गोवा में मिग 29 K लडाकू विमान क्रैश, बाल-बाल बचे पायलट

m29
गोवा में मिग 29 K लडाकू विमान क्रैश, बाल-बाल बचे पायलट

नई दिल्ली। गोवा में शनिवार को भारतीय नौसेना का मिग 29के विमान टेक ऑफ के कुछ समय बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया। विमान में मौजूद दोनों पायलटों ने कूदकर अपनी जान बचाई। नेवी के प्रवक्ता कमांडर विवेक मधवाल ने बताया, ‘मिग-29K ट्रेनर विमान के इंजन में आग लग गई। पायलट कैप्टन एम शोकखंड और लेफ्टिनेंट कमांडर दीपक यादव सुरक्षित बाहर निकले में कामयाब रहे हैं।’  

Naval Fighter Aircraft Mig 29k Crashed In Goa Both Pilots Safe :

मधवाल ने बताया कि मिग -29 K ट्रेनर विमान में इंजन में आग लग गई। पायलट कैप्टन एम शोकखंड और लेफ्टिनेंट कमांडर दीपक यादव ने सुरक्षित रूप से बाहर निकाल गए। मिग 29 के इंजन फेल होने के कारणों का पता नहीं चल सका है लेकिन कुछ रिपोर्ट में दावा किया गया कि विमान से कोई पक्षी टकराने के कारण ये हादसा हुआ है।  

नौसेना के सूत्रों ने पुष्टि की कि प्रशिक्षु पायलटों द्वारा उड़ाया जा रहा विमान एक खुले क्षेत्र में उतरा गया। प्रत्यक्षदर्शियों ने दुर्घटना के बाद दो पैराशूटों के साथ-साथ धुएं के विशाल ढेर को देखकर इसकी सूचना पुलिस को दी।एक आवासीय क्षेत्र में उतरने के बाद पायलटों को शुरुआत में स्थानीय निवासियों द्वारा मदद की गई और उन्हें सुरक्षित व सचेत बताया गया था।

मिग 29 के आईएनएस हंसा डाबोलिम में तैनात मिग 29 का विमान वाहक संस्करण है और विमान वाहक आईएनएस विक्रमादित्य के लिए नामित है।

नई दिल्ली। गोवा में शनिवार को भारतीय नौसेना का मिग 29के विमान टेक ऑफ के कुछ समय बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया। विमान में मौजूद दोनों पायलटों ने कूदकर अपनी जान बचाई। नेवी के प्रवक्ता कमांडर विवेक मधवाल ने बताया, 'मिग-29K ट्रेनर विमान के इंजन में आग लग गई। पायलट कैप्टन एम शोकखंड और लेफ्टिनेंट कमांडर दीपक यादव सुरक्षित बाहर निकले में कामयाब रहे हैं।'   मधवाल ने बताया कि मिग -29 K ट्रेनर विमान में इंजन में आग लग गई। पायलट कैप्टन एम शोकखंड और लेफ्टिनेंट कमांडर दीपक यादव ने सुरक्षित रूप से बाहर निकाल गए। मिग 29 के इंजन फेल होने के कारणों का पता नहीं चल सका है लेकिन कुछ रिपोर्ट में दावा किया गया कि विमान से कोई पक्षी टकराने के कारण ये हादसा हुआ है।   नौसेना के सूत्रों ने पुष्टि की कि प्रशिक्षु पायलटों द्वारा उड़ाया जा रहा विमान एक खुले क्षेत्र में उतरा गया। प्रत्यक्षदर्शियों ने दुर्घटना के बाद दो पैराशूटों के साथ-साथ धुएं के विशाल ढेर को देखकर इसकी सूचना पुलिस को दी।एक आवासीय क्षेत्र में उतरने के बाद पायलटों को शुरुआत में स्थानीय निवासियों द्वारा मदद की गई और उन्हें सुरक्षित व सचेत बताया गया था। मिग 29 के आईएनएस हंसा डाबोलिम में तैनात मिग 29 का विमान वाहक संस्करण है और विमान वाहक आईएनएस विक्रमादित्य के लिए नामित है।