1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. न चार कंधा मिला और न एंबुलेंस, ई-रिक्शा से पिता का शव श्मशान लेकर पहुंचा बेटा

न चार कंधा मिला और न एंबुलेंस, ई-रिक्शा से पिता का शव श्मशान लेकर पहुंचा बेटा

कोरोना महामारी ने रिश्तों को तार तार करके रख दिया है। इसने बता दिया कि रिश्ते सब मोह माया हैं, जो जिंदा रहते आप से बहुत प्यार करते हैं, पर मरने के बाद लाश तक के नजदीक नहीं आते।आजकल इस महामारी के दौर में न शास्त्र, न पुरोहित, न चार कंधे और न ही एंबुलेंस...

By संतोष सिंह 
Updated Date

अलीगढ़। कोरोना महामारी ने रिश्तों को तार तार करके रख दिया है। इसने बता दिया कि रिश्ते सब मोह माया हैं, जो जिंदा रहते आप से बहुत प्यार करते हैं, पर मरने के बाद लाश तक के नजदीक नहीं आते। आजकल इस महामारी के दौर में न शास्त्र, न पुरोहित, न चार कंधे और न ही एंबुलेंस…

पढ़ें :- सीएम योगी का अखिलेश यादव पर बड़ा हमला, बोले-कंस को पैदा करके जवाहर बाग की घटना जरूर करवा दिए

ऐसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में सोमवार को एक बेटा अपने पिता के शव को ई-रिक्शा से श्मशान लेकर पहुंचा। सांस उखड़ने के चलते बेड न मिलने पर अस्पताल से लौटाया गया तो रास्ते में ही मौत आ गई। परिजन शव के अंतिम दर्शन तक नहीं कर पाए हैं।

बता दें कि लक्ष्मीपुरी, सरायहकीम निवासी चेतन गुप्ता ने बताया कि उनके पिता रामेन्द्र प्रसाद गुप्ता की सुबह तबियत बिगड़ने लगी थी। सांस फूलने पर पर नजदीक में ही जिला मलखान सिंह अस्पताल में भर्ती कराने के लिए पहुंचे तो वहां जांच कराने के लिए कहा गया है। उनको बताया कि गया इस समय ऑक्सीजन की जरूरत है तो दीनदयाल ले जाने को कहा गया है। बाहर लाने के दौरान ही पिता ने दम तोड़ दिया।

लाचार बेटे ने पिता के शव को एंबुलेंस से घर ले जाने के लिए गुहार लगाई लेकिन कोई सहारा नहीं मिला। जिसके बाद बेटा पिता के शव को मजबूरन ई-रिक्शा में आईटीआई रोड स्थित मुक्तिधाम लेकर पहुंचा है।

पढ़ें :- Complaint to Aligarh SSP : मैं एक मॉडल हूं और मुझे नहीं चाहिए ऐसा पति, पत्नी बोली- दाढ़ी नहीं कटवाई तो ले लूंगी तलाक
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...