मुकीम काला गैंग का इनामी बदमाश पुलिस मुठभेड़ में ढेर, पुलिसकर्मी शहीद

sabir

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में शामली जिले के कैराना क्षेत्र में मंगलवार देर रात पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में एक लाख रुपये का इनामी बदमाश मारा गया। इस मुठभेड़ में दो पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। पुलिस ने बुधवार को इसकी जानकारी दी। पुलिस के अनुसार, जिले के जंधेड़ी गांव के जंगल में देर रात हुई मुठभेड़ में मुकीम काला गैंग का एक लाख रुपये का इनामी बदमाश शाबिर ढेर हो गया। कैराना कोतवाल भगवत सिंह और सिपाही अंकित भी घायल हुए हैं। अस्पताल में सिपाही की मौत हो गयी।

Ncounter A Lump Sum Racket Of Rs One Lakh Pile In Police Encounter :

बाराबंकी से हुआ था फरार
कैराना के जंधेड़ी निवासी साबिर मई 2017 में बाराबंकी में पुलिस कस्टडी से उस वक्त फरार हो गया था, जब उसे सिद्धार्थनगर जेल से हरियाणा कोर्ट में पेशी पर ले जाया जा रहा था। उसके बाद से वह लगातार वारदात कर रहा था। साबिर पर रंगदारी, लूट, हत्या, डकैती के दर्जनों मुकदमे दर्ज हैं।

साबिर जंधेड़ी पर सहारनपुर की तनिष्क रॉबरी कांड, सिपाही राहुल ढाका से कारबाइन लूटकर उसकी हत्या करने जैसे संगीन मामले दर्ज हैं। उसको 2015 में एसटीएफ ने ही गिरफ्तार किया था।

सिपाही की हालत नाजुक
शामली में मुठभेड़ के दौरान कैराना थानाध्यक्ष भगवत सिंह और कांस्टेबल अंकित घायल हुए हैं। अंकित बागपत का रहने वाला है। उसकी हालत बेहद नाजुक बनी है। डॉक्टरों के मुताबिक, गोली कान से अंदर घुसी है और बाहर नहीं निकली है। दोनों को देर रात मेरठ के आनंद हॉस्पिटल में भर्ती कराया। यहां से अंकित को नाजुक हालत में दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया है।

दस माह पूर्व वहां से पेशी पर ले जाते समय वह हिरासत से फरार हो गया। मंगलवार रात एसओजी व पुलिस को सूचना मिली कि शाबिर अपने गांव आ रहा है। देर रात कई थानों की पुलिस व एसओजी ने जंगल में घेराबंदी कर ली। इसी दौरान शाबिर वहां से गुजरा और पुलिस को देखकर फायर करने लगा। जवाबी फायरिंग में शाबिर ढेर हो गया।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में शामली जिले के कैराना क्षेत्र में मंगलवार देर रात पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में एक लाख रुपये का इनामी बदमाश मारा गया। इस मुठभेड़ में दो पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। पुलिस ने बुधवार को इसकी जानकारी दी। पुलिस के अनुसार, जिले के जंधेड़ी गांव के जंगल में देर रात हुई मुठभेड़ में मुकीम काला गैंग का एक लाख रुपये का इनामी बदमाश शाबिर ढेर हो गया। कैराना कोतवाल भगवत सिंह और सिपाही अंकित भी घायल हुए हैं। अस्पताल में सिपाही की मौत हो गयी।बाराबंकी से हुआ था फरार कैराना के जंधेड़ी निवासी साबिर मई 2017 में बाराबंकी में पुलिस कस्टडी से उस वक्त फरार हो गया था, जब उसे सिद्धार्थनगर जेल से हरियाणा कोर्ट में पेशी पर ले जाया जा रहा था। उसके बाद से वह लगातार वारदात कर रहा था। साबिर पर रंगदारी, लूट, हत्या, डकैती के दर्जनों मुकदमे दर्ज हैं।साबिर जंधेड़ी पर सहारनपुर की तनिष्क रॉबरी कांड, सिपाही राहुल ढाका से कारबाइन लूटकर उसकी हत्या करने जैसे संगीन मामले दर्ज हैं। उसको 2015 में एसटीएफ ने ही गिरफ्तार किया था।सिपाही की हालत नाजुक शामली में मुठभेड़ के दौरान कैराना थानाध्यक्ष भगवत सिंह और कांस्टेबल अंकित घायल हुए हैं। अंकित बागपत का रहने वाला है। उसकी हालत बेहद नाजुक बनी है। डॉक्टरों के मुताबिक, गोली कान से अंदर घुसी है और बाहर नहीं निकली है। दोनों को देर रात मेरठ के आनंद हॉस्पिटल में भर्ती कराया। यहां से अंकित को नाजुक हालत में दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया है।दस माह पूर्व वहां से पेशी पर ले जाते समय वह हिरासत से फरार हो गया। मंगलवार रात एसओजी व पुलिस को सूचना मिली कि शाबिर अपने गांव आ रहा है। देर रात कई थानों की पुलिस व एसओजी ने जंगल में घेराबंदी कर ली। इसी दौरान शाबिर वहां से गुजरा और पुलिस को देखकर फायर करने लगा। जवाबी फायरिंग में शाबिर ढेर हो गया।