NCP की कांग्रेस को चेतावनी, ‘वीर सावरकर पर विवादित बुकलेट को वापस लिया जाए’

nawab
NCP की कांग्रेस को चेतावनी, 'वीर सावरकर पर विवादित बुकलेट को वापस लिया जाए'

मुंबई। महाराष्ट्र (Maharashtra) की उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) सरकार में कांग्रेस के साथ सहयोगी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) ने शनिवार को कांग्रेस के सेवा दल की उस विवादास्पद पुस्तिका को वापस लिए जाने की मांग की है। महाराष्ट्र में कांग्रेस के साथ गठबंधन की सरकार चलाने वाली एनसीपी के प्रवक्ता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक ने कहा, ‘हम कांग्रेस सेवा दल से उस विवादित बुकलेट को वापस लेने की मांग करते हैं जिसमें वीर सावरकर और नाथूराम गोडसे के बीच संबंधों की बात कही गई थी।’  

Ncp Warns Congress Disputed Booklet On Veer Savarkar Be Withdrawn :

नवाब मलिक ने कहा, व्यक्तिगत कमेंट नहीं होने चाहिए विशेषकर जब कोई शख्स जीवित न हो, इस बुकलेट को वापस लेना चाहिए।’ एनसीपी से पहले शिवसेना भी सावरकर को लेकर लिखीं गई बातों पर आपत्ति जताई है। शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, ‘नाथूराम गोडसे और विनायक सावरकर के बीच शारीरिक संबंध’ होने का दावा करने वाली कांग्रेस सेवादल की पुस्तिका को लेकर शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, “वीर सावरकर महान व्यक्ति थे, और हमेशा महान रहेंगे… एक वर्ग उनके खिलाफ बातें करता रहता है, चाहे वह कोई भी हो, लेकिन इससे उनके दिमाग में मौजूद गंदगी के बारे में पता चलता है।’ महाराष्ट्र में कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना की मिलीजुली सरकार है और सावकर को लेकर इससे पहले भी कांग्रेस और शिवसेना का आमना-सामना हो चुका है।  

सवारकर को मुस्लिम विरोधी बताकर नया पैंतरा खेला: भाजपा

महाराष्ट्र भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष रामेश्वर शर्मा ने कहा कि कांग्रेस लगातार सावरकर की छवि बिगाड़ने का प्रयास कर रही है। अब उसने उन्हें (सावरकर) मुस्लिम विरोधी बताकर नया पैंतरा खेला है। कांग्रेस को देश की जनता के सामने यह स्पष्ट करना चाहिए कि अगर सावरकर मुस्लिम विरोधी थे, तो क्या कांग्रेस मुस्लिम भक्त है? कांग्रेस सिर्फ इतिहास से खिलवाड़ ही नहीं करती, बल्कि उसने देश का सही इतिहास लिखने ही नहीं दिया।

भोपाल में कांग्रेस सेवादल के शिविर में बांटी गई थी किताब

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में इन दिनों कांग्रेस सेवादल का प्रशिक्षण शिविर चल रहा है। इसमें ‘वीर सावरकर कितने वीर’ शीर्षक से छापी गई बुकलेट बांटी गई थी। इसमें नाथूराम गोडसे और सावरकर को लेकर विवादित टिप्पणियां की गई हैं। लॉरी कॉलिंस और डॉमिनोक्यू लापियर द्वारा लिखित किताब ‘फ्रीडम एट मिडनाइट’ के हवाला देते हुए लिखा है कि गोडसे और सावरकर के बीच समलैंगिक संबंध थे। हालांकि, कांग्रेस सेवादल के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालजी देसाई ने कहा कि सेवादल के शिविर में बांटा गया साहित्य ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित है।

 

मुंबई। महाराष्ट्र (Maharashtra) की उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) सरकार में कांग्रेस के साथ सहयोगी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) ने शनिवार को कांग्रेस के सेवा दल की उस विवादास्पद पुस्तिका को वापस लिए जाने की मांग की है। महाराष्ट्र में कांग्रेस के साथ गठबंधन की सरकार चलाने वाली एनसीपी के प्रवक्ता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक ने कहा, 'हम कांग्रेस सेवा दल से उस विवादित बुकलेट को वापस लेने की मांग करते हैं जिसमें वीर सावरकर और नाथूराम गोडसे के बीच संबंधों की बात कही गई थी।'   नवाब मलिक ने कहा, व्यक्तिगत कमेंट नहीं होने चाहिए विशेषकर जब कोई शख्स जीवित न हो, इस बुकलेट को वापस लेना चाहिए।' एनसीपी से पहले शिवसेना भी सावरकर को लेकर लिखीं गई बातों पर आपत्ति जताई है। शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, 'नाथूराम गोडसे और विनायक सावरकर के बीच शारीरिक संबंध' होने का दावा करने वाली कांग्रेस सेवादल की पुस्तिका को लेकर शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, "वीर सावरकर महान व्यक्ति थे, और हमेशा महान रहेंगे... एक वर्ग उनके खिलाफ बातें करता रहता है, चाहे वह कोई भी हो, लेकिन इससे उनके दिमाग में मौजूद गंदगी के बारे में पता चलता है।' महाराष्ट्र में कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना की मिलीजुली सरकार है और सावकर को लेकर इससे पहले भी कांग्रेस और शिवसेना का आमना-सामना हो चुका है।   सवारकर को मुस्लिम विरोधी बताकर नया पैंतरा खेला: भाजपा महाराष्ट्र भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष रामेश्वर शर्मा ने कहा कि कांग्रेस लगातार सावरकर की छवि बिगाड़ने का प्रयास कर रही है। अब उसने उन्हें (सावरकर) मुस्लिम विरोधी बताकर नया पैंतरा खेला है। कांग्रेस को देश की जनता के सामने यह स्पष्ट करना चाहिए कि अगर सावरकर मुस्लिम विरोधी थे, तो क्या कांग्रेस मुस्लिम भक्त है? कांग्रेस सिर्फ इतिहास से खिलवाड़ ही नहीं करती, बल्कि उसने देश का सही इतिहास लिखने ही नहीं दिया। भोपाल में कांग्रेस सेवादल के शिविर में बांटी गई थी किताब मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में इन दिनों कांग्रेस सेवादल का प्रशिक्षण शिविर चल रहा है। इसमें 'वीर सावरकर कितने वीर' शीर्षक से छापी गई बुकलेट बांटी गई थी। इसमें नाथूराम गोडसे और सावरकर को लेकर विवादित टिप्पणियां की गई हैं। लॉरी कॉलिंस और डॉमिनोक्यू लापियर द्वारा लिखित किताब 'फ्रीडम एट मिडनाइट' के हवाला देते हुए लिखा है कि गोडसे और सावरकर के बीच समलैंगिक संबंध थे। हालांकि, कांग्रेस सेवादल के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालजी देसाई ने कहा कि सेवादल के शिविर में बांटा गया साहित्य ऐतिहासिक तथ्यों पर आधारित है।