1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. नवरात्रि स्पेशल: ऐसे करें कलश की स्थापना, माता रानी प्रसन्न हो भरेंगी भंडार

नवरात्रि स्पेशल: ऐसे करें कलश की स्थापना, माता रानी प्रसन्न हो भरेंगी भंडार

Navratri Special Know How To Set Up The Urn Mother Queen Will Be Happy

By आराधना शर्मा 
Updated Date

लखनऊ: नवरात्रि के पहले शुभ दिन 17 अक्टूबर 2020 को कलश स्थापना (घटस्थापना) शुभ मुहूर्त, सही समय और सही तरीके से करनी चाहिए। आइए जानें कैसे करें कलश की स्थापना…

पढ़ें :- नवरात्रि स्पेशल : इस नवरात्रि कोरोना रूपी असुर को भगाने के लिए ऐसे करें माता को प्रसन्न, लगाए 9 दिन ये 9 भोग

नवरात्रि कलश स्थापना सामाग्री

  • जौ बोने के लिए मिटटी का पात्र
  • साफ़ मिट्टी
  • मिटटी का एक छोटा घड़ा
  • कलश को ढकने के लिए मिट्टी का एक ढक्कन
  • गंगा जल
  • सुपारी
  • 1 या 2 रुपए का सिक्का
  • आम की पत्तियां
  • अक्षत / कच्चे चावल
  • मोली / कलावा / रक्षा सूत्र
  • जौ (जवारे)
  • इत्र (वैकल्पिक)
  • फुल और फुल माला
  • नारियल
  • लाल कपडा / लाल चुन्नी
  • दूर्वा घास

कलश स्थापना विधि

नवरात्रि में कलश स्थापना देव-देवताओं के आह्वान से पूर्व की जाती है। कलश स्थापना करने से पूर्व आपको कलश को तैयार करना होगा जिसकी सम्पूर्ण विधि इस प्रकार है…
सबसे पहले मिट्टी के बड़े पात्र में थोड़ी सी मिट्टी डालें। और उसमे जवारे के बीज डाल दें।

अब इस पात्र में दोबारा थोड़ी मिटटी और डालें। और फिर बीज डालें। उसके बाद सारी मिट्टी पात्र में डाल दें और फिर बीज डालकर थोड़ा सा जल डालें।(ध्यान रहे इन बीजों को पात्र में इस तरह से लगाएं कि उगने पर यह ऊपर की तरफ उगें। यानी बीजों को खड़ी अवस्था में लगाएं और ऊपर वाली लेयर में बीज अवश्य डालें।)

अब कलश और उस पात्र की गर्दन पर मौली बांध दें। साथ ही तिलक भी लगाएं। इसके बाद कलश में गंगा जल भर दें। इस जल में सुपारी, इत्र, दूर्वा घास, अक्षत और सिक्का भी दाल दें।
अब इस कलश के किनारों पर 5 अशोक के पत्ते रखें और कलश को ढक्कन से ढक दें। अब एक नारियल लें और उसे लाल कपड़े या लाल चुन्नी में लपेट लें। चुन्नी के साथ इसमें कुछ पैसे भी रखें।

पढ़ें :- इस नवरात्रि करना है माता रानी को प्रसन्न, आज शुरू कर दें ये खास काम

इसके बाद इस नारियल और चुन्नी को रक्षा सूत्र से बांध दें। तीनों चीजों को तैयार करने के बाद सबसे पहले जमीन को अच्छे से साफ़ करके उसपर मिट्टी का जौ वाला पात्र रखें। उसके ऊपर मिटटी का कलश रखें और फिर कलश के ढक्कन पर नारियल रख दें। आपकी कलश स्थापना संपूर्ण हो चुकी है। इसके बाद सभी देवी देवताओं का आह्वान करके विधिवत नवरात्रि पूजन करें। इस कलश को आपको नौ दिनों तक मंदिर में ही रखे देने होगा। बस ध्यान रखें सुबह-शाम आवश्यकतानुसार पानी डालते रहें।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...