नृसिंह जयंती 2019: आज है नृसिंह जयंती, जाने पूजन विधि और शुभ मुहूर्त

नृसिंह जयंती 2019: आज है नृसिंह जयंती, जाने पूजन विधि और शुभ मुहूर्त
नृसिंह जयंती 2019: आज है नृसिंह जयंती, जाने पूजन विधि और शुभ मुहूर्त

लखनऊ। नृसिंह जयंती वैशाख महीने की शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को मनाई जाती है। हिंदू धर्म में इस दिन का खास महत्त्व होता है। इस बार नृसिंह जयंती 17 मई यानि आज के दिन मनाई जा रही है। पौराणिक धार्मिक मान्यताओं एवं धार्मिक ग्रंथों के अनुसार भगवान विष्णु ने इस दिन अपने भक्त प्रहलाद को बचाने के लिए दैत्यों के राजा हिरण्यकश्यप का वध करने के लिए आधे नर और आधे सिंह के रूप में नृसिंह अवतार लिया था। मान्यता है कि इनकी पूजा-उपासना करने से हर प्रकार के संकट और दुर्घटना से रक्षा होती है।

Narasimha Jayanti 2019 Date Subh Muhurat And Pooja Vidhi :

नरसिंह जयंती शुभ मुहूर्त-

नरसिंह जयंती का पूजा समय सिर्फ 2 घंटे 37 मिनट का होगा।
शाम 4:20 से 6:58 तक।

इस विधि से करें भगवान नृसिंह की पूजा-

  • प्रातःकाल उठकर घर की साफ सफाई करके घर को साफ सुथरा बनायें।
  • दोपहर के समय तिल,गोमूत्र,मिट्टी और आंवले को शरीर पर मलकर शुद्ध जल से स्नान करें।
  • भगवान नृसिंह के चित्र के सामने दीपक जलाएं।
  • उन्हें प्रसाद और लाल फूल अर्पित करें।
  • इसके बाद अपनी मनोकामना का ध्यान करके भगवान नृसिंह के मन्त्रों का जाप करें।
  • भगवान के मन्त्रों का जाप मध्य रात्रि में भी करना सबसे उत्तम होगा।
  • व्रत के दिन जलाहार या फलाहार करना उत्तम होगा।
  • अगले दिन निर्धनों को अन्न-वस्त्र का दान करके अपने व्रत का समापन करें।
लखनऊ। नृसिंह जयंती वैशाख महीने की शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को मनाई जाती है। हिंदू धर्म में इस दिन का खास महत्त्व होता है। इस बार नृसिंह जयंती 17 मई यानि आज के दिन मनाई जा रही है। पौराणिक धार्मिक मान्यताओं एवं धार्मिक ग्रंथों के अनुसार भगवान विष्णु ने इस दिन अपने भक्त प्रहलाद को बचाने के लिए दैत्यों के राजा हिरण्यकश्यप का वध करने के लिए आधे नर और आधे सिंह के रूप में नृसिंह अवतार लिया था। मान्यता है कि इनकी पूजा-उपासना करने से हर प्रकार के संकट और दुर्घटना से रक्षा होती है। नरसिंह जयंती शुभ मुहूर्त- नरसिंह जयंती का पूजा समय सिर्फ 2 घंटे 37 मिनट का होगा। शाम 4:20 से 6:58 तक। इस विधि से करें भगवान नृसिंह की पूजा-
  • प्रातःकाल उठकर घर की साफ सफाई करके घर को साफ सुथरा बनायें।
  • दोपहर के समय तिल,गोमूत्र,मिट्टी और आंवले को शरीर पर मलकर शुद्ध जल से स्नान करें।
  • भगवान नृसिंह के चित्र के सामने दीपक जलाएं।
  • उन्हें प्रसाद और लाल फूल अर्पित करें।
  • इसके बाद अपनी मनोकामना का ध्यान करके भगवान नृसिंह के मन्त्रों का जाप करें।
  • भगवान के मन्त्रों का जाप मध्य रात्रि में भी करना सबसे उत्तम होगा।
  • व्रत के दिन जलाहार या फलाहार करना उत्तम होगा।
  • अगले दिन निर्धनों को अन्न-वस्त्र का दान करके अपने व्रत का समापन करें।