एनडीए की तरफ से उपराष्ट्रपति उम्मीदवार वेंकैया नायडू से जुड़ी अहम बातें

नई दिल्ली। केन्द्र में सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) ने अपने उपराष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम. वेंकैया नायडू के नाम घोषित कर दिया है। साउथ के कद्दावर नेता और अपनी बेबाक अंजाद की  वजह से सुर्ख़ियों में रहने वाले नायडू के वैसे तो कई किस्से मशहूर हैं लेकिन हम आज आपको कुछ उनकी खास चीज़ें बताने जा रहें है जिसके लिए वे हमेशा याद किये जाते हैं

1 जुलाई, 1949 को नेल्लोर के चावतापालेम में जन्मे वेंकैया की वर्तमान उम्र 68 साल है। आपातकाल के दौरान जेपी आंदोलन से जुड़ने के बाद वैकया को राजनितिक पहचान मिली, उसी वक़्त उन्होंने जनता पार्टी को ज्वाइन किया था। कुछ सालों तक इस पार्टी का दामन थामने के बाद वैकया ने भाजपा का दामन थाम लिया फिर वे इसी पार्टी से 1978 से 85 तक वे दो बार विधायक भी रहे।

{ यह भी पढ़ें:- यूपी निकाय चुनाव 2017 परिणाम: भाजपा सबसे आगे, अब तक 14 नगर निगमों पर बढ़त }

1980-85 के बीच वेंकैया आंध्र प्रदेश में बीजेपी पार्टी के नेता रहे।1985-88 तक जनरल सेक्रेटरी रहे। 1988-93 तक राज्य का बीजेपी अध्यक्ष बनाया गया। सितंबर, 1993 से 2000 तक वे नेशनल जनरल सेक्रेटरी की पोस्ट पर भी रहे। वे 2002 से 2004 के बीच भारतीय जनता पार्टी के प्रेसिडेंट भी रहे।

वेंकैया पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वायजेपी के करीबी थे, जिस वजह से उन्हें वाजपेयी सरकार में केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री का दायित्व सौंपा गया था। मौजूदा वक्त में वेकैंया नायडू शहरी विकास, आवास तथा शहरी गरीबी उन्‍मूलन और संसदीय कार्य मंत्री हैं। नायडू कभी भी लोकसभा सांसद नहीं रहे। वे कर्नाटक और फिलहाल राजस्थान से तीन बार राज्य सभा मेंबर रह चुके हैं।

{ यह भी पढ़ें:- गुजरात में गलत आंकड़े बताकर फंसे राहुल गांधी को भाजपा ने घेरा }

Loading...