संसद मे बीते 18 साल का टूटा रिकार्ड, इस मानूसन सत्र में हुआ सबसे ज्यादा काम

संसद ने बीते 18 साल में मानूसन सत्र में सबसे ज्यादा काम का बना रिकार्ड
संसद ने बीते 18 साल में मानूसन सत्र में सबसे ज्यादा काम का बना रिकार्ड

Narendra Modi Government Most Successful Session Ends Many Bill Pass

नई दिल्ली। तेलुगु देशम पार्टी द्वारा सरकार के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव से शुरू हुआ मॉनसून सत्र लोकसभा में हुए काम के नजरिए से बहुत अच्छा रहा। लोकसभा ने करीब दो दशक के पुराने रिकार्ड को पीछे छोड़ते हुए मानसून सत्र में सबसे ज्यादा विधायी कामकाज की मिसाल बनाई है। शुक्रवार को खत्म हुए सत्र में घर खरीदने वाले लोगों को सशक्त करने वाला संशोधन विधेयक भी पारित किया गया। यह संशोधन 6 जून को लाए गए अध्यादेश की जगह लेगा।

112 घंटे चली कार्यवाही

सत्र के दौरान लोकसभा की 17 दिनों की बैठक में कुल 112 घंटे कार्यवाही चली और कुल 22 सरकारी विधेयक पेश किए गए और 21 विधेयक पारित किए गए। वर्ष 2018-19 के लिए अनुदानों की अनुपूरक मांगों (सामान्य) एवं वर्ष 2015-16 के लिए अतिरिक्त अनुदानों की मांगें (सामान्य) पर चार घंटे 46 मिनट से अधिक की चर्चा हुई और इसके बाद इन्हें मतदान के लिए रखा गया एवं संबंधित विनियोग विधेयक पारित किए गए।

हरिवंश बने राज्यसभा के उपसभापति

मानसून सत्र के दौरान ही सत्ता पक्ष को एक बड़ी सफलता तब हाथ लगी जब राज्यसभा के उपसभापति पद पर राजग के उम्मीदवार हरिवंश को जीत मिली। हरिवंश ने विपक्ष के उम्मीदवार एवं कांग्रेस के बीके हरिप्रसाद को 101 के मुकाबले 125 मतों से हराया। इससे विपक्षी एकता को झटका लगा क्योंकि उच्च सदन में संख्याबल राजग के पक्ष में नहीं है।

12 विधेयक पास हुए

इन दो विधेयकों का उल्लेख करते हुए सुमित्रा महाजन ने कहा,”इस सत्र में लोकसभा ने समाज कल्याण से जुड़े ऐसे विधेयक पारित किए जिनका समाज के वंचित वर्गों पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा। जैसे संविधान (123वां संशोधन) विधेयक-2018 के पारित होने से राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने का मार्ग प्रशस्त हुआ है।

इनके अतिरिक्त नि:शुल्क और अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार (दूसरा संशोधन) विधेयक-2017, भगोड़ा आर्थिक अपराधी विधेयक-2018, भ्रष्टाचार निवारण (संशोधन) विधेयक-2018, व्यक्तियों का दुर्व्यवहार (निवारण, संरक्षण और पुनर्वास) विधेयक-2018, दांडिक विधि (संशोधन) विधेयक-2018 और वाणिज्यिक न्यायालय, उच्च न्यायालय प्रभाग और वाणिज्यिक अपील प्रभाग (संशोधन) विधेयक-2018, राष्ट्रीय खेलकूद विश्वविद्यालय 2018 को भी लोकसभा ने मंजूरी प्रदान की।

नई दिल्ली। तेलुगु देशम पार्टी द्वारा सरकार के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव से शुरू हुआ मॉनसून सत्र लोकसभा में हुए काम के नजरिए से बहुत अच्छा रहा। लोकसभा ने करीब दो दशक के पुराने रिकार्ड को पीछे छोड़ते हुए मानसून सत्र में सबसे ज्यादा विधायी कामकाज की मिसाल बनाई है। शुक्रवार को खत्म हुए सत्र में घर खरीदने वाले लोगों को सशक्त करने वाला संशोधन विधेयक भी पारित किया गया। यह संशोधन 6 जून को लाए गए अध्यादेश की…