यहां आज भी रासलीला रचाते हैं कृष्ण, शाम के बाद नहीं जाता कोई

रासलीला रचाते हैं कृष्ण, nidhivan
यहां आज भी रासलीला रचाते हैं कृष्ण, शाम के बाद नहीं जाता कोई

Mysteries Related To Nidhivan

नई दिल्ली। आज भी तमाम धार्मिक स्थानों पर कई ऐसे राज छुपे हैं जो लोगों को भगवान का अस्तित्व मानने पर मजबूर करते हैं। ऐसे तमाम जगहों में से एक वृंदावन में मौजूद निधिवन भी है जो बेहद पवित्र और धार्मिक होने के अलावा रहस्यमयी भी है। निधिवन को लेकर मान्यता है कि निधिवन में आज भी हर रात कृष्ण गोपियों के संग रास रचाते है बताया जाता है कि सुबह खुलने वाले निधिवन को संध्या आरती के पश्चात बंद कर दिया जाता है। जिसके बाद वहां न केवल मनुष्य बल्कि पशु-पक्षी भी शाम होते ही निधिवन को छोड़कर चले जाते है।

जाने पूरी कहानी

  • भगवान श्री कृष्ण की बाल लीलाओं के लिए विख्यात मथुरा जिले के वृंदावन में लाखों लोग दर्शन/घूमने के लिए आते हैं। इसी वृंदावन में है निधिवन जहां हर रात भगवान श्री कृष्ण और राधा रास रचाने आते हैं।
  • निधिवन में कई ऐसी मान्याताऐं हैं, जिन पर विश्वास बेहद मुश्किल है।
  • कहा जाता है कि हर रात भगवान श्री कृष्ण के कक्ष में उनका बिस्तर सजाया जाता है, दातून और पानी का लोटा रखा जाता हैं लेकिन अगले दिन सुबह मंगल आरती के लिए पंडित उस कक्ष को खोलते हैं तो लोटे का पानी खाली, दातून गिली, पान खाया हुआ और कमरे में सामान बिखरा हुआ मिलता है।

शाम के बाद मनुष्य से लेकर पशु-पक्षी तक छोड़ देते है वन

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार निधिवन बंद होने के बाद भी यदि कोई छिपकर रासलीला देखने की कोशिश करता है तो वह पागल हो जाता हैं। मंदिर के महंत और आसपास के लोग इससे जुड़े कई किस्से सुनाते हैं। दावा ये भी किया जाता है कि वहां मौजूद पशु-पक्षी भी शाम होते ही, वन छोड़ देते हैं।

नई दिल्ली। आज भी तमाम धार्मिक स्थानों पर कई ऐसे राज छुपे हैं जो लोगों को भगवान का अस्तित्व मानने पर मजबूर करते हैं। ऐसे तमाम जगहों में से एक वृंदावन में मौजूद निधिवन भी है जो बेहद पवित्र और धार्मिक होने के अलावा रहस्यमयी भी है। निधिवन को लेकर मान्यता है कि निधिवन में आज भी हर रात कृष्ण गोपियों के संग रास रचाते है बताया जाता है कि सुबह खुलने वाले निधिवन को संध्या आरती के पश्चात बंद…