नरेश उत्तम ने एमएलसी के लिए किया नामांकन करने पहुंचे विधानसभा

naresh uttam
नरेश उत्तम ने एमएलसी के लिए किया नामांकन करने पहुंचे विधानसभा

लखनऊ। विधानपरिषद चुनाव को लेकर समजावादी पार्टी ने प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम को अपना उम्मीदवार घोषित किया है। नरेश उत्तम आज विधानसभा में अपना नामांकन दाखिल करेंगे।

Naresh Uttam Nomination For Mlc Election :

बता दें कि उत्तर प्रदेश की 13 सीटों पर विधानपरिषद के चुनाव होते है। जिसमें उसने नरेश उत्तम को प्रत्याशी बनाया। नरेश उत्तम के साथ नामांकन करने के दौरान समाजवादी पार्टी के तमाम नेता और कार्यकर्ता भी विधानसभा पहुंचे।

बता दें कि 13 सीटो पर होने वाले चुनावों के लिए भाजपा ने अपने 10 प्रत्याशी, भाजपा समर्थित अपना दल ने एक प्रत्याशी के नाम की घोषणा रविवार को ही कर दी थी, जबकि बसपा ने अपने उम्मीदवार का नाम खोलते हुए पहले ही नामांकन करवा दिया था। सपा इस बार विधान परिषद की एक ही सीट से उम्मीदवार उतार रही है। दूसरी सीट पर वह बसपा के उम्मीदवार का समर्थन करेगी।

बता दे कि विधानसभा में भाजपा 324 विधायकों के दम पर आसानी से 11 सीटें जीत सकती है। इसके अलावा समाजवादी पार्टी के पास कुल 47 विधायक हैं, लेकिन नरेश अग्रवाल और उनके विधायक पुत्र नितिन अग्रवाल के भाजपा में चले जाने से अब वो एक उम्मीदवार को ही विधानपरिषद पहुंचा सकती है। एक उम्मीदवार के बाद भी उसके पास 16 अतिरिक्त वोट बचेंगे। सपा इन वोटों का प्रयोग बसपा के एक उम्मीदवार को विधानपरिषद पहुंचाने में करेंगी।

लखनऊ। विधानपरिषद चुनाव को लेकर समजावादी पार्टी ने प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम को अपना उम्मीदवार घोषित किया है। नरेश उत्तम आज विधानसभा में अपना नामांकन दाखिल करेंगे।बता दें कि उत्तर प्रदेश की 13 सीटों पर विधानपरिषद के चुनाव होते है। जिसमें उसने नरेश उत्तम को प्रत्याशी बनाया। नरेश उत्तम के साथ नामांकन करने के दौरान समाजवादी पार्टी के तमाम नेता और कार्यकर्ता भी विधानसभा पहुंचे।बता दें कि 13 सीटो पर होने वाले चुनावों के लिए भाजपा ने अपने 10 प्रत्याशी, भाजपा समर्थित अपना दल ने एक प्रत्याशी के नाम की घोषणा रविवार को ही कर दी थी, जबकि बसपा ने अपने उम्मीदवार का नाम खोलते हुए पहले ही नामांकन करवा दिया था। सपा इस बार विधान परिषद की एक ही सीट से उम्मीदवार उतार रही है। दूसरी सीट पर वह बसपा के उम्मीदवार का समर्थन करेगी।बता दे कि विधानसभा में भाजपा 324 विधायकों के दम पर आसानी से 11 सीटें जीत सकती है। इसके अलावा समाजवादी पार्टी के पास कुल 47 विधायक हैं, लेकिन नरेश अग्रवाल और उनके विधायक पुत्र नितिन अग्रवाल के भाजपा में चले जाने से अब वो एक उम्मीदवार को ही विधानपरिषद पहुंचा सकती है। एक उम्मीदवार के बाद भी उसके पास 16 अतिरिक्त वोट बचेंगे। सपा इन वोटों का प्रयोग बसपा के एक उम्मीदवार को विधानपरिषद पहुंचाने में करेंगी।