नाश्ता दिल्ली तो डिनर चंडीगढ़ में करता था ‘चंद्रशेखर आज़ाद रावण’

लखनऊ। सहारनपुर को जातीय हिंसा की आग में धकेलना वाले आरोपी व भीम आर्मी का मुखिया चंद्रशेखर आज़ाद उर्फ रावण को यूपी पुलिस ने हिमाचल के डलहौज़ी से गिरफ्तार किया है। वह सहारनपुर दंगे के बाद से फ़रारी काट रहा था और सोशल मीडिया के जरिये समय-समय पर आग में घी डाल हिंसा को भड़कता रहता था। बताया जा रहा है कि एसटीएफ़ ने चंद्रशेखर की गर्लफ्रेंड की मदद से उसे पकड़ा है। सहारनपुर दंगों के बाद से ही यूपी पुलिस चंद्रशेखर को ढूँढ रही थी। भीम आर्मी के चीफ़ चंद्रशेखर के पकड़े जाने की कहानी बड़ी फ़िल्मी है। वह लगातार सिम कार्ड बदल-बदल कर फ़ोन पर बात करता था साथ ही जगह भी बदलता रहता था। सवेरे का नाश्ता दिल्ली में तो शाम की चाय चंद्रशेखर चंडीगढ़ में पीता था।




गर्लफ्रेंड ने दिया धोखा—

सुबह 10 बजे जब चंद्रशेखर ने कमरे का दरवाज़ा खोला तो सामने यूपी पुलिस खड़ी थी। जब तक वह कुछ समझ पाता, एसटीएफ़ के कमांडो ने उसे दबोच लिया। बीती रात ही चंद्रशेखर डलहौज़ी आया था। डलहौज़ी हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले की एक ख़ूबसूरत जगह है। काफी चालाकी के बाद भी चन्द्रशेखर की गर्लफ़्रेंड ने उसका खेल ख़राब कर दिया। चंद्रशेखर अपने दो गर्ल फ्रेंड्स से लगातार संपर्क में था। इनमें से एक सहारनपुर की तो दूसरी हरिद्वार की है। इन लड़कियों की मुखबिरी पर ही चंद्रशेखर पकड़ा गया। उसकी गिरफ़्तारी के बाद भीम आर्मी के राजनैतिक कनेक्शन की भी पता चलेगा।