शरद पवार ने कहा- पुलवामा जैसी घटना ही महाराष्ट्र में लोगों का मूड बदल सकती है

sharad pawar
शरद पवार ने कहा- पुलवामा जैसी घटना ही महाराष्ट्र में लोगों का मूड बदल सकती है

मुंबई। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख शरद पवार ने शुक्रवार को कहा कि महाराष्ट्र में भाजपा नीत सरकार के खिलाफ बहुत नाराजगी है और पुलवामा जैसी घटना ही चुनाव के पहले इस स्थिति को बदल सकती है।  

Ncp Chief Sharad Pawar Said Pulwama Attack Like Incident Change Mood Of Maharashtra People :

पवार ने कहा, “2019 के लोकसभा चुनाव के पहले नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ बहुत गुस्सा था। लेकिन, पुलवामा हमले ने पूरी स्थिति बदल दी।” आगामी विधानसभा चुनाव के पहले मैं प्रदेश सरकार के खिलाफ बीते कुछ महीनों से लोगों में गुस्सा देख रहा हूं।’’ इस साल फरवरी में जम्मू कश्मीर में पुलवामा आतंकी हमले में अर्द्धसैनिक बल के 40 जवानों की मौत हो गयी थी। हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान के भीतर बालाकोट में आतंकी बेस पर हवाई हमला किया था।  

बता दें कि जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को एक आत्मघाती हमलावर ने सीआरपीएफ के काफिले को निशाना बनाया था। इस घटना में 40 जवान शहीद हो गए थे। इसका बदला लेते हुए मोदी सरकार ने 26-27 की दरमियानी रात को पाकिस्तान के बालाकोट में स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों को नेस्तानाबूत कर दिया था। पवार ने आगे कहा कि एयरस्ट्राइक ने मोदी सरकार की लोकप्रियता को बढ़ाने में मदद की। हालांकि उन्होंने दावा किया कि मोदी की लोकप्रियता महाराष्ट्र में काम नहीं आएगी क्योंकि लोग फडणवीस सरकार से नाराज हैं।

एनसीपी अध्यक्ष ने कहा, ‘विधानसभा चुनावों में भाजपा को हार मिलेगी। राष्ट्रवादियों से लोगों की अपेक्षाएं बढ़ी हैं। फडणवीस ने ऐसा कोई काम नहीं किया है जिससे कि वह सत्ता में वापस आ सकें।’ उन्होंने जोर देकर कहा कि कांग्रेस और एनसीपी महाराष्ट्र का विधानसभा चुनाव साथ मिलकर लड़ेगी। उन्होंने कहा, ‘हम ज्यादा धर्मनिरपेक्ष ताकतों को एक साथ लाने की कोशिश कर रहे हैं। हमने कांग्रेस से हाथ मिलाया है और अब हमारी कोशिश है कि बहुजन विकास अघाडी, समाजवादी पार्टी और अन्य छोटी पार्टियों को अपने साथ लेकर आएं।’  

मुंबई। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख शरद पवार ने शुक्रवार को कहा कि महाराष्ट्र में भाजपा नीत सरकार के खिलाफ बहुत नाराजगी है और पुलवामा जैसी घटना ही चुनाव के पहले इस स्थिति को बदल सकती है।   पवार ने कहा, "2019 के लोकसभा चुनाव के पहले नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ बहुत गुस्सा था। लेकिन, पुलवामा हमले ने पूरी स्थिति बदल दी।" आगामी विधानसभा चुनाव के पहले मैं प्रदेश सरकार के खिलाफ बीते कुछ महीनों से लोगों में गुस्सा देख रहा हूं।’’ इस साल फरवरी में जम्मू कश्मीर में पुलवामा आतंकी हमले में अर्द्धसैनिक बल के 40 जवानों की मौत हो गयी थी। हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान के भीतर बालाकोट में आतंकी बेस पर हवाई हमला किया था।   बता दें कि जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को एक आत्मघाती हमलावर ने सीआरपीएफ के काफिले को निशाना बनाया था। इस घटना में 40 जवान शहीद हो गए थे। इसका बदला लेते हुए मोदी सरकार ने 26-27 की दरमियानी रात को पाकिस्तान के बालाकोट में स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों को नेस्तानाबूत कर दिया था। पवार ने आगे कहा कि एयरस्ट्राइक ने मोदी सरकार की लोकप्रियता को बढ़ाने में मदद की। हालांकि उन्होंने दावा किया कि मोदी की लोकप्रियता महाराष्ट्र में काम नहीं आएगी क्योंकि लोग फडणवीस सरकार से नाराज हैं। एनसीपी अध्यक्ष ने कहा, 'विधानसभा चुनावों में भाजपा को हार मिलेगी। राष्ट्रवादियों से लोगों की अपेक्षाएं बढ़ी हैं। फडणवीस ने ऐसा कोई काम नहीं किया है जिससे कि वह सत्ता में वापस आ सकें।' उन्होंने जोर देकर कहा कि कांग्रेस और एनसीपी महाराष्ट्र का विधानसभा चुनाव साथ मिलकर लड़ेगी। उन्होंने कहा, 'हम ज्यादा धर्मनिरपेक्ष ताकतों को एक साथ लाने की कोशिश कर रहे हैं। हमने कांग्रेस से हाथ मिलाया है और अब हमारी कोशिश है कि बहुजन विकास अघाडी, समाजवादी पार्टी और अन्य छोटी पार्टियों को अपने साथ लेकर आएं।'