एनडीए संसदीय दल के नेता बने पीएम मोदी, बोले- ‘देश के अल्पसंख्यकों को भयभीत रखा गया है’

pm-modi-2.0
एनडीए संसदीय दल के नेता बने पीएम मोदी, बोले- 'देश के अल्पसंख्यकों को भयभीत रखा गया है'

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के परिणामों के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सभी घटक दलों ने अपना नेता चुन लिया है। संसद के केंद्रीय कक्ष में नवनिर्वाचित सांसदों और वरिष्ठ नेताओं की बैठक में यह चुनाव किया गया। मोदी अब नयी सरकार के गठन का दावा पेश करने के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेंगे। जिसके बाद उन्हें अगले प्रधानमंत्री के रूप में शपथ दिलाई जाएगी।

Narendra Modi Become A Leader Of Nda Parliamentary Board :

इससे पहले सेंट्रल हॉल पहुंचे नरेंद्र मोदी का स्वागत अमित शाह और राजनाथ सिंह ने किया। जैसे ही प्रधानमंत्री सेंट्रल हॉल के अंदर पहुंचे वहां मौजूद सांसदों ने भारत माता की जय और वंदे मातरम के नारे लगाए। नरेंद्र मोदी के आने से पहले सभी नवनिर्वाचित सांसद वहां पहुंच चुके थे। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने मोदी के निर्वाचन के बाद कहा, “मोदी को सर्वसम्मति से 353 सांसदों के संसदीय दल का नेता चुना जाता है।” इस दौरान नरेंद्र मोदी ने सांसदों और नेताओं का अभिवादन स्वीकार किया।

पीएम मोदी ने संसदीय दल को संबोधित करते हुए कहा कि मैं सबसे पहले तो हृदय से आप सबका आभार व्यक्त करता हूं। पीएम ने कहा, हम आज नए भारत के हमारे संकल्प को एक नई ऊर्जा के साथ आगे बढ़ाने के लिए यहां से एक नई यात्रा का आरंभित करने वाले हैं। देश की राजनीति में जो बदलाव आया है, अपने अपने स्तर पर आप सभी ने इसका नेतृत्व किया है।

मोदी ने कहा, “देश के उज्ज्वल भविष्य के लिए गठबंधन की राजनीति को हमें अपने आदर्शों का हिस्सा बनाना पड़ेगा। वाजपेयीजी की देश को सबसे बड़ी देन है कि उन्होंने इस राजनीति को सफलता पूर्वक आगे बढ़ाया। आज इस सदन में उनकी मूर्ति हमें आशीर्वाद दे रही है। एनडीए एक अभियान बन गया। इस प्रयोग को हमें और अधिक सशक्त करना है।”

मोदी ने भाजपा सांसदों को नसीहत भी दी। उन्होंने किसी का नाम न लेते हुए कहा, “बड़बोलापन जो होता है, टीवी के सामने कुछ भी बोल देते हैं। बोल देते हैं तो 24-48 घंटे तक उनकी दुकान चलती है और अपनी परेशानी बढ़ती है। कुछ लोग सुबह उठकर राष्ट्र के नाम संदेश नहीं देते हैं, उन्हें चैन नहीं पड़ता।

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के परिणामों के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सभी घटक दलों ने अपना नेता चुन लिया है। संसद के केंद्रीय कक्ष में नवनिर्वाचित सांसदों और वरिष्ठ नेताओं की बैठक में यह चुनाव किया गया। मोदी अब नयी सरकार के गठन का दावा पेश करने के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेंगे। जिसके बाद उन्हें अगले प्रधानमंत्री के रूप में शपथ दिलाई जाएगी। इससे पहले सेंट्रल हॉल पहुंचे नरेंद्र मोदी का स्वागत अमित शाह और राजनाथ सिंह ने किया। जैसे ही प्रधानमंत्री सेंट्रल हॉल के अंदर पहुंचे वहां मौजूद सांसदों ने भारत माता की जय और वंदे मातरम के नारे लगाए। नरेंद्र मोदी के आने से पहले सभी नवनिर्वाचित सांसद वहां पहुंच चुके थे। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने मोदी के निर्वाचन के बाद कहा, "मोदी को सर्वसम्मति से 353 सांसदों के संसदीय दल का नेता चुना जाता है।" इस दौरान नरेंद्र मोदी ने सांसदों और नेताओं का अभिवादन स्वीकार किया। पीएम मोदी ने संसदीय दल को संबोधित करते हुए कहा कि मैं सबसे पहले तो हृदय से आप सबका आभार व्यक्त करता हूं। पीएम ने कहा, हम आज नए भारत के हमारे संकल्प को एक नई ऊर्जा के साथ आगे बढ़ाने के लिए यहां से एक नई यात्रा का आरंभित करने वाले हैं। देश की राजनीति में जो बदलाव आया है, अपने अपने स्तर पर आप सभी ने इसका नेतृत्व किया है। मोदी ने कहा, "देश के उज्ज्वल भविष्य के लिए गठबंधन की राजनीति को हमें अपने आदर्शों का हिस्सा बनाना पड़ेगा। वाजपेयीजी की देश को सबसे बड़ी देन है कि उन्होंने इस राजनीति को सफलता पूर्वक आगे बढ़ाया। आज इस सदन में उनकी मूर्ति हमें आशीर्वाद दे रही है। एनडीए एक अभियान बन गया। इस प्रयोग को हमें और अधिक सशक्त करना है।" मोदी ने भाजपा सांसदों को नसीहत भी दी। उन्होंने किसी का नाम न लेते हुए कहा, "बड़बोलापन जो होता है, टीवी के सामने कुछ भी बोल देते हैं। बोल देते हैं तो 24-48 घंटे तक उनकी दुकान चलती है और अपनी परेशानी बढ़ती है। कुछ लोग सुबह उठकर राष्ट्र के नाम संदेश नहीं देते हैं, उन्हें चैन नहीं पड़ता।