उन्नाव गैंगरेप मामला : डीजीपी से बोली विधायक की पत्नी, निर्दोश हैं मेरे पति

unnao rape and murder case
उन्नाव गैंगरेप मामला: डीजीपी से बोली विधायक की पत्नी, निर्दोश हैं मेरे पति

लखनऊ। उन्नाव गैंगरेप मामले में भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर लगे कथित आरोप के बाद अब उसका परिवार उसके बचाव में आ गया है। बुधवार को विधायक की पत्नी ने उत्तर प्रदेश पुलिस के मुखिया ओपी सिंह से मुलाकात की। उन्होेने डीजीपी से कहा कि उनके पति पूरी तरह से बेकसूर हैं। विरोधियों ने उनकी छवि को धूमिल करने के लिए उन पर फर्जी आरोप लगवाए हैं, जिसके चलते उनका परिवार मानसिक रूप से बहुत परेशान हो गया है।

रेप के कथित आरोपी विधायक की पत्नी संगीता सेंगर ने कहा कि उनके पति को झूठे केस में फंसाया जा रहा है। बाद में उन्होने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी इंसाफ दिलाने की गुहार लगाई है। उनका कहना था कि पीड़िता विधायक के विरोधियों के कहने पर फर्जी आरोप लगाकर हंगामा कर रही है। आगे उन्होने कहा कि अगर पी​ड़िता का नार्को टेस्ट कराया जाए तो दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा।

{ यह भी पढ़ें:- लखनऊ कैशवैन लूटकांड का खुलासा, रायबरेली से गिरफ्तार हुआ लुटेरा }

बता दें कि उन्नाव से बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर वही के एक प​रिवार ने गैंगरेप का आरोप लगाया था। पीड़ित परिवार का कहना था कि वो लोग पुलिस के पास पहुंचे तो वहां से भी निराशा हाथ लगी। वहीं पीड़ितों द्वारा पुलिस से शिकायत की बात दबंग विधायक उसके भाई को पता चली तो उन लोगों ने पुलिस के सामने उनके पिता को बेरहमी से पीटा और फिर थाने में फेंककर भाग निकले। बाद में पुलिस ने इस मामले में आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाए उल्टा उनके पिता को ही जेल भेज दिया। इससे आहत पीड़ित परिवार मुख्यम़ंत्री आवास के बाहर आत्मदाह करने पहुंच गया, जहां सुरक्षाकर्मियों ने उन्हे बचाकर ग्रह जनपद भेज दिया।

वहीं मामले ने तूल तब पकड़ा जब जेल में बंद पीड़िता के पिता की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। इसकी जानकारी होते हड़कंप मचा तो सरकार ने माखी थाना इंचार्ज आनंद सिंह भदौरिया समेत पांच पुलिसकर्मियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने के साथ ही विधायक के चार गुर्गों को जेल भेज दिया। बाद में पी​एम रिपोर्ट में पिटाई की वजह से मौत की पुष्टि हुई तो पुलिस ने विधायक के दबंग भाई अतुल सिंह के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर उसे जेल भेज दिया।

{ यह भी पढ़ें:- जल निगम भर्ती घोटाला: पूर्व मंत्री आजम खां से दोबारा पूछताछ कर सकती है एसआईटी }

अब पीड़ित परिवार विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर कार्रवाई करने की मांग कर रहा है। जिसके चलते एडीजी कानून ​व्यवस्था ने एडीजी जोन लखनफ के नेतृत्व में एसआईटी ​गठित कर पूरे मामले की नए सिरे से जांच के आदेश दिए। इसकी भनक विधायक के परिवार को मिली तो हड़कंप मचा और उसकी पत्नी डीजीपी के पास पहुंचकर अपने पति को निर्दोश बताने लगी।

मीडिया से रूबरू हुई संगीता सेंगर ने कहा कि उनके पति बेकसूर हैं, उन्हे जबरदस्ती इस मामले में फंसाने का प्रयास किया जा रहा है। फिलहाल एसआईटी बुधवार शाम तक अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंपेगी।

पीड़िता को मुआवजे के साथ ही सीबीआई जांच की मांग

आपको बता दें कि उन्नाव रेप केस मामले में एक वकील ने सु्प्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। जिस सुनवाई के लिए कोर्ट तैयार हो गया है। वकील ने पीड़िता के परिवार के लिए सीबीआई जांच और मुआवजे की मांग की है। वहीं इलाहाबाद हाईकोर्ट ने खुद उन्नाव रेप केस का संज्ञान लिया है। चीफ ​जस्टिस की बेंग गुरुवार को इस मामले की सुनवाई होगी।

{ यह भी पढ़ें:- अमेठी : डीजीपी आफिस में तैनात सिपाही ने किया दूसरे की जमीन पर कब्जा }

लखनऊ। उन्नाव गैंगरेप मामले में भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर लगे कथित आरोप के बाद अब उसका परिवार उसके बचाव में आ गया है। बुधवार को विधायक की पत्नी ने उत्तर प्रदेश पुलिस के मुखिया ओपी सिंह से मुलाकात की। उन्होेने डीजीपी से कहा कि उनके पति पूरी तरह से बेकसूर हैं। विरोधियों ने उनकी छवि को धूमिल करने के लिए उन पर फर्जी आरोप लगवाए हैं, जिसके चलते उनका परिवार मानसिक रूप से बहुत परेशान हो गया है। रेप…
Loading...