मिला है। इसलिए कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई है। सीबीआई ने कहा कि सभी 17 आश्रय गृह मामलों में जांच पूरी हो गई है। 13 नियमित मामलों में अंतिम रिपोर्ट सक्षम अदालत को भेजी गई है। चार प्रारंभिक मामलों की जांच पूरी हो गई है और आपराधिक कृत्य को साबित करने वाले साक्ष्य नहीं मिले। लिहाजा प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई है।

सीबीआई ने कहा कि सभी मामलों में शामिल सरकारी सेवकों के खिलाफ कार्रवाई के लिए बिहार के मुख्य सचिव को सीबीआई की रिपोर्ट भेज दी गई है। मुजफ्फरपुर आश्रय गृह समेत सभी 17 आश्रय गृह मामलों की जांच पूरी हो गई है और सक्षम अदालत में अंतिम रिपोर्ट दायर कर दी गई है। सीबीआई रिपोर्ट के रूप में नोट को मुख्य सचिव के पास उपयुक्त कार्रवाई के लिए भेजा गया है।

सीबीआई ने यह भी कहा कि बिहार सरकार से आग्रह किया गया है कि विभागीय कार्रवाई करे और सीबीआई के प्रारूप में जांच परिणाम मुहैया कर संबंधित एनजीओ का पंजीकरण रद्द करने और उन्हें काली सूची में डालने के लिए कहा गया है। बालिका गृह मुजफ्फरपुर के एक मामले में सुनवाई पूरी हो गई है और फैसला 14 जनवरी तक सुनाया जाएगा।

यह था मामला
बिहार के मुजफ्फरपुर में एक एनजीओ की ओर से संचालित आश्रय गृह में कई लड़कियों का यौन उत्पीड़न किया गया था। टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (टीआईएसएस) की रिपोर्ट के बाद यह मामला सामने आया था। मामले के खुालसे के बाद बिहार की राजनीति गर्मा गई थी विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव लगतार सरकार पर इस मामले को लेकर हमलावर रहे हैं।

पढ़ें :- किसान आंदोलन: कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग, किसानों ने कहा-बुलाए जाए संसद का विशेष सत्र

25 पूर्व डीएम सहित 70 अधिकारियों पर कार्रवाई की अनुशंसा
सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि उसने मुज़फ़्फ़रपुर शेल्टर होम से संबंधित सभी 17 मामलों में अपनी जांच पूरी कर ली है। सीबीआई ने इस मामले में 25 पूर्व डीएम सहित 70 अधिकारियों के खिलाफ बिहार सरकार को कार्रवाई करने की अनुशंसा की है। सात अन्य आश्रय घरों के लोगों के खिलाफ चार्जशीट नवंबर-दिसंबर 2019 में दायर की गई थी। हलफनामे में कहा गया है कि सीबीआई ने बिहार सरकार से अनुरोध किया है कि उन एनजीओ के पदाधिकारियों पर विभागीय कार्रवाई की जाए जिनका नाम सीबीआई ने अपनी रिपोर्ट में लिया है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...