नशे में धुत दारोगा ने पत्रकार को जमकर पीटा

Nashe Mein Dhut Daroga Ne Patrkar Ko Jamkar Peeta

मऊ। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि पत्रकार जब भी किसी अधिकारी या मंत्री के भ्रष्टाचार्य के खुलासे पर बोलते हैं तो उनका मुंह बंद करने के लिए और बात को दबाने के लिए उन्हे धमकियां दी जाती हैं। अगर धमकी देने से काम नहीं चलता तो उनपर जानलेवा हमला भी कर दिया जाता है। पिछले काफी समय में कई पत्रकार को मौत के घाट भी उतारा जा चुका है। ऐसा ही एक और मामला सामने आया है जिसमें एक पत्रकार को बुरी तरह से पीटकर लहूलुहान कर दिया गया।




मामला मऊ जिले के कोपागंज का है जहां पुलिस द्वारा पत्रकार स्वपनिल राय को थाने में बंद कर पिटाई करने की घटना सामने आई है। पीड़ित पत्रकार के अनुसार दरोगा नजरे अब्बाश ने शराब के नशे में उन्हें गाली देते हुए थाने में ले गए और वहां उसे जमकर पीटा। स्वपनिल राय लखनऊ में नेशनल वॉयस चैनल में डेस्क पर कार्यरत है।




घटना के बाद ही जिले के सभी पत्रकार मामले की शिकायत करने के लिए पहुंच गये जहां एसपी ने दारोगा की शिकायत दर्ज करने के बजाय मामले को दबाने की कोशिश करने लगे। बीजेपी के प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी ने पत्रकारों पर हो रहे हमले को गंभीर मुद्दा बताते हुए कहा कि अभी जो पत्रकार के साथ मारपीट हुई है उसमें दोषियों के खिलाफ सरकार शख्त कार्यवाही करेगी।

मऊ। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि पत्रकार जब भी किसी अधिकारी या मंत्री के भ्रष्टाचार्य के खुलासे पर बोलते हैं तो उनका मुंह बंद करने के लिए और बात को दबाने के लिए उन्हे धमकियां दी जाती हैं। अगर धमकी देने से काम नहीं चलता तो उनपर जानलेवा हमला भी कर दिया जाता है। पिछले काफी समय में कई पत्रकार को मौत के घाट भी उतारा जा चुका है। ऐसा ही एक और मामला सामने आया है जिसमें एक पत्रकार को बुरी तरह से पीटकर लहूलुहान कर दिया गया। मामला मऊ जिले के कोपागंज का है जहां पुलिस द्वारा पत्रकार स्वपनिल राय को थाने में बंद कर पिटाई करने की घटना सामने आई है। पीड़ित पत्रकार के अनुसार दरोगा नजरे अब्बाश ने शराब के नशे में उन्हें गाली देते हुए थाने में ले गए और वहां उसे जमकर पीटा। स्वपनिल राय लखनऊ में नेशनल वॉयस चैनल में डेस्क पर कार्यरत है। घटना के बाद ही जिले के सभी पत्रकार मामले की शिकायत करने के लिए पहुंच गये जहां एसपी ने दारोगा की शिकायत दर्ज करने के बजाय मामले को दबाने की कोशिश करने लगे। बीजेपी के प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी ने पत्रकारों पर हो रहे हमले को गंभीर मुद्दा बताते हुए कहा कि अभी जो पत्रकार के साथ मारपीट हुई है उसमें दोषियों के खिलाफ सरकार शख्त कार्यवाही करेगी।