1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. राष्ट्रिय प्रेस दिवस: भारत के उपराष्ट्रपति ने दी राष्ट्रीय प्रेस दिवस की बधाई, जानिए क्या है खास

राष्ट्रिय प्रेस दिवस: भारत के उपराष्ट्रपति ने दी राष्ट्रीय प्रेस दिवस की बधाई, जानिए क्या है खास

National Press Day Vice President Of India Congratulated The National Press Day Know What Is Special

By आराधना शर्मा 
Updated Date

नई दिल्ली: देश में राष्ट्रीय प्रेस दिवस बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। जानकारी के अनुसार बता दें कि भारत देश में मीडिया को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ माना जाता हैै। वहीं इसकी शुरूआत तो आदि काल से ही हो गई थी। यहां बता दें कि देवर्षि नारद को पत्रकारिता का मुख्य जनक माना जाता है, क्योंकि नारद जी ने ही भगवानों को संचार के इस माध्यम से अवगत कराया था। वहीं देश में प्रत्येक वर्ष राष्ट्रीय प्रेस दिवस 16 नवम्बर को मनाया जाता है।

पढ़ें :- नीतीश कुमार 16 नवंबर को ले सकते हैं शपथ, 7वीं बार बनेंगे सीएम

यह दिन भारत में एक स्वतंत्र और जिम्मेदार प्रेस की मौजूदगी का प्रतीक है। बता दें कि विश्व में आज लगभग 50 देशों में प्रेस परिषद या मीडिया परिषद है। भारत में प्रेस को ‘वाचडॉग’ एवं प्रेस परिषद इंडिया को ‘मोरल वाचडॉग’ कहा गया है। राष्ट्रीय प्रेस दिवस, प्रेस की स्वतंत्रता एवं जिम्मेदारियों की ओर हमारा ध्यान आकृष्ट करता है।

यहां बता दें कि इसकी शुरुआत प्रथम प्रेस आयोग ने भारत में प्रेस की स्वतंत्रता की रक्षा एवं पत्रकारिता में उच्च आदर्श कायम करने के उद्देश्य से एक प्रेस परिषद की कल्पना की थी। परिणाम स्वरूप 4 जुलाई, 1966 को भारत में प्रेस परिषद की स्थापना की गई, जिसने 16 नवम्बर, 1966 से अपना विधिवत कार्य शुरू किया। तब से लेकर आज तक प्रतिवर्ष 16 नवम्बर को ‘राष्ट्रीय प्रेस दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। वहीं इसका उद्देश्य पत्रकारों को सशक्त बनाने के उद्देश्य से स्वयं को फिर से समर्पित करने का अवसर प्रदान करना है।

पत्रकारिता जन-जन तक सूचनात्मक, शिक्षाप्रद एवं मनोरंजनात्मक संदेश पहुँचाने की कला एवं विधा है। समाचार पत्र एक ऐसी उत्तर पुस्तिका के समान है, जिसके लाखों परीक्षक एवं अनगिनत समीक्षक होते हैं। अन्य माध्यमों के भी परीक्षक एवं समीक्षक उनके लक्षित जनसमूह ही होते हैं। तथ्यपरकता, यथार्थवादिता, संतुलन एवं वस्तुनिष्ठता इसके आधारभूत तत्व है। परंतु इनकी कमियाँ आज पत्रकारिता के क्षेत्र में बहुत बड़ी त्रासदी साबित होने लगी हैं।

पत्रकार चाहे प्रशिक्षित हो या गैर प्रशिक्षित, यह सबको पता है कि पत्रकारिता में तथ्यपरकता होनी चाहिए। परंतु तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर, बढ़ा-चढ़ा कर या घटाकर सनसनी बनाने की प्रवृत्ति आज पत्रकारिता में बढ़ने लगी है। वहीं राष्ट्रिय प्रेस डे के उपलक्ष पर भारत के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने बधाईयां दी है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है- ‘राष्ट्रीय प्रेस दिवस’ के अवसर पर सभी मीडिया-कर्मियों को बधाई! आप देश में लोकतान्त्रिक विमर्श को दिशा देते हो… नागरिकों को सूचित करके उन्हें सक्षम बनाते हो। इस महामारी के दौरान लोगों में जागरूकता लाने में मीडिया की भूमिका प्रसंशनीय रही है।”

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...