ऊपर जाकर बाला साहेब को क्या जवाब दूंगा: प्रधानमंत्री

नई दिल्ली: शिवसेना ने नोटबंदी पर पहले विरोध और फिर यू टर्न लेने पर सफाई दी है। पार्टी के लोकसभा में नेता आनंदराव अड़सुल और राज्यसभा में नेता संजय राऊत ने कहा है कि यह झूठ है कि मंगलवार को जब शिवसेना के सांसद प्रधानमंत्री से मिले थे तो उन्हें हड़काया गया था। संसद भवन स्थित पार्टी दफ्तर में उन्होंने पत्रकारों से कहा कि सच्चाई यह है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भावुक हो गए थे और उन्होंने शिवसेना के सांसदों से यह तक कह दिया था कि वह ऊपर जाकर बाला साहेब ठाकरे को क्या जवाब देंगे।




शिवसेना के नेताओं ने बताया कि प्रधानमंत्री ने यह भी कहा था कि हम आपको कैसे छोड़ सकते हैं, आपका हमारा साथ कितना पुराना है। राऊत और अड़सुल ने यह भी कहा कि शिवसेना ने सत्ता की कभी परवाह नहीं की, इसलिए यह कहना कि सरकार में बने रहने के लिए पार्टी ने नोटबंदी पर यू टर्न लिया है, सही नहीं है।




उन्होंने कहा कि सच्चाई यह है कि शिवसेना ने नोटबंदी को वापस लेने की मांग कभी रखी ही नहीं थी। शिवसेना के नेताओं ने बताया कि पार्टी का सांसद तृणमूल नेता ममता बनर्जी के साथ गया अवश्य था पर हमने उनके नोटबंदी को वापिस लेने वाले प्रस्ताव पर हस्ताक्षर नहीं किए थे। उन्होंने कहा कि हमारी मांग थी कि सहकारी बैंकों में सुविधा दी जाए, जिस पर सरकार ने गौर किया है।