नवाज शरीफ ने पाक संसद के विशेष सत्र में भारत पर लगाए गंभीर आरोप

नई दिल्ली। आतंकवाद के मुद्दे पर तनाव के दौर से गुजर रहे भारत पाकिस्तान के रिश्तों के बीच बुधवार को बुलाए गए पाकिस्तानी संसाद के विशेष सत्र के दौरान प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भारत पर गंभीर आरोप लगाए। शरीफ ने कश्मीर मुद्दे पर बातचीत के जरिए हल निकालने के पाकिस्तानी सरकार के प्रयासों को काफी ठहराते हुए कहा कि भारत ने हर बार शांति के रास्ते पर किए करारों को तोड़ा है। कश्मीर की जनता के दिलों में आजादी की भावना है पाकिस्तान कश्मीरियों की भावना को समझता है। भारतीय सेना ने आजादी की मांग कर रहे कश्मीरी लोगों के हीरो बुरहान बानी की हत्या कर दी। उन्होंने बानी को कश्मीरी जनता का हीरो बताते हुए अलगाववादी नेताओं को रिहा करने की मांग उठाई।




अपनी स्पीच में शरीफ ने कहा कि कश्मीर के मुद्दे का हल निकले बिना भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में शांति नहीं आ सकती। पाकिस्तानी सरकार कश्मीर की जनता के हक में हर मदद करने को तैयार है लेकिन इस मसले पर भारत का रवैया गलत है।

उन्होने कहा कि बारूदों के खेतों में रोजगार की फसल नहीं उग सकती। खून और बारूद से गरीबी को नहीं मिटाया जा सकता। पाकिस्तान किसी भी तरह से युद्ध नहीं चाहता। अगर उस पर युद्ध थोपा जाता है तो पाकिस्तान हर स्थिति का सामना करने के लिए तैयार है।

शरीफ ने उरी हमले के बाद हुए सर्जिकल स्ट्राइक को एक बार फिर नकारते हुए कहा कि भारत ने उरी हमले के बाद भारत की ओर से सीज फायर तोड़े जाने की बात कही। उन्होने कहा कि भारत की ओर से की गई फायरिंग में पाकिस्तानी सेना के दो जवान मारे गए। पूरा पाकिस्तान अपनी सीमाओं की रक्षा करने के लिए एक है। हम अपनी सीमाओं की रक्षा करते आए हैं, करते रहे हैं और करते रहेंगे।




वहीं दूसरी ओर नवाज शरीफ के सियासी विरोधियों का कहना है कि पाकिस्तान वर्तमान परिस्थितियों में अपनी कूटनीतिक असफलता के कारण कमजोर पड़ता दिख रहा है। दुनिया का कोई भी देश पाकिस्तान के साथ खड़ा होता नजर नहीं आ रहा। वैश्विक पटल पर पाकिस्तान की विश्वसनीयता कामय रखने में नवाज शरीफ की सरकार असफल रही है।

Loading...