1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. नौतनवा:जायसवाल सभा अतिथि भवन के नई कमेटी गठन पर जितेंद्र जायसवाल ने कहा ये बात….

नौतनवा:जायसवाल सभा अतिथि भवन के नई कमेटी गठन पर जितेंद्र जायसवाल ने कहा ये बात….

By Editor-Vijay Chaurasiya 
Updated Date

नौतनवा – जायसवाल सभा संरक्षक व मंडल के सलाहकार प्रीतम लाल जायसवाल की अध्यक्षता में शुक्रवार की दोपहर कस्बे में स्थित जायसवाल सभा अतिथि भवन में जायसवाल समाज के लोगों के साथ एक बैठक हुई। जिसमें निवर्तमान अध्यक्ष जितेन्द्र जायसवाल की पूरी कमेटी को बर्खास्त कर दिया गया।

जितेन्द्र जायसवाल पर धन का दुरुपयोग वरिष्ठ जनों से दुर्व्यवहार और समाज विरोधी कार्यों जैसे आरोपों को सिद्ध होने पर यह निर्णय लिया गया।

उक्त जानकारी देते हुए संरक्षक मंडल के कार्यवाहक अध्यक्ष अतुल जायसवाल ने बताया। कि आगामी चुनाव अर्थात समाज के वार्षिकोत्सव तक वैकल्पिक व्यवस्था के कर्म में परमात्मा जायसवाल, दिलीप जायसवाल एवं हरिशंकर जायसवाल की एक तदर्म समिति क्रमशः अध्यक्ष, महामंत्री एवं कोषाध्यक्ष नामित किया गया है। इससे पूर्व आम सभा ने पांच सदस्यीय एक समिति का गठन किया और निवर्तमान अध्यक्ष जितेन्द्र जायसवाल पर लगे आरोपों की जांच हेतु अधिकृत किया। समिति के सदस्यों ने सर्वसम्मत से जितेन्द्र जायसवाल को तत्काल प्रभाव से हटाने का निर्णय लिया। जिसका अनुमोदन हर्षध्वनी के साथ पूरी आम सभा ने किया। समिति में प्रीतम लाल जायसवाल, ओम प्रकाश जायसवाल , जगदीश जायसवाल, ओम प्रकाश जायसवाल एवं रामरूप जायसवाल आदि लोग उपस्थित रहे।

 

मेरी बढ़ती लोकप्रिय से घबराने लगे विरोधी गुट-निवर्तमान अध्यक्ष जितेंद्र जायसवाल

मै जितेन्द्र जायसवाल ,जायसवाल सभा अतिथि भवन ,जायसवाल समाज नौतनवा का समाज के साधारण सभा द्वारा सर्वसम्मति से चुना गया अध्यक्ष हूं जब से मैं अध्यक्ष निर्वाचित हुआ । तब भी से समाज का एक प्रभावी गुट चाहता था कि मै उनके इशारे पर कार्य करू जैसा कि पिछले चार वर्ष में पूर्व के अध्यक्ष ने किया था ।

उनके प्रयास को मै सफल नही होने दिया । तभी से अराजक मन स्थिति रखने वाले समाज के एक गुट ने मेरी बढ़ती लोकप्रियता से घबराकर जो कि मेरे राजनैतिक विरोधियों की कठपुतली है । जायसवाल समाज व अन्य समाज मे छवि खराब करने के लिए अवैध रूप से बाइलॉज में अंकित शर्तो से अलग न कर तथा कथित साधारण सभा की बैठक में निर्णय लेकर सोशल मीडिया में दुष्प्रचार करने का काम कर रहे है ।

जो पूरी तरह से अबैध व विधि विरुद्ध है । सोशल मीडिया पर समाज विरोधी कार्य व धन के दुरुपयोग की बात फैलाई जा रही है । जो पूरी तरह से गलत है । जायसवाल सभा अतिथि व समाज पर वर्चस्व स्थापित करने और उस वर्चस्व को अनवरत कायम कर निहित स्वर्थ सिद्ध करने की कोशिश है । मेरे ऊपर जो आरोप लगाए गए है ।

उसकी ऑडिट कर ली जाए और मुझसे पूर्व में जो-जो अध्यक्ष रहे है । उनके कार्य काल की भी ऑडिट करा लिया जाए । स्थिति अस्पष्ट हो जाएगी । मेरे ऊपर आरोप सिद्ध हो जाएगा तो मैं कोई भी सजा को तैयार हूं । मेरे व मेरी कमेटी के द्वारा जायसवाल सभा अतिथि भवन में समाज के अराध्य देव की प्रतिमा स्थापित करने और धर्मशाला में तमाम कार्य कराए गए है । जो यह अराजक गुट सोच भी नही पाए ।

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...