1. हिन्दी समाचार
  2. BRICS के नेताओं से बोले PM मोदी, आतंकवाद सबसे बड़ा खतरा, दिए 5 सुझाव

BRICS के नेताओं से बोले PM मोदी, आतंकवाद सबसे बड़ा खतरा, दिए 5 सुझाव

Narendra Modi Gives Five Suggestions To Tackle The Major Challenges At The Informal Meeting Of Brics Leaders In Sidelines Of The G20summit

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। G20 Summit प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने शुक्रवार को जापान के ओसाका में जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर ब्रिक्स नेताओं (BRICS leaders) की अनौपचारिक बैठक में मौजूदा चुनौतियों से निपटने के लिए ‘पांच सुझाव’ दिए। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आतंकवाद और जातिवाद का किसी भी जरिए से समर्थन बंद करने की जरूरत है।

पढ़ें :- अंडरवर्ल्ड ले डूबा इन 5 अभिनेत्रियों का करियर, कोई गई जेल, तो कोई बनी संन्यासिनी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैठक में जोर देते हुए कहा कि आतंकवाद के मुद्दे पर एक ग्लोबल कॉन्फ्रेंस होने चाहिए। पीएम मोदी ने कहा, ‘आतंकवाद मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा है। यह न केवल मासूमों की जान लेता है, बल्कि आर्थिक विकास और सांप्रदायिक सद्भाव को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है। हमें आतंकवाद और नस्लवाद के समर्थन के सभी माध्यमों को रोकना होगा।’

पीएम मोदी ने ब्रिक्स देशों की बैठक में दिए ये 5 सुझाव

मोदी ब्रिक्स देशों की बैठक में कहा कि सभी देशों के तालमेल से एकतरफा फैसलों के दुष्परिणों का निदान कुछ हद तक हो सकता है। हमें रिफॉर्म मल्टीमैटरिलिज्म के लिए अंतर्राष्ट्रीय, वित्तीय और व्यापारिक संस्थाओं तथा संगठनों में आवश्यक सुधार पर जोर देते रहना होगा। निरंतर आर्थिक विकास के लिए आवश्यक ऊर्जा के संसाधन, जैसे तेल और गैस कम कीमतों पर लगातार उपलब्ध रहने चाहिए।

मोदी ने इस बैठक में न्यू डेवलेपमेंट बैंक द्वारा सदस्य देशों के भौतिक और सामाजिक इन्फ्रास्ट्रक्चर तथा रिन्यूवल एनर्जी कार्यक्रमों में निवेश को और प्राथमिकता मिलनी चाहिए।

पढ़ें :- इन अभिनेत्रियों ने अपने दम पर बनाई बॉलीवुड में पहचान, नंबर 1 को मिल चुके है 3 नेशनल अवॉर्ड

कोलिशियन और डिजास्टर रेजिनियन इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए भारत की पहल अल्पविकसित और विकासशील देशों को प्राकृतिक आपदा का सामना करने के लिए उचित इंफ्रास्ट्रक्चर करने में सहायक होगी। मैं आपसे इस कोलिशियन में शामिल होने के लिए आवाह्न करता हूं।

विश्वभर में कुशल कारीगरों का आवागमन आसान होना चाहिए, इससे उन देशों को भी लाभ होगा, जहां आबादी का एक बड़ा हिस्सा कामकाजी की उम्र पार कर चुका है।

मैंने हाल ही में आतंकवाद पर एक ग्लोबल कांफ्रेंस का आवाह्न किया है। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई के लिए जरूरी सहमति का अभाव हमें निष्क्रिय ही नहीं रख सकता। आतंकवाद के खिलाफ संघर्ष को प्रमुख प्राथमिकताओं में जगह देने के लिए मैं ब्राजील की सराहना करता हूं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...