रामचंद्र गुहा और अनुराग कश्यप समेत 50 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज, जाने पूरा मामला

रामचंद्र गुहा और अनुराग कश्यप समेत 50 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज, जाने पूरा मामला
रामचंद्र गुहा और अनुराग कश्यप समेत 50 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज, जाने पूरा मामला

नई दिल्ली। बिहार के मुजफ्फरपुर में एक बार फिर हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है, दरअसल आयेदिन बढ़ रहे मॉब लिंचिंग के मामलों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खुला खत लिखने वाले 50 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर लिया गया है। पुलिस से जानकारी मिली है कि इस मामले में रामचंद्र गुहा, मणि रत्नम, अनुराग कश्यप और अपर्णा सेन समेत करीब 50 लोगों के खिलाफ गुरूवार को एफआईआर दर्ज कर ली गई है।

Muzaffarpur Fir And Sedition Charges Against 49 Celebs Including Anurag Kashyap Ramchandra Guha :

बता दें कि स्थानीय वकील सुधीर कुमार ओझा की ओर से दो महीने पहले दायर की गई एक याचिका पर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (सीजेएम) सूर्य कांत तिवारी के आदेश के बाद यह प्राथमिकी दर्ज हुई है। सुधीर ओझा का कहना है कि सीजेएम ने 20 अगस्त को उनकी याचिका स्वीकार कर ली थी। इसके बाद बृहस्पतिवार को सदर पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज हुई। ओझा ने आरोप लगाया है कि इन हस्तियों ने देश और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि को धूमिल किया है।

इस मामले के बारे में पुलिस ने बताया कि प्राथमिकी भारतीय दंड संहिता की संबंधित धाराओं के तहत दर्ज की गयी है। इसमें राजद्रोह, उपद्रव करने, शांति भंग करने के इरादे से धार्मिक भावनाओं को आहत करने से संबंधित धाराएं लगाई गईं हैं।

नई दिल्ली। बिहार के मुजफ्फरपुर में एक बार फिर हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है, दरअसल आयेदिन बढ़ रहे मॉब लिंचिंग के मामलों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खुला खत लिखने वाले 50 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर लिया गया है। पुलिस से जानकारी मिली है कि इस मामले में रामचंद्र गुहा, मणि रत्नम, अनुराग कश्यप और अपर्णा सेन समेत करीब 50 लोगों के खिलाफ गुरूवार को एफआईआर दर्ज कर ली गई है। बता दें कि स्थानीय वकील सुधीर कुमार ओझा की ओर से दो महीने पहले दायर की गई एक याचिका पर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (सीजेएम) सूर्य कांत तिवारी के आदेश के बाद यह प्राथमिकी दर्ज हुई है। सुधीर ओझा का कहना है कि सीजेएम ने 20 अगस्त को उनकी याचिका स्वीकार कर ली थी। इसके बाद बृहस्पतिवार को सदर पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज हुई। ओझा ने आरोप लगाया है कि इन हस्तियों ने देश और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि को धूमिल किया है। इस मामले के बारे में पुलिस ने बताया कि प्राथमिकी भारतीय दंड संहिता की संबंधित धाराओं के तहत दर्ज की गयी है। इसमें राजद्रोह, उपद्रव करने, शांति भंग करने के इरादे से धार्मिक भावनाओं को आहत करने से संबंधित धाराएं लगाई गईं हैं।